Jump to content

Blogs

Featured Entries

 

अव्यय - पाठ 11

(क) स्थानवाची अव्यय वहाँ, उस तरफ तेत्यु, तहिं, तेत्तहे, तउ, तेत्तहि जहाँ, जिस तरफ जेत्थु, जहिं, जेत्तहे, जउ यहाँ, इस तरफ एत्यु, एत्थ, एत्तहे कहाँ केत्थु, केत्तहे, कहिं सब स्थानों पर सव्वेत्तहे दूसरे स्थान पर अण्णेत्तहे कहाँ से कहन्तिउ, कउ, केत्

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कारक - पाठ 10

प्रथमा विभक्ति : कर्ता कारक कर्तृवाच्य के कर्ता में प्रथमा विभक्ति होती है। कर्मवाच्य के कर्म में प्रथमा विभक्ति होती है।   द्वितीया विभक्ति : कर्म कारक कर्तृवाच्य के कर्म में द्वितीया विभक्ति का प्रयोग होता है।   द्विकर्मक क्रियाओं के योग में मुख्य कर्म में द्वितीया विभक्ति होती है तथा गौण कर्म में अपादान, अधिकरण, सम्प्रदान, सम्बन्ध आदि विभक्तियों के होने पर भी द्वितीया विभक्ति होती है। सभी गत्यार्थक क्रियाओं के योग में द्वितीया विभक्ति होती है।

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कृदन्त - पाठ 9

क्रिया के अन्त में प्रत्यय लगने पर जो शब्द बनता है, वह कृदन्त कहलाता है। अपभ्रंश भाषा में प्रयुक्त होनेवाले आवश्यक कृदन्त निम्न हैं। 1. अनियमित भूतकालिक कृदन्त ‘अ' या 'य' प्रत्यय के संयोग से बने भूतकालिक कृदन्तों के नियमित रूपों के अतिरिक्त अपभ्रंश साहित्य में कुछ बने बनाये तैयार रूप में भूतकाल वाचक अनियमित भूतकालिक कृदन्त भी मिलते हैं। इनमें भूतकालिक कृदन्त का ‘अ’ या ‘य' प्रत्यय नहीं होता और न ही इसमें मूल क्रिया को प्रत्यय से अलग किया जा सकता है। नियमित भूतकालिक कृदन्त के समान इनके

Sneh Jain

Sneh Jain

 

क्रियाओं के प्रेरणार्थक रूप से कर्मवाच्य - पाठ 8

अकर्मक व सकर्मक क्रियाओं में '0' और 'आवि' प्रत्यय लगाकर प्रेरणार्थक क्रिया बनाने के पश्चात् इन प्रेरणार्थक क्रियाओं का कर्मवाच्य में प्रयोग किया जाता है। '0' प्रत्यय लगाने पर क्रिया के उपान्त्य 'अ' का आ हो जाता है। जैसे - 0 हस - 0 = हास हँसाना कर - 0 = कार कराना पढ - 0 = पाढ पढाना भिड - 0 = भिड भिडाना रूस - 0 = रूस

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कर्मवाच्य : सकर्मक क्रिया से - पाठ 7

कर्मवाच्य बनाने के लिए कर्त्ता में सदैव तृतीया विभक्ति होती है तथा जो कर्म द्वितीया में रहता है, वह प्रथमा में परिवर्तित हो जाता है। तत्पश्चात् सकर्मक क्रिया में कर्मवाच्य के इज्ज और इय प्रत्यय लगाकर प्रथमा में परिवर्तित कर्म के पुरुष व वचन के अनुसार ही सम्बन्धित काल के प्रत्यय और जोड दिए जाते हैं। क्रिया से कर्मवाच्य वर्तमानकाल, विधि एवं आज्ञा तथा भविष्यत्काल में बनाया जाता है। भविष्यकाल में क्रिया का रूप भविष्यत्काल कर्तृवाच्य जैसा ही रहता है। भूतकाल मे भूतकालिक कृदन्त से कर्मवाच्य बनाने

Sneh Jain

Sneh Jain

 

भाववाच्य : अकर्मक क्रिया से - पाठ 6

भाववाच्य बनाने के लिए कर्त्ता में सदैव तृतीया विभक्ति होती है तथा अकर्मक क्रिया में 'इज्ज' ‘इय' प्रत्यय जोड़े जाते हैं। इसके पश्चात् सम्बन्धित काल के ‘अन्यपुरुष एकवचन' के प्रत्यय भी लगा दिये जाते हैं। क्रिया से भाववाच्य वर्तमानकाल, विधि एवं आज्ञा तथा भविष्यकाल में बनाया जाता है। भविष्यकाल में क्रिया का भविष्यत्काल कर्तृवाच्य का रूप ही रहता है। भूतकाल में भूतकालिक कृदन्त से भाववाच्य बनाने पर कर्त्ता में सदैव तृतीया विभक्ति होती है; किन्तु कृदन्त सदैव नपुंसकलिंग प्रथमा एकवचन में ही रहता है।

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कर्तृवाच्य : क्रियाओं के प्रेरणार्थक रूप से - पाठ 5

अकर्मक व सकर्मक क्रियाओं में ‘अ’ और ‘आव' प्रत्यय लगाकर प्रेरणार्थक क्रिया बनाने के पश्चात् इन प्रेरणार्थक क्रियाओं का कर्तृवाच्य में प्रयोग किया जाता है। 'अ' प्रत्यय लगाने पर क्रिया के उपान्त्य ‘अ’ का आ, उपान्त्य 'इ' का ए तथा उपान्त्य 'उ' का ओ हो जाता है। उपान्त्य दीर्घ 'ई' तथा दीर्घ 'ऊ' होने पर कोई परिवर्तन नहीं होता। संयुक्ताक्षर आगे रहने पर उपान्त्य 'अ' का आ होने पर भी ‘अ’ ही रहता है। जैसे - अ हस - अ = हास  हँसाना सय - अ = साय 

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कर्तृवाच्य : सकर्मक क्रिया से - पाठ 4

जहाँ क्रिया के विधान का विषय 'कर्त्ता' हो वहाँ कर्तृवाच्य होता है। सकर्मक क्रिया के साथ कर्तृवाच्य बनाने के लिए कर्त्ता में प्रथमा तथा कर्म में द्वितीया विभक्ति होती है और क्रिया के पुरुष और वचन कर्त्ता के पुरुष और वचन के अनुसार होते हैं। सकर्मक क्रिया के साथ कर्तृवाच्य का प्रयोग प्रायः भूतकाल में नहीं होता, बाकी तीनों कालों में होता है।   वाक्य रचना : वर्तमानकाल मैं पुस्तक पढता हूँ हउं गंथु पढउं। हम पुस्तकें पढ़ते हैं

Sneh Jain

Sneh Jain

 

कर्तृवाच्य : अकर्मक क्रिया से - पाठ 3

1. कर्तृवाच्य - जहाँ क्रिया के विधान का विषय 'कर्ता' हो, वहाँ कर्तृवाच्य होता है। कर्तृवाच्य का प्रयोग अकर्मक व सकर्मक दोनों क्रियाओं के साथ होता है। अकर्मक क्रिया से कर्तृवाच्य बनाने के लिए कर्ता सदैव प्रथमा विभक्ति में होता है तथा कर्ता के वचन व पुरुष के अनुसार क्रियाओं के वचन व पुरुष होते हैं। अकर्मक क्रिया के साथ कर्तृवाच्य का प्रयोग चारों काल - वर्तमानकाल, विधि एवं आज्ञा, भविष्यत्काल तथा भूतकाल में होता है। वर्तमानकाल (क) उत्तमपुरुष एक वचन में 'उं' और ‘मि' प्रत्यय क्रिया में

Sneh Jain

Sneh Jain

 

शब्द एवं शब्द रूपावली - पाठ 2

1. शब्द  पुल्लिंग संज्ञा शब्द (क) अकारान्त - अक्ख प्राण अक्खय अखंड अक्षत अग्घ अर्घ अणंग कामदेव अणुबन्ध सम्बन्ध अपय मुक्त आत्मा अमर देव अमरिस क्रोध अवमाण अपमान अवराह अपराध अहि

Sneh Jain

Sneh Jain

 

अपभ्रंश भाषा की मुख्य कोटियाँ - पाठ 1

किसी भी भाषा को सीखने व समझने के लिए उस भाषा के मूल तथ्यों की जानकारी होना आवश्यक है। अपभ्रंश भाषा को सीखने व समझने के लिए भी इस भाषा के मूल तथ्यों को समझना होगा जो निम्न रूप में हैं -   1. ध्वनि - फेफड़ों से श्वासनली में होकर मुख तथा नासिका के मार्ग से बाहर निकलने वाली प्रश्वास वायु ही ध्वनियों को उत्पन्न करती है। प्रत्येक ध्वनि के लिए एक भिन्न वर्ण का प्रयोग होता है। प्रश्वास को मुख में जीभ द्वारा नहीं रोकने तथा रोकने के आधार पर ध्वनियाँ दो प्रकार की मानी गई हैं - (1) स्वर ध्वनि और (

Sneh Jain

Sneh Jain

 

सम्पादकीय

किसी भी कृति को उसकी मूल भाषा में पढ़ने का एक अलग ही मजा होता है। जो भाव का हृदयंगम मूल भाषा से पढ़ने में होता है, वह उसका अनुवाद, टीका या व्याख्या पढने में नहीं हो सकता। यह तो सर्व विदित ही है कि जैन आगम ग्रन्थों की मूल भाषा प्राकृत रही है। प्राकृत का साहित्यिक रूप लेने पर प्रादेशिक भाषारूप बोलियाँ ही अपभ्रंश के रूप में विकसित हुई। प्राचीन काल में अपभ्रंश भाषा में भी विपुल जैन साहित्य का सृजन हुआ है। यद्यपि उनमें से बहुत से ग्रन्थों का अनुवाद भी हुआ है, किन्तु फिर भी हजारों ग्रन्थ आज भी प

Sneh Jain

Sneh Jain

 

प्रस्तावना

भाषा जीवन की व्याख्या है और जीवन का निर्माण समाज से होता है। वैयक्तिक व्यवहार को अभिव्यक्ति देने के साथ-साथ भाषा का प्रयोग सामाजिक सहयोग के लिए होता है। जिस तरह भाषा का उद्भव समाज से माना गया है, उसी प्रकार भाषा के विकास में ही मानव समाज का विकास देखा गया है। जिस देश की भाषा जितनी विकसित होगी, वह देश और उसका समाज भी उतना ही विकसित होगा; अत: यह कहा जा सकता है कि भाषा व्यक्ति, समाज व देश से पूर्ण रूप से जुड़ी हुई है। भारतदेश की भाषा के विकास को भी तीन स्तरों पर देखा जा सकता है। प्रथम स्तर (ईस

Sneh Jain

Sneh Jain

अपभ्रंश भाषा क्यों पढ़ें?

अपभ्रंश भाषा क्यों पढ़ें?

अपभ्रंश क्यों पढ़ें ?   भाषा संस्कृति की रीढ़ होती है | किसी भी देश की संस्कृति को जानने के लिए उसकी भाषा में उपलब्ध साहित्य पढ़ना अत्यंत आवश्यक है | भाषा ही संस्कृति के लिए रक्षा सूत्र का काम करती है | एक भाषा के विलुप्त होने से उससे जुडी संस्कृति का ही नाश हो जाता है | अपभ्रंश भाषा मध्य कालीन भारत की लोक भाषा थी जिस में तत्कालीन समय का जीवंत चित्रण है| इतना ही नहीं अपभ्रंश ही आधुनिक हिंदी, मराठी, गुजराती आदि भाषाओं का आधार है तो आधुनिक संस्कृति का सुदृढ़ आधार क्या था
तीर्थराज सम्मेद शिखर के महामंत्री बने हजारीबाग के राजकुमार जैन

तीर्थराज सम्मेद शिखर के महामंत्री बने हजारीबाग के राजकुमार जैन

आदरणीय श्री राजकुमार जैन अजमेरा जी, हजारीबाग को शास्वत तीर्थराज के महामंत्री पद पर मनोनीत होने पर बहुत बहुत बधाई एवम अशेष शुभकामनाएं। आदरणीय अजमेरा जी अत्यंत ऊर्जावान, कर्मठ, समर्पित व्यक्तित्व हैं। पूर्व में भी अनेक पदों पर सुशोभित होकर धर्म प्रभावना और धर्मायतन सेवा में हमेशा अग्रणी रहे हैं।

admin

admin

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - उत्तर प्रदेश

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - उत्तर प्रदेश

क्र. सं. तीर्थ क्षेत्र का नाम  Name of the Teerth क्षेत्र  1 अहिच्छत्र पार्श्वनाथ  Ahikhetra Parshvanath अतिशय क्षेत्र  2 अयोध्या Ayodhya कल्याणक क्षेत्र  3 बड़ागाँव Badagaon अतिशय क्षेत्र  4 बड़ागाँव त्रिलोकतीर्थ Badagaon Trilok Tirth अतिशय क्षेत्र  5

admin

admin

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - तमिलनाडु

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - तमिलनाडु

क्र.स. तीर्थक्षेत्र का नाम Name of the Tirth क्षेत्र 1 मेलचित्तामूर Melchitamur अतिशय क्षेत्र 2 पोन्नूरमले Ponnurmalle अतिशय क्षेत्र 3 तिरूमलै Tirumalle अतिशय क्षेत्र  

admin

admin

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - राजस्थान

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - राजस्थान

क्र.स. तीर्थक्षेत्र का नाम  Name of the Tirth क्षेत्र 1 अडिन्दा Adinda अतिशय क्षेत्र 2 अन्देश्वर पार्श्वनाथ Andeshwar Parshvanath अतिशय क्षेत्र 3 अरथूना नसियाँजी Arthuna Nasiyaji अतिशय क्षेत्र 4 बिजौलियां पार्श्वनाथ Bijoliya parshvanath अतिशय क्षेत्र 5

admin

admin

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - महाराष्ट्र

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - महाराष्ट्र

क्र.स. तीर्थ क्षेत्र का नाम Name of the Tirth क्षेत्र 1 आसेगांव Aasegaon अतिशय क्षेत्र 2 आष्टा (कासार) Aashta (Kasar) अतिशय क्षेत्र 3 अन्तरिक्ष पार्श्वनाथ Antariksha Parshvanath अतिशय क्षेत्र 4 भातकुली जैन Bhatkuli Jain अतिशय क्षेत्र 5 दहीगाँव

admin

admin

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - मध्य प्रदेश

दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र - मध्य प्रदेश

क्र. सं. तीर्थक्षेत्र का नाम  Name of the Teerth क्षेत्र  1 आहूजी Aahuji अतिशय क्षेत्र  2 अहारजी Aharji सिद्ध क्षेत्र  3 अजयगढ़ Ajaygarh अतिशय क्षेत्र  4 अमरकंटक Amarkantak अतिशय क्षेत्र  5 बाड़ी Badi अतिशय क्षेत्र 

admin

admin

×
×
  • Create New...