Jump to content
Sign in to follow this  
  • entries
    284
  • comments
    3
  • views
    10,960

About this blog

ABC of Apbhramsa

Entries in this blog

 

देखिये भारत की तस्वीर प्रश्न 15-17

मित्रों, जिस प्रकार नमि व विनमि के विजयार्ध पर्वत पर जाकर बसने के कारण विद्याधरवंश का उद्भव हुआ उसी प्रकार घर, परिवार, समाज, नगर व देश के उद्भव व विकास के भी कुछ इसी प्रकार के कारण रहे हैं। प्रश्न 15                  ऋषभदेव का प्रथम आहार किसने, कहाँ और कब दिया ? उत्तर 15               हस्तिनापुर के राजा श्रेयांस ने, हस्तिनापुर में, वैशाखशुक्ल तृतीया को दिया। प्रश्न 16                  राजा श्रेयांस ने ऋषभदेव को आहार में क्या दिया ? उत्तर 16                इक्षु रस प्रश्न

Sneh Jain

Sneh Jain

 

देखिये भारत की तस्वीर प्रश्न 9-11

प्रश्न       11           नमि और विनमि कौन थे ? उत्तर     11           नमि और विनमि, ऋषभदेव के साले कच्छप और महाकच्छप के पुत्र थे। प्रश्न       12           राजा ऋषभ ने नमि और विनमि को कौन सा क्षेत्र प्रदान किया था ? उत्तर     12           विजयार्ध पर्वत की उत्तर और दक्षिण श्रेणी। प्रश्न       13           नमि व विनमि ने विजयार्ध पर्वत की उत्तर व दक्षिण श्रेणियाँ प्राप्त कर क्या किया ? उत्तर     13           नमि विजयार्ध पर्वत की उत्तर श्रेणी में तथा विनमि विजयार्ध पर्वत

Sneh Jain

Sneh Jain

 

देखिये भारत की तस्वीर प्रश्न 9-11

प्रश्न       9              नाभिराज के पुत्र ऋषभ का देवताओं ने अभिषेक कहाँ किया ? उत्तर     9              सुमेरुपर्वत पर प्रश्न       10           राजा ऋषभ के लिए वैराग्य का क्या कारण बना ? उत्तर     10           नृत्य करती नीलांजना का प्राण त्यागना प्रश्न       11           ऋषभदेव ने संन्यास कहाँ लिया ? उत्तर     11           प्रयाग उपवन में

Sneh Jain

Sneh Jain

 

समता भाव ही रत्नत्रय पालन का आधार है

आचार्य योगीन्दु कहते हैं कि समता भाव वाले के ही सम्यग्दर्शन, ज्ञान और चारित्र पलते हैं। समता भाव से रहित के दर्शन, ज्ञान और चरित्र में से एक भी नहीं पलता। देखिये इससे सम्बन्धित दोहा - 40.   दंसणु णाणु चरित्तु तसु जो सम-भाउ करेइ।       इयरहँ एक्कु वि अत्थि णवि जिणवरु एउ भणेइ।। अर्थ - जो शान्त भाव को धारण करता है, उसके ही दर्शन, ज्ञान और चारित्र है।, अन्य (समभाव से रहितों) के (इन तीनों में से) एक भी नहीं है, जिनेन्ददेव इस प्रकार कहते हैं। शब्दार्थ - दंसण-दर्शन, णाणु -ज्ञान, चरि

Sneh Jain

Sneh Jain

 

रत्नत्रय की नींव शान्त भाव

आचार्य योगीन्दु कहते हैं कि दर्शन, ज्ञान और चारित्र धारण करना तभी संभव है जब शान्त भाव हो। अत- दर्शन, ज्ञान और चारित्र के पालन से पहले भावों को शान्त रखने का अभ्यास करना चाहिए। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 40.   दंसणु णाणु चरित्तु तसु जो सम-भाउ करेइ।       इयरहँ एक्कु वि अत्थि णवि जिणवरु एउ भणेइ।। अर्थ - जो शान्त भाव को धारण करता है, उसके ही दर्शन, ज्ञान और चारित्र है।, अन्य (समभाव से रहितों) के (इन तीनों में से) एक भी नहीं है, जिनेन्ददेव इस प्रकार कहते हैं। शब्दार्थ -

Sneh Jain

Sneh Jain

 

देखिये भारत की तस्वीर प्रश्न 6 -8

प्रश्न  6      कल्पवृक्षों के नष्ट हो जाने पर प्रजा ने राजा ऋषभ से क्या कहा \ उत्तर 6      प्रजा ने कहा] हे राजन! हम भूख की मार से मरे जा रहे हैं। इस समय              खान पान व जीवन जीने के क्या उपाय है \ प्रश्न  7      प्रजा की करुण पुकार सुनकर राजा ऋषभ ने क्या कहा \ उत्तर 7      राजा ऋषभ ने उन्हें असि] मसि, कृषि, वाणिज्य और दूसरी अन्य              विद्याओं की शिक्षा दी। प्रश्न  8      राजा ऋषभ का विवाह किससे हुआ \ उत्तर 8      नन्दा व सुनन्दा

Sneh Jain

Sneh Jain

 

प्रश्न 3--5

प्रश्न 3       मरुदेवी ने रात मे देखे गये स्वप्न किसको बताये ? उत्तर  महाराज नाभिराज को प्रश्न 4 स्वप्न सुनकर नाभिराज ने मरुदेवी को क्या कहा ? उत्तर - तुम्हारे त्रिभुवन-विभूषण पुत्र होगा प्रश्न 5  मरुदेवी के पुत्र का क्या नाम था ? उत्तर ऋषभ कुमार, आदि कुमार

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कर्मो का संवर व निर्जरा करनेवाले की पात्रता

आचार्य योगिन्दु स्पष्ट शब्दों में कहते हैं कि कर्मों की निर्जरा व संवर करने वाला योग्य पात्र वही है जो आसक्ति को छोड़कर शान्त भाव धारण करता है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 39.   कम्मु पुरक्किउ सो खवइ अहिणव पेसु ण देइ।       संगु मुएविणु जो सयलु उवसम-भाउ करेइ।। अर्थ - वह (ही) पूर्व में कियेे कर्म को नष्ट करता है और नये (कर्म) के प्रवेश को (अपने में) स्थान नहीं देता, जो समस्त आसक्ति को छोड़कर शान्त भाव धारण करता है। शब्दार्थ - कम्मु-कर्म को, पुरक्किउ-पूर्व में किये गये, स

Sneh Jain

Sneh Jain

 

संवर और निर्जरा का समय

आचार्य योगिन्दु कहते हैं कि संवर और निर्जरा करने का अभ्यास आत्मस्वरूप में लीन होकर ही किया जा सकता है। समस्त विकल्प इस आत्म विलीन अवस्था में ही नष्ट होते हैं। ध्यान के समय इसका अभ्यास करने के बाद व्यक्ति धीरे-धीरे प्रत्येक स्थिति में तटस्थ रहने का अभ्यासी हो जाता है और संसारी कार्य करता हुआ भी वह विकल्पों से दूर रहता है। इस प्रकार उसकी संवर व निर्जरा की अवधि धीरे-धीरे बढ़ती रहती है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा -  38.   अच्छइ जित्तिउ कालु मुणि अप्प-सरूवि णिलीणु।       संवर-णिज्जर

Sneh Jain

Sneh Jain

 

समभाव पूर्वक की गयी क्रिया ही संवर का कारण है

आचार्य योगीन्दु कहते हैं कि ज्ञानी (मुनि) के द्वारा समभावपूर्वक की गयी क्रिया ही उसके पुण्य और पाप के संवर का कारण होती है। देखिये इससे सम्बन्धित निम्न दोहा - 37.   बिण्णि वि जेण सहंतु मुणि मणि सम-भाउ करेइ।         पुण्णहँ पावहँ तेण जिय संवर-हेउ हवेइ।। अर्थ -  (फिर) जिससे दोनों (सुख और दुःख) को ही सहता हुआ मुनि मन में सम भाव धारण करता है। इसलिए हे जीव! वह पुण्य और पाप के संवर (कर्म निरोध) का कारण होता है। शब्दार्थ - बिण्णि-दोनों को, वि-ही, जेण-जिससे, सहंतु -सहता हुआ, मुणि-मुन

Sneh Jain

Sneh Jain

 

ब्लाँग से सम्बन्धित नवीन सूचना

ब्लागस मित्रों, जयजिनेन्द्र। परमात्मप्रकाश पर ब्लाँग लिखने से पूर्व मैंने (पउमचरिउ) जैन रामकथा के प्रमुख पात्रों का चरित्र चित्रण किया था। उसके माध्यम से हम यह जान चुके थे कि जैन रामकथा भारतीय समाज की एक जीती जागती तस्वीर है। उसमें हमने यह देखा कि हम अपने विवेक से या फिर हम दूसरों की प्रेरणा से जो कुछ कर रहे हैं उसी का परिणाम भुगत रहे हैं। पिछले आरम्भिक ब्लाँग में पात्रों के चरित्र चित्रण के बाद मुझे लगा कि क्यों न मैं इस महत्वपूर्ण ग्रंथ को जो भारतीय समाज की जीती जागती तस्वीर है अपने ब्लाग

Sneh Jain

Sneh Jain

 

ज्ञानी व्यक्ति की क्रिया

आचार्य योगीन्दु ज्ञानीव्यक्ति के विषय में कहते हैं कि वह दुःख और सुख को समता भाव से सहता है, जिसके कारण उसके कर्मों की निर्जरा होती है और वह आसक्ति से रहित कहा जाता है।  देखिये इससे सम्बन्धित दोहा - 36.   दुक्खु वि सुक्खु सहंतु जिय णाणिउ झाण-णिलीणु।      कम्महँ णिज्जर-हेउ तउ वुच्चइ संग-विहीणु।।। अर्थ - दुःख और सुख को सहता हुआ ध्यान में पूर्णरूप से विलीन ज्ञानी जीव निर्जरा (कर्मों के क्षय) का कारण होता है, तब वह आसक्ति से रहित कहा जाता है।  शब्दार्थ - दुक्खु-दुःख, वि-और, सुक्

Sneh Jain

Sneh Jain

 

सद्बोधात्मक ज्ञान ही स्थिर ज्ञान है

स्वदर्शन के बाद आचार्य योगीन्दु ज्ञान के विषय में स्पष्टरूप से कहते हैं कि जो ज्ञान सम्यक्दर्शन होने में कारण है तथा जो वस्तु के भेओ को स्पष्टतः जानता है वह सद्बोधात्मक ज्ञान ही स्थिर ज्ञान है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 35.   दंसण-पुव्वु हवेइ फुडु जं जीवहँ विण्णाणु।       वत्थु-विसेसु मुणंतु जिय तं मुणि अविचलु णाणु।। अर्थ -दर्शन का कारण (तथा) वस्तु के भेदों को जानता हुआ जो जीवों का स्पष्ट निश्चयात्मक (सद्बोधात्मक) ज्ञान है उसको (तू) अचल ज्ञान समझ। शब्दार्थ - दंसण-पु

Sneh Jain

Sneh Jain

 

स्व दर्शन क्या है ?

आचार्य योगिन्दु कहते हैं कि स्व दर्शन के बिना आत्मा का ध्यान संभव नहीं है, इसलिए सर्वप्रथम स्वदर्शन को जानना आवश्यक है। स्वदर्शन के विषय में वे कहते हैं कि जीवों का पदार्थ के भेद रहित सब पदार्थों का जो मुख्य ग्रहण है, वह ही स्व दर्शन है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 34.   सयल-पयत्थहँ जं गहणु जीवहँ अग्गिमु होइ।       वत्थु-विसेस-विवज्जियउ तं णिय-दंसणु जोइ।। अर्थ - जीवों का पदार्थ के भेद रहित सब पदार्थों का जो मुख्य ग्रहण (अधिगम) है, उसको (तू)       निज (स्व) दर्शन जान।

Sneh Jain

Sneh Jain

 

आत्मा का ध्यान ही मोक्ष प्राप्ति का सही मार्ग है

आचार्य योगीन्दु पुनः इसी बात को दृढता के साथ कहते हैं कि रत्नत्रययुक्त आचरण के साथ आत्मा का ध्यान करनेवाले ज्ञानी निश्चय से मुक्ति को प्राप्त होते हैं। देखिये इससे सम्बन्धित दोहा - 33.   अप्पा गुणमउ णिम्मलउ अणुदिणु जे झायंति।       ते पर णियमे ँ परम-मुणि लहु णिव्वाण लहंति।। अर्थ - जो प्रतिदिन विशुद्ध और गुणमय आत्मा का प्रतिदिन ध्यान करते हैं, मात्र वे (ही)  श्रेष्ठ मुनि निश्चय से शीघ्र मुक्ति को प्राप्त करते हैं। शब्दार्थ - अप्पा- आत्मा का, गुणमउ-गुणमय, णिम्मलउ-विशुद्ध,  अणुद

Sneh Jain

Sneh Jain

 

रत्नत्रय मोक्षपद प्राप्ति का प्रथम सोपान

आचार्य योगिन्दु यहाँ मोक्षपद अर्थात शाश्वत शान्तिपद प्राप्ति की सही राह बताते हैं। वे कहते हैं कि जो व्यक्ति विशुद्ध रत्नत्रय से ही आत्मस्वरूप की प्राप्ति होना मानते हैं तथा मोक्षपद प्राप्ति के इच्छुक हैं वे ही अपनी आत्मा का ध्यान कर मोक्षपद प्राप्त कर सकते हैं। इस प्रकार इस दोहे में योगिन्दुदेव ने मोक्षपद प्राप्ति का प्रथम सोपान रत्नत्रय को माना है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 32.   जे रयण-त्तउ णिम्मलउ णाणिय अप्पु भणंति।       ते आराहय सिव-पयहँ णिय अप्पा झायंति।। अर्थ - ज

Sneh Jain

Sneh Jain

 

रत्नत्रय के आराधक का लक्षण

आचार्य योगिन्दु कहते हैं कि सच्चे अर्थ में रत्नत्रय का आराधक वही है जिसका ध्येय मात्र एक गुणों का आवास आत्मा है। गुणनिधि आत्मा का ध्यान ही शुद्ध भावों का जनक है। व्यवहारिकरूप में भी यह देखा जाता है कि व्यक्ति का आन्तरिक विकास उसके शुद्ध भावों पर ही आधारित है जबकि बाहरी विकास मात्र दिखावे पर आधारित है। आन्तरिक विकास शाश्वत है जबकि बाहरी विकास क्षणिक और परिवर्तनशील है। आन्तरिक विकास से व्यक्ति सुख-दुःख से कम प्रभावित होता है जबकि बाहरी विकास जरा से दुःख में भी व्यक्ति को आहत कर देता है। इसीलिए रत्

Sneh Jain

Sneh Jain

 

स्वकीय शुद्ध स्वभाव ही चारित्र है

ज्ञान के विषय में संक्षेप में कथन करने के बाद आचार्य चारित्र के विषय में संक्षेप में कहते हैं कि स्वकीय शुद्ध भाव ही चारित्र है और यह चारित्र स्व और पर को समझन के बाद पर स्वभाव का त्याग करने पर फलित होता है। यह है आचार्य योगीन्दु की विचक्षणता। उन्होंने विशालकाय चारित्र को स्वकीय शुद्धभाव की नींव पर टिका दिया। स्वकीय शुद्धभाव की नींव पर टिका हुआ चारित्ररूपी महल का कथन कर शुद्ध चारित्र का निर्वाह बहुत आसान कर दिया। व्यक्ति प्रत्येक क्रिया अपने भाव से करता है। अतः शुद्धभावपूर्वक की गयी क्रिया शुद्ध

Sneh Jain

Sneh Jain

 

द्रव्यों की सही समझ ही ज्ञान है

आचार्य योगीन्दु ज्ञान के विषय में कहते हैं कि जो द्रव्य जिस तरह स्थित है उसको जो उस ही प्रकार जानता है, आत्मा के जानने का वह सही स्वभाव ही ज्ञान है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 29.     जं जह थक्कउ दव्वु जिय तं तह जाणइ जो जि।         अप्पहं केरउ भावडउ णाणु मुणिज्जहि सो जि।।29।। अर्थ - जो द्रव्य जिस तरह स्थित है (और) उसको जो (आत्मा) उस ही प्रकार जानता है, (उस) आत्मा के उस स्वभाव (सहज गुण) को ही तू ज्ञान समझ। शब्दार्थ - जं - जो, जह-जिस प्रकार, थक्कउ-स्थित, दव्वु -द्रव्य,

Sneh Jain

Sneh Jain

 

आगे सम्यक्ज्ञान व चारित्र का कथन किये जाने की सूचना

आचार्य योगिन्दु ने द्रव्यों के कथन के साथ पिछले दोहों में सम्यग्दर्शन के कथन को पूरा किया। अब वे सिद्धत्व की प्राप्ति के लिए सम्यग्ज्ञान व चारित्र का कथन करेंगे। इसी सूचनात्मक कथन से सम्बन्धित देखिये इनका अग्रिम दोहा - 28.     णियमे ँ कहियउ एहु मइँ ववहारेण वि दिट्ठि।        एवहि ँ णाणु चरित्तु सुणि जे ँ पावहि परमेट्ठि।। अर्थ -. नियमपूर्वक मेरे द्वारा व्यवहार (नय) से यह ही (सम्यक्) दर्शन कहा गया। अब तू ज्ञान और चरित्र को सुन, जिससे तू परम पूज्य (सिद्धत्व) को प्राप्त करे। शब्दा

Sneh Jain

Sneh Jain

 

द्रव्यों का ज्ञान ही शान्ति का मार्ग है

समस्त द्रव्यों के बारे में मूलभूत जानकारी देने के बाद आचार्य योगिन्दु स्पष्टरूप से कहते हैं कि प्रत्येक द्रव्य के मूल स्वभाव को समझकर ही दुःख व सुख के कारणों को समझा जा सकता है। तभी दुःख के कारणों से बचकर तथा सुख के कारणों में लगकर ही शान्ति के मार्ग से श्रेष्ठ लोक मोक्ष में जाया जा सकता है। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 27.     दुक्खहँ कारणु मुणिवि जिय दव्वहँ एहु सहाउ।         होयवि मोक्खहँ मग्गि लहु गम्मिज्जइ पर-लोउ।। अर्थ - हे जीव! द्रव्यों के इस स्वभाव कोे दुःख का कारण ज

Sneh Jain

Sneh Jain

 

संसार भ्रमण का कारण द्रव्य ही हैं

द्रव्यों का संक्षिप्त में स्पष्टरूप से कथन करने के बाद आचार्य योगिन्दु कहते हैं कि जीवों की क्रिया का कारण ये द्रव्य ही हैं। इन द्रव्यों के फलस्वरूप ही जीव विभिन्न प्रकार के कर्म करते हैं। इन कर्म के कारण ही जीव चारों गतियों के दुःखों को सहन करते हुए संसार में भ्रमण करते हैं। देखिये इससे सम्बन्धित अग्रिम दोहा - 26.     एयइँ दव्वइँ देहियहँ णिय-णिय-कज्जु जणंति।         चउ-गइ-दुक्खु सहंत जिय ते ँ संसारु भमंति।।26।। अर्थ - ये द्रव्य जीवों के लिए अपने- अपने कार्य को उत्पन्न करते हैं। उ

Sneh Jain

Sneh Jain

 

द्रव्यों की स्थिति

आचार्य योगिन्दु इन द्रव्यों की स्थिति के विषय में कहते हैं कि ये सभी द्रव्य लोकाकाश को धारण कर यहाँ संसार में एक में मिले हुए अपने-अपने गुणों में रहते हैं। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 25.       लोयागासु धरेवि जिय  कहियइँ  दव्वइँ जाइँ।          एक्कहिं मिलियइँ इत्थु जगि सगुणहि णिवसहि ताइँ।। अर्थ - हे जीव! (ये) जो द्रव्य कहे गये हैं वे सब लोकाकाश को धारण कर यहाँ संसार में एक में मिले हुए निजी (आत्मीय)े गुणों में रहते हैं। शब्दार्थ - लोयागासु -लोकाकाश को, धरेवि-धारणकर, ज

Sneh Jain

Sneh Jain

 

द्रव्यों के प्रदेश का कथन

आचार्य योगीन्दु द्रव्यों के प्रदेशों के विषय में कहते हैं कि धर्म, अधर्म और जीव असंख्य प्रदेशी हैं, आकाश अनन्त प्रदेशी है तथा पुद्गल बहु प्रदेशी है। काल का कोई प्रदेश नहीं है। इसीलिए आचार्य कुन्दकुन्द ने पंचास्तिकाय में धर्म, अधर्म, जीव, आकाश और पुद्गल को सम्मिलित किया है, काल द्रव्य को नहीं किया। देखिये इससे सम्बन्धित आगे का दोहा - 24.       धम्माधम्मु वि एक्कु जिउ ए जि असंख्य-पदेस।          गयणु अणंत-पएस मुणि बहु-विह पुग्गल-देस।। अर्थ - धर्म, अधर्म और एक जीव इन (तीनों) को ही तू

Sneh Jain

Sneh Jain

 

द्रव्यों का गमन और आगमन से सम्बन्ध

आचार्य योगीन्दु द्रव्यों के गमन और आगमन की क्रिया के सम्बन्ध में बताते हैं कि जीव व पुद्गल आवागमन करते हैं। जीव द्रव्य का चारों गतियों में आवागमन होता है और पुद्गल द्रव्य का भी जीव द्रव्य के द्वारा इधर. उधर होना देखा जाता है। इन दो द्रव्यों को छोड़कर बाकी अन्य चारों धर्म, अधर्म, आकाश व काल द्रव्य जीव व पुद्गल द्रव्य की भाँति आवागमन से रहित है। देखिये इससे सम्बन्धित परमात्मप्रकाश का आगे का दोहा - 23.       दव्व चयारि वि इयर जिय गमणागमण-विहीण।           जीउ वि पुग्गलु परिहरिवि पभणहि ँ णाण

Sneh Jain

Sneh Jain

Sign in to follow this  
×
×
  • Create New...