Jump to content
  • Blog Entries

    • By सुधीर कासलीवाल in आज का नियम 10
      ..........🙏 जय जिनेन्द्र 🙏🙏 नमस्ते 🙏........
      * शास्त्रों में लिखा है हमे रोज़ एक नियम/त्याग लेना ही चाहिये । 
      * सभी धर्मो में त्याग /नियम को बहुत महत्व दिया गया है ।
      * त्याग / नियम कितना भी छोटा क्यों न हो (सिर्फ 10 मिनिट का भी) बहुत अशुभ कर्म नष्ट होते हैं।
      * रोज़ कुछ त्याग करने से असंख्यात बुरे कर्मो की निर्ज़रा (क्षय होना) होती है
       * नरक गति का बंध अगर हमारा हो चुका है तो हम किसी भी तरह  के नियम जीवन में नहीं ले पाते हैं  ।
      दिनांक  - 30 - 5 - 2020
       ------------------------------
      "" आप चाहे तो सिर्फ आज के लिये ये नियम / त्याग भी ले सकते हैं या और 
      कोई भी नियम अपने अनुसार ले सकते हैं  
      🙏 आज ज्येष्ठा शुक्ल की अष्टमी है * ।आज  शनिवार है * । * आज  अष्टमी पर्व है आज ज़मीकंद खाने के त्याग (नियम एक समय के लिए भी के सकते हैं दिक़्क़त हो तो ) *🙏
           
         🔻विनम्र आग्रह🔻 
      🐄🐈  एक रोटी या कुछ  भी जीव दया के लिए हम भी देवे और अपने सभी जानकारों को भी रोज़ ऐसा करने के लिए प्रेरित करें 🙏🙏  
       🙏🙏 निवेदन :-(शहर में विराजित साधू संतो के दर्शन की भावना  रखे )
      आज - 30 - 5 - 2020 एक दिन का  संकल्प करना चाहते हैं तो प्रति उत्तर में  नियम / त्याग 
        लिखकर के वापिस ग्रुप में पोस्ट भी कर सकते हैं
      (आप नीचे दिए गए लिंक पर नियम लेने के लिए comment कर के भी नियम ले सकते हैं ) 
      https://jainsamaj.vidyasagar.guru/blogs/blog/8-1
  • My Clubs

×
×
  • Create New...