Jump to content
  • Blogs

    1. दसलक्षण पर्व को दसलक्षण पर्व ही बोलें*

      आज मैं आप सभी का ध्यान एक बात की ओर आकर्षित करना चाहता हूं। 
            हम सब लोग हमारे *दसलक्षण पर्व* को *पर्युषण* बोलते हैं, और *पर्यूषण* के नाम से ही जानते हैं। इतना ही नहीं हमारे *दिगंबर जैन समाज के अधिकांश लोग इसे पर्यूषण ही कहते हैं,* जबकि वास्तविकता यह है कि *पर्यूषण श्वेतांबर परम्परा में कहा जाता है, जो 8 दिन के होते हैं। जबकि दिगम्बर परम्परा में दसलक्षण पर्व 10 दिन के होते हैं।* और खास बात यह होती है, कि *जिस दिन हमारे दसलक्षण पर्व प्रारम्भ होते हैं, उस दिन पर्युषण पर्व समाप्त होते हैं।*

           *हमारे दिगंबर परम्परा में  दसलक्षण पर्व, 10 धर्मो पर आधिरत होते हैं।* इन दस धर्म में *उत्तम क्षमा, उत्तम मार्दव, उत्तम आर्जव, उत्तम शौच,  उत्तम सत्य, उत्तम संयम, उत्तम तप, उत्तम त्याग, उत्तम अकिंचन और उत्तम ब्रह्मचर्य होते हैं।* चूंकि हम प्रत्येक दिन एक धर्म की आराधना करते हुए उसे अपने जीवन में अंगीकार करते हैं, और साधना को निरंतर बढ़ाते चले जाते हैं, तो इन्हीं दस धर्मों के कारण इन्हें *दसलक्षण महापर्व* कहा गया है।
            तो कृपया निवेदन है कि हम इन्हें दसलक्षण पर्व के नाम से ही संबोधित  करें। 

      सादर
      *दिलीप जैन शिवपुरी*

       🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

    2. *दिमाग लगाओ 🙇‍♀ तीर्थस्थान के नाम बताओ*🙏👍🙏👍


       🔓1)🌙🌕
      🔑1) 

      🔓2)
      🔑2) 

      🔓3) 💎🌕
      🔑3) 

      🔓4) 🦁
      🔑4) 

      🔓5) 🐘पुर
      🔑5) 

      🔓6) 👣
      🔑6)

      🔓7) 🍞🌕
      🔑7) 

      🔓8) 👂🔔
      🔑8) 

      🔓9) 8⃣👣
      🔑9)

      🔓10) 🍞
      🔑10) 

      🔓11) 👏🏼 🗻
      🔑11) 

      🔓12)🌙🚶🏽
      🔑12) 

      🔓13) 🌺😬
      🔑13) 

      🔓14) 👀
      🔑14) 

      🔓15) 🍌sh⛰
      🔑15)

      🔓16)Taa🎨
      🔑16) 

      🔓17) o 🌊 यां
      🔑17)

      🔓18) 🐚🙏
      🔑18) 

      🔓19) 👑🏠
      🔑19) 

      🔓20) 🐍🙏
      🔑20) 

      🔓21) 🥇
      🔑21) 

      🔓22) 💪सा
      🔑22)

      🔓23)🤵🏻👂🏼aa
      🔑23) 

      🔓24) 🎼
      🔑24) 

      🔓25) श्री👣
      🔑


      🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀🏆🚴‍♀

      • प्रथमोदय भाग 1-2, 
      • अरुणोदय भाग 1-2, 
      • ज्ञानोदय भाग 1-4

      कुल आठ भागों का सैट मात्र 200/- में

       नर्सरी से लेकर 8 वी तक के बच्चों के लिए मल्टीकलर आर्ट पेपर पर चित्रों से सहित 

      जो बच्चे पाठशाला नहीं जा पाते.  उनके लिए पर्वराज  पर्युषण में उपहार स्वरुप भेंट कर सकते हैं.  आज ही आर्डर करें.

      धर्मोदय विद्यापीठ सागर (मध्यप्रदेश) 7582986222 , +91 94249 51771

      आर्डर करने के    Pay Now  लिए बटन दबाएं 

      अब  दस लक्षण पर्व  के बाद फिर से उपलब्ध होआ 

       

      KOLARGH.jpg

      • 0
        entries
      • 0
        comments
      • 176
        views

      No blog entries yet

  • Who's Online   0 Members, 0 Anonymous, 8 Guests (See full list)

    There are no registered users currently online

  • Member Statistics

    2,317
    Total Members
    161
    Most Online
    Sangeeta jain
    Newest Member
    Sangeeta jain
    Joined
×
×
  • Create New...