Jump to content

Blogs

 

The Scientific Basis of vegetarianism

The human body is protected continuously by millions of "fighter cells". Central Controls" can order out billions of new "fighters" when disease invades the body during times of "peace", the numbers are reduced & the "fighters" become "Patrol Units". This operation is known as the Body's immune system. Scientists probing secrets of the immune system are finding that healthful diet, physical fitness & a positive emotional state of mind stimulate & strengthen the body's immune system, while illness, drugs, improper diet & excessive stress can depress & weaken it. Health is a precious possession and our daily diet plays a significant role in promoting physical, mental and spiritual health in a person. In any diet-availability of the required amount of energy, protein, carbohydrates, fat, vitamins and minerals is essential. Energy: Meeting energy requirements is not usually a problem in a vegetarian diet (lacto - vegetarian's diet) because of the high energy content of dairy products. In India almost all vegetarians take dairy products along with vegetable products. Proteins: Body's protein needs can be provided by either animal or plant sources. All proteins, both plant and animal is made up of basic building blocks called Amino Acids. There are essential amino acids which must be obtained from the diet and other amino acids which can be manufactured in the body (from Carbohydrates.) The difference between animal and plant protein lies in the proportions of essential amino acids in the protein. In animal protein, the essential amino acids are generally available in the appropriate proportions for human needs. In plant proteins, however, there is often an insufficiency of one or more essential amino acid(s), if a single source is used. Hence in order to obtain all the essential amino acids, mixing of proteins from different plant sources is necessary. This has been the pattern of diet in India for all vegetarians. Carbohydrates: Carbohydrates are mainly found in plant foods; like cereals, grains, fresh and dry fruits, legumes, vegetables, greens, nuts etc. Plant Carbohydrates include large amounts of starches, sugar and fibres. Starches and sugars provide energy or fuel for the body and fibres are important for gut functions. The body is better suited to a high carbohydrate diet than a low carbohydrate diet. In fact 55% of the food intake should be carbohydrate. Remember all Animal products do not contain carbohydrates which are so much essential for body. Fat: Plant fats differ from animal fats in two different ways (1) They are cholesterol free (2) They generally contain more Polyunsaturated fat and low saturated fats. Plant fats usually have a higher polyunsaturated fat value than animal fats. A diet which is low in cholesterol and which contains fat of a high P/S value is associated with a lower instance of coronary heart disease. Vitamins and Minerals: Plant foods are rich in many vitamins and minerals. Vitamin D : Vitamin D is obtained by exposure of skin to sun light and this is not a problem in India. Calcium : The Vegetarians can meet their needs for calcium from dairy products. Riboflavin : (Vitamin B 12) Dark green vegetables are good source of Riboflavin as are also legumes and whole rain cereals. Iron : The problem of Iron deficiency is relatively common but Vitamin C significantly enhances absorption of Iron and hence it is advisable for vegetarians to include with each meal a food high in Vitamin C such as Lime, Citrus Fruits or Juices. Zinc: Zinc is found in fairly large number of plant foods. Fibre : Fibre is found only in Veg. foods like whole grain cereals, legumes, greens, fruits, vegetables etc. Thus in Vegetarian foods all requirement of nutrition for body growth and maintenance is fulfilled. One can have a Complete and Balanced diet provided we take enough food as close to nature as possible to help maintaining good and disease free body. It is also equally helpful in curing many diseases. NON VEGETARIAN FOOD : The production of meat involves brutality, cruelty and killing of animals, birds, fish etc. which is revolting to the finger sense of human nature. NUTRITIONAL VALUE OF MEAT & OTHER SCIENTIFIC DATA : Meat is a poor source of Minerals, Sugars, Starch i.e. (Carbohydrate) Roughage. Vitamins and minerals, and contains considerable amount of saturated fat or cholesterol and uric acid, which are very harmful to health. There are toxins in all flesh, and in eating the flesh or other animals, man is simply adding other toxins to those which his own body engenders. This causes heavy burden to many important organs like Heart, Kidney, Liver, Lungs etc. Considerable amount of pesticides residue including, DDT and antibiotics are contained in meat. You are reading on vidyasagar.guru This is very harmful and against the interest of meat consumers. Just because meat has complete protein it does not become a good or healthy food for man. Meat has more minus points than good. Studies show that meat eating is linked to many diseases such as cancer, heart disease, high blood pressure, gallstones, osterioporosis, diabetes, asthma and several others. Human Anatomy : A study of human anatomy and physiology also reveals that the human being is basically a vegetarian animal. Like Vegetarian Animal our large and small intestines measure four times the length of our body whereas in case of Carnivores it is almost the same size of the animal. We do not have fangs as the Carnivores have to bite the flesh. Human Saliva is Alkaline containing Ptyalin to digest carbohydrates whereas in Carnivores it is Acidic. For Carnivores to digest highly proteinous flesh diet gastric secretion is highly acidic, whereas the human secretion is of low acidity. Human do not have claws-like Carnivores to tear flesh. Humans perspire through body pores whereas flesh eating animals through their tongue. Meat eating animals see in darkness while Vegetarian Animals and men fine it extremely difficult to see in darkness. The vegetarian Animals and men sip water and liquids whereas Carnivores lick liquids. The Western scientists and medical profession after similar studies, spread over decades have now realised all these facts and hence they have considerably made changes in diets and are advising all their patients to change over to a vegetarian diet - for better health. They have started using many herbs for preparation of drugs. They have also introduced compulsory nutrition courses in medical education. Your diet is 75% responsible for your ailments and therefore it is very essential that every Doctor must have a deep knowledge of nutrition which is very much lacking in todays Medical education. Alone with Medication : Diet control is essential and if this is not done, quite often medication does not help. There is a myth amongst people that consumption of meat would make them strong. It is also commonly believed that non-vegetarian food has more nutritive value. It is significant to note that while in U.S.A. nearly 20 to 30 million people have adopted vegetarianism in last decade and more and more understanding and intellectual people, in U.K., U.S.S.R., West Germany, Japan, Switzerland, Italy, Israel, Mexico etc. are gradually turning to vegetarian diet not only on humanitarian ground, more so for health. The Bombay Hospital in its research publication "Vegetarian diet in health and diseases "they have said that the vegetarians can live long without suffering from any crippling disease. Here are their comments on some of the important On Coronary Heart Diseases : It seems evident that vegetarianism offers definite protection from Coronary heart diseases. The Gastro Intestinal Tract: It appears that vegetarian food is beneficial in prevention as well as in the management of most of the gastrointestinal diseases. Diabetes : A vegetarian diet is eminently suitable for all noninsulin dependent and insulin dependent diabetics. Kidney : The Nephrologist, like the diabetologist, uses diet as a major part of his therapeutics armamentarium most effectively. Each patient will be given a different diet prescription but the one universal advice that will apply to ail will be."It is better for you to become a Vegetarian". Liver : It is very obvious that a vegetarian diet is more useful in the treatment of all liver disorders including the last stage of liver failure. Cancer : Dietary intake of fat to be reduces. A solution offered by simple vegetable food. The Nervous System: (Brain & Nerves) Vegetarian diet plays a good supportive role in the treatment of many chronic, progressive neurological diseases. The Mind and its Health : It will not come as a surprise if, in the future, research reveals that vegetarian food has a superior effect on the mind and the intellect. High Blood Pressure : It seems clear that vegetarians tend to have lower blood pressure than omnivores and that a shift in dietary pattern towards a vegetarian diet would result in reduced incidence of hypertension, strokes and cardiovascular disease in the community. Bones & Joints : Analysis of the available data shows that vegetarian diets by virtue of their-a) High fibre content b) Low acid content c) High Vitamin and mineral content are helpful in preventing and, to a certain extent, relieving the pain and progression of arthritis and bone demineralisation. Scientific evidence confirms that to reduce chronic diseases Western diet must shift from a predominance of animal foods to plant foods Governments of the World do not acknowledge this data as they dare not risk upsetting the powerful meat, poultry and egg industries. The health of the people is compromised because we do not hear the true facts about diet and health. Numerous studies show that as you reduce your intake of animal protein, and increase fibre and protective nutrients from vegetables, the risk of getting cancer goes down. A galaxy of eminent scientists, doctors, nutritionists, economists, agriculturists, environmentalists and persons interested in animal welfare from various parts of the world including India, Numbering over 500 who had assembled in the Conference at the All India Institute of Medical Sciences, New Delhi, on the occasion of the 30th World Vegetarian Congress held on 2nd and 3rd January 1993, were of the considered view that vegetarian diet is most suited and desirable for human beings from the point of view of health, hygiene, nutrition, ecology, economics, animal welfare and our Mother Earth. In short, science today is in full agreement with out Indian Culture of Vegetarianism and Ahinsa based on thousands of years of experience, supported by ethics and religions. Conclusion : Vegetarian food which includes vegetables, fruits, nuts, cereals, sprouted and unsprouted pulses, milk and milk products contain all the essential nutrients required for maintaining the integrity of the immune systems. Vitamins and minerals which are so vital in the functioning of the immune system are best availed from fresh fruits and vegetables. Hence a vegetarian diet is apparently adequate in all respects to maintain good immune function. Available in other versions :  English ver. The Scientific Basis of vegetarianism -    Chinese ver. The Scientific Basis of vegetarianism -    French ver. The Scientific Basis of vegetarianism -    Japanese ver. The Scientific Basis of vegetarianism -    Spanish ver. The Scientific Basis of Vegetarianism -   
 

?कल २३ अक्टूबर, दिन मंगलवार को अश्विन शुक्ल चतुर्दशी तिथि अर्थात चतुर्दशी पर्व है।

?          *कल चतुर्दशी पर्व है*         ?
जय जिनेन्द्र बंधुओं,
        कल  २३ अक्टूबर, दिन मंगलवार को अश्विन शुक्ल चतुर्दशी तिथि अर्थात *चतुर्दशी पर्व* है। ??
प्रतिदिन जिनेन्द्र प्रभु के दर्शन करना अपना मनुष्य जीवन मिलना सार्थक करना है अतः प्रतिदिन देवदर्शन करना चाहिए। जो लोग प्रतिदिन देवदर्शन नहीं कर पाते उनको कम से कम अष्टमी/चतुर्दशी आदि पर्व के दिनों में देवदर्शन अवश्य करना चाहिए। ??
जो लोग प्रतिदिन देवदर्शन करते हैं उनको अष्टमी/चतुर्दशी आदि पर्व के दिनों में श्रीजी के अभिषेक व् पूजन आदि के माध्यम से अपने जीवन को धन्य करना चाहिए। ??
जमीकंद का उपयोग घोर हिंसा का कारण है अतः इनका सेवन नहीं करना चाहिए। जो लोग इनका उपयोग करते हैं उनको पर्व के इन दोनों में इनका त्याग करके सुख की ओर आगे बढ़ना चाहिए। ??
इस दिन रागादि भावों को कम करके ब्रम्हचर्य के साथ रहना चाहिए। ☀
बच्चों को धर्म के संस्कार देना माता-पिता का सबसे बड़ा कर्तव्य है और बच्चों पर माता-पिता का सबसे बड़ा उपकार है। धर्म के संस्कार संतान को वर्तमान में तो विपत्तियों से रक्षा करते ही हैं साथ ही पर भव में भी नरक तिर्यंच गति आदि के दुखों से बचाते हैं। *बच्चों को पाठशाला अवश्य भेजें।*
?? *श्रमण संस्कृति सेवासंघ, मुम्बई*??
  *"मातृभाषा अपनाएँ, संस्कृति बचाएँ"*

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

☀कल १७ अक्टूबर, दिन बुधवार, अश्विन शुक्ल अष्टमी को मोक्ष कल्याणक पर्व तथा अष्टमी पर्व है।

? *कल अष्टमी व् मोक्षकल्याणक पर्व*?
जय जिनेन्द्र बंधुओं,
        कल १७ अक्टूबर, दिन बुधवार, अश्विन शुक्ल अष्टमी की शुभ तिथि को *१० वें तीर्थंकर देवादिदेव श्री १००८ शीतलनाथ भगवान* का *मोक्ष कल्याणक पर्व* तथा *अष्टमी पर्व* है।
??
कल अत्यंत भक्ति-भाव से देवादिदेव श्री १००८ शीतलनाथ भगवान की पूजन करें तथा अपने भी कल्याण की भावना से भगवान के श्री चरणों में निर्वाण लाडू समर्पित करें। ??
प्रतिदिन जिनेन्द्र प्रभु के दर्शन करना अपना मनुष्य जीवन मिलना सार्थक करना है अतः प्रतिदिन देवदर्शन करना चाहिए। जो लोग प्रतिदिन देवदर्शन नहीं कर पाते उनको कम से कम अष्टमी/चतुर्दशी आदि पर्व के दिनों में देवदर्शन अवश्य करना चाहिए। ??
जो लोग प्रतिदिन देवदर्शन करते हैं उनको अष्टमी/चतुर्दशी आदि पर्व के दिनों में श्रीजी के अभिषेक व् पूजन आदि के माध्यम से अपने जीवन को धन्य करना चाहिए। ??
जमीकंद का उपयोग घोर हिंसा का कारण है अतः इनका सेवन नहीं करना चाहिए। जो लोग इनका उपयोग करते हैं उनको पर्व के इन दोनों में इनका त्याग करके सुख की ओर आगे बढ़ना चाहिए। ??
इस दिन रागादि भावों को कम करके ब्रम्हचर्य के साथ रहना चाहिए। ☀
बच्चों को धर्म के संस्कार देना माता-पिता का सबसे बड़ा कर्तव्य है और बच्चों पर माता-पिता का सबसे बड़ा उपकार है। धर्म के संस्कार संतान को वर्तमान में तो विपत्तियों से रक्षा करते ही हैं साथ ही पर भव में भी नरक तिर्यंच गति आदि के दुखों से बचाते हैं। *बच्चों को पाठशाला अवश्य भेजें।*
?? *श्रमण संस्कृति सेवासंघ, मुम्बई*??
  *"मातृभाषा अपनाएँ, संस्कृति बचाएँ"*

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

मुनिश्री ब्रह्मानन्द महाराज की समाधि

मुनिश्री ब्रह्मानन्द महाराज की समाधि पंचम युग में चतुर्थकालीन चर्या का पालन करने वाले व्योवर्द्ध महातपस्वी परम् पूजनीय मुनिश्री ब्रह्मनन्द जी महामुनिराज ने समस्त आहार जल त्याग कर उत्कृष्ट समाधि पूर्वक देह त्याग दी।
परम् पुज्य मुनिश्री ऐसे महान तपस्वी रहें है जिनकी चर्या का जिक्र अक्सर आचार्य भगवंत श्री विद्यासागर जी महामुनिराज संघस्थ साधुगण एवं आचार्य श्री वर्धमान सागर जी महाराज प्रवचन के दौरान करते थे।
पिड़ावा के श्रावकजनो ने मुनिश्री की संलेखना के समय अभूतपुर्व सेवा एवं वैयावर्ती की है।
ऐसे समाधिस्थ पुज्य मुनिराज के पावन चरणों में कोटि कोटि नमन।
मुनिराज का समाधिमरण अभी दोपहर 1:35 पर हुआ उनकी उत्क्रष्ट भावना अनुसार 48 मिनट के भीतर ही देह की अंतेष्टि की जाएगी।
           (20,अप्रैल,2018)   कर्नाटक प्रांत के हारुवेरी कस्बे में जन्मे  महान साधक छुल्लक श्री मणिभद्र सागर जी 80 के दशक आत्मकल्याण और जिनधर्म की प्रभावना करते हुऐ मध्यप्रदेश  में प्रवेश किया । छुल्लक अवस्था मे चतुर्थकालीन मुनियों सी चर्या । कठिन तप ,त्याग के कारण छुल्लक जी ने जँहा भी प्रवास किया वँहा अनूठी छाप छोड़ी।
  पीड़ित मानवता के लिए महाराज श्री के मन मे असीम वात्सल्य था।  महाराज श्री की प्रेरणा से तेंदूखेड़ा(नरसिंहपुर)मप्र में 
समाज सेवी संस्था का गठन किया गया। लगभग बीस वर्षों तक इस संस्था द्वारा हजारों नेत्ररोगियों को निःशुल्क नेत्र शिवरों के माध्यम से नेत्र ज्योति प्रदान की गई। जरूरतमंद   समाज के गरीब असहाय लोगों को आर्थिक सहयोग संस्था द्वारा किया जाता था। आज भी लगभग बीस वर्षों तक महाराज श्री की प्रेणना से संचालित इस संस्था ने समाज सेवा के अनेक कार्य किये ।    
      छुल्लक मणिभद्र सागर जी ने मप्र के  सिलवानी नगर में आचार्य श्री विद्यासागर जी के शिष्य मुनि श्री सरल सागर जी से मुनि दीक्षा धारण की और नाम मिला मुनि श्री ब्रम्हांन्द सागर जी। इस अवसर पर अन्य दो दीक्षाएं और हुईं जिनमे मुनि आत्मा नन्द सागर, छुल्लक स्वरूपानन्द सागर,। महाराज श्री का बरेली,सिलवानी, तेंदूखेड़ा,महाराजपुर,केसली,सहजपुर,टडा, वीना आदि विभिन्न स्थानों पर सन 1985 से से लगातार सानिध्य ,बर्षायोग, ग्रीष्मकालीन,शीतकालीन सानिध्य प्राप्त होते रहे।। महाराज श्री को आहार देने वाले पात्र का रात्रि भोजन,होटल,गड़न्त्र, का आजीवन त्याग, होना आवश्यक था। और बहुत सारे नियम आहार देने वाले पात्र के लिए आवश्यक थे। महाराज श्री को निमित्य ज्ञान था। जिसके प्रत्यक्ष प्रमाण मेरे स्वयं के पास है। उनके द्वारा कही बात मैने सत्य होते देखी है।
आज 20 अप्रेल मध्यान 1:45 पर
पंचम युग में चतुर्थकालीन चर्या' का पालन करने वाले व्योवर्द्ध महातपस्वी परम् पूजनीय मुनिश्री ब्रह्मनन्द जी महामुनिराज ने समस्त आहार जल त्याग कर उत्कृष्ट समाधि पूर्वक देह त्याग दी।
परम् पुज्य मुनिश्री ऐसे महान तपस्वी रहें है जिनकी चर्या का जिक्र अक्सर आचार्य भगवंत श्री विद्यासागर जी महामुनिराज संघस्थ साधुगण एवं आचार्य श्री वर्धमान सागर जी महाराज प्रवचन के दौरान करते थे।
पिड़ावा के श्रावकजनो ने मुनिश्री की संलेखना के समय अभूतपुर्व सेवा एवं वैयावर्ती की है।
ऐसे समाधिस्थ पुज्य मुनिराज के पावन चरणों में कोटि कोटि नमन।  महाराज श्री की भावना अनुसार 48 मिनिट के भीतर ही उनकी अंतिम क्रियाएं की जाएंगी।
मुनि श्री को बारम्बार नमोस्तु ?
      
           ??नमोस्तु मुनिवर??

admin

admin

 

६४ - पं गोपालदास बरैया के संपर्क में


जय जिनेन्द्र बंधुओं,          
         आप जान रहे हैं एक ऐसे महापुरुष की आत्मकथा जिनका जन्म तो अजैन कुल में हुआ था लेकिन जो आत्मकल्याण हेतु संयम मार्ग पर चले तथा वर्तमान में सुलभ दिख रही जैन संस्कृति के सम्बर्धन का श्रेय उन्ही को जाता है।     प्रस्तुत अंशो से हम लोग देख रहे हैं पूज्य वर्णी ने कितनी सहजता से अपनी ज्ञान प्राप्ति की यात्रा में आई सभी बातों को प्रस्तुत किया है। ? संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
      *"पं. गोपालदास वरैया के संपर्क में"*                     *क्रमांक -६४*
 
       ऐसी ही एक गलती और भी हो गई। वह यह कि मथुरा विद्यालय में पढ़ाने के लिए श्रीमान पंडित ठाकुर प्रसाद जी शर्मा उन्हीं दिनों यहाँ पर आये थे, और मोतीकटरा की धर्मशाला में ठहरे थे। आप व्याकरण और वेदांत के आचार्य थे, साथ ही साहित्य और न्याय के प्रखर विद्वान थे। आपके पांडित्य के समक्ष अच्छे-अच्छे विद्वान नतमस्तक हो जाते थे। हमारे श्रीमान स्वर्गीय पंडित बलदेवदास जी ने भी आपसे भाष्यान्त व्याकरण का अभ्यास किया था।         आपके भोजन की व्यवस्था श्रीमान बरैयाजी ने मेरे जिम्मे कर दी। चतुर्दशी का दिन था। पंडितजी ने कहा बाजार से पूड़ी तथा शाक ले आओ।' मैं बाजार गया और हलवाई के यहाँ से पूडी तथा शाक ले आ रहा था कि मार्ग में देवयोग से श्रीमान पं. नंदराम जी साहब पुनः मिल गये। मैंने प्रणाम किया।        पंडितजी ने देखते ही पूछा- 'कहाँ गये थे? मैंने कहा- पंडितजी के लिए बाजार से पूडी शाक लेने गया था।' उन्होंने कहा- 'किस पंडितजी के लिए?' मैंने उत्तर दिया- 'हरिपुर जिला इलाहाबाद के पंडित श्री ठाकुरप्रसाद जी के लिए, जोकि दिगम्बर जैन महाविद्यालय मथुरा में पढ़ाने के लिए नियुक्त हुए हैं।'       अच्छा, बताओ शाक क्या है? मैंने कहा - 'आलू और बैगन का।' सुनते ही पंडितजी साहब अत्यन्त कुपित हुए। क्रोध से झल्लाते हुए बोले- 'अरे मूर्ख नादान ! आज चतुर्दशी के दिन यह क्या अनर्थ किया?'        मैंने धीमे स्वर में कहा- 'महाराज ! मैं तो छात्र हूँ? मैं अपने खाने को तो नहीं लाया, कौन सा अनर्थ इसमें हो गया? मैं तो आपकी दया का पात्र हूँ।'
? *मेरीजीवन गाथा- आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथि- वैशाख कृष्ण ७?
 

भगवान ऋषभदेव मोक्ष कल्याणक पर्व

? *१५ जनवरी को प्रथम तीर्थंकर मोक्षकल्याणक पर्व*? जय जिनेन्द्र बंधुओं,     
       १५ जनवरी, दिन सोमवार, माघ कृष्ण चतुर्दशी की शुभ तिथि को इस अवसर्पणी काल के *प्रथम तीर्थंकर देवादिदेव श्री १००८ ऋषभनाथ भगवान* का मोक्ष कल्याणक पर्व आ रहा है-
??
१५ जनवरी को सभी अपने-२ नजदीकी जिनालयों में सामूहिक निर्वाण लाडू चढ़ाकर मोक्षकल्याणक पर्व मनाएँ। ??
इस पुनीत अवसर धर्म प्रभावना के अनेक कार्यक्रमों का आयोजन करना चाहिए। ??
इस पुनीत अवसर मानव सेवा के कार्यक्रमों का भी आयोजन करना चाहिए।
   ?? *ऋषभनाथ भगवान की जय*??
?? *श्रमण संस्कृति सेवासंघ, मुम्बई*??
    *"मातृभाषा अपनाएँ,संस्कृति बचाएँ"*

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

Country wise International Jain Samaj groups on facebook

1. Jain Samaj Bharat
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Bharat/ 2. Jain Samaj Burma
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Burma 3. Jain Samaj Canada
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Canada 4. Jain Samaj Germany
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Germany 5. Jain Samaj Kenya
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Kenya/ 6. Jain Samaj Malaysia
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Malaysia 7. Jain Samaj Nepal
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Nepal 8. Jain Samaj Tanzania
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Tanzania 9. Jain Samaj Uganda
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Uganda 10. Jain Samaj Singapore
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Singapore 11. Jain Samaj United States of America
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.USA

admin

admin

 

State wise Jain Samaj groups on Facebook

सभी को जय जिनेन्द्र,  संयम स्वर्ण महोत्सव में हम सभी कर रहे हैं आचार्य श्री के व्यक्तित्व को विश्व में फ़ैलाने का प्रयास, हमने भी की हैं शुरुआत, केवल whatsapp पर पूरा नहीं होगा प्रयास 
सोशल मीडिया में दीजिये साथ, जुड़िये और करियें सम्पूर्ण समाज  को  जोड़ने का सफल प्रयास 
*आपके देश व राज्य के  समाज के फेसबुक समूह से जुड़िये और समाज के सभी श्रावको को समूह से जोड़े * 1. Jain Samaj Andaman and Nicobar Islands
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Andaman.Nicobar.Islands 2. Jain Samaj Andhra Pradesh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Andhra.Pradesh 3. Jain Samaj Arunachal Pradesh
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.Arunachal.Pradesh 4. Jain Samaj Assam
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Assam 5. Jain Samaj Bihar
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Bihar 6. Jain Samaj Chandigarh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Chandigarh 7. Jain Samaj Chhattisgarh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Chhattisgarh 8. Jain Samaj Dadar and Nagar Haveli Silvassa
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Dadar.Nagar.Haveli.Silvassa 9. Jain Samaj Daman
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Daman 10. Jain Samaj Delhi
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Delhi 11. Jain Samaj Goa
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Goa 12. Jain Samaj Gujarat
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Gujarat 13. Jain Samaj Haryana
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Haryana 14. Jain Samaj Himachal Pradesh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Himachal.Pradesh 15. Jain Samaj Jammu and Kashmir
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Jammu.and.Kashmir 16. Jain Samaj Jharkhand
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Jharkhand 17. Jain Samaj Karnataka
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Karnataka 18. Jain Samaj Kerala
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Kerala 19. Jain Samaj Lakshadweep
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Lakshadweep 20. Jain Samaj Madhya Pradesh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Madhya.Pradesh 21. Jain Samaj Maharashtra
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Maharashtra 22. Jain Samaj Manipur
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Manipur 23. Jain Samaj Meghalaya
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Meghalaya 24. Jain Samaj Mizoram
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Mizoram 25. Jain Samaj Nagaland
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Nagaland 26. Jain Samaj Odisha
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.Odisha 27. Jain Samaj Pondicherry
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Pondicherry 28. Jain Samaj Punjab
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.punjab 29. Jain Samaj Rajasthan
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.rajasthan 30. Jain Samaj Sikkim
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.sikkim 31. Jain Samaj Tamil Nadu
https://www.facebook.com/groups/jain.samaj.tamil.nadu 32. Jain Samaj Telangana
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Telangana 33. Jain Samaj Tripura
https://www.facebook.com/groups/Jain.samaj.Tripura 34. Jain Samaj Uttar Pradesh
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Uttar.Pradesh 35. Jain Samaj Uttarakhand
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.Uttarakhand 36. Jain Samaj West Bengal
https://www.facebook.com/groups/Jain.Samaj.West.Bengal---------

admin

admin

 

Jain Professional Groups on this website

An initiative for Jain Ekta 
जैन समाज के  सशक्तिकरण का प्रयास
www.JainSamaj.world Phase 1. Connecting Jain Industrialists, Businessmen & Professionals.
Register http://JainSamaj.world/register/ Join Collaborate, communicate and help the Jain community grow together lets together, share the best prcatices and create the knowledge  1    Jain Accountants & Finance  Professionals
http://jainsamaj.world/clubs/167-jain-accountants-finance-professionals/ 2    Jain Actuary professionals
http://jainsamaj.world/clubs/168-jain-actuary-professionals/ 3    Jain Agents & Brokers
http://jainsamaj.world/clubs/169-jain-agents-brokers/ 4    Jain Bloggers Authors & Translators
http://jainsamaj.world/clubs/170-jain-bloggers-authors-translators/ 5    Jain Bureaucrats
http://jainsamaj.world/clubs/171-jain-bureaucrats/ 6    Jain Businessmen
http://jainsamaj.world/clubs/172-jain-businessmen/ 7    Jain Charted Accountants
http://jainsamaj.world/clubs/173-jain-charted-accountants/ 8    Jain Company Secretaries
http://jainsamaj.world/clubs/174-jain-company-secretaries/ 9    Jain Data science & Analytics professionals
http://jainsamaj.world/clubs/175-jain-data-science-analytics-professionals/ 10    Jain Doctors
http://jainsamaj.world/clubs/176-jain-doctors-medical-practitioner/ 11    Jain Engineers
http://jainsamaj.world/clubs/177-jain-engineers/ 12    Jain Housewives   
http://jainsamaj.world/clubs/178-jain-housewives/ 13    Jain Industrialist
http://jainsamaj.world/clubs/179-jain-industrialist/ 14    Jain IT professionals 
http://jainsamaj.world/clubs/180-jain-it-professionals/ 15    Jain Journalists and Media professionals
http://jainsamaj.world/clubs/181-jain-journalists-and-media-professionals/ 16    Jain life Science professionals
http://jainsamaj.world/clubs/182-jain-life-science-professionals/ 17    Jain Management professionals
http://jainsamaj.world/clubs/183-jain-management-professionals/ 18    Jain Retailers and Shopkeepers
http://jainsamaj.world/clubs/184-jain-retailers-and-shopkeepers/ 19    Jain Sales & Marketing professionals
http://jainsamaj.world/clubs/185-jain-sales-marketing-professionals/ 20    Jain Scholar & Research professional
http://jainsamaj.world/clubs/186-jain-scholar-research-professional/ 21    Jain Scientist
http://jainsamaj.world/clubs/187-jain-scientist/ 22    Jain Self Employed Entrepreneur
http://jainsamaj.world/clubs/188-jain-self-employed-entrepreneur/ 23    Jain Students
http://jainsamaj.world/clubs/189-jain-students/ 24    Jain Teachers & Professors
http://jainsamaj.world/clubs/190-jain-teachers-professors/ 25    Jain Traders & Suppliers
http://jainsamaj.world/clubs/191-jain-traders-suppliers/ www.JainSamaj.world/register/
[21:47, 12/17/2017] bhaiya Sonu: 

admin

admin

 

पं गोपालदास जी बरैया के संपर्क में - ६३


जय जिनेन्द्र बंधुओं,          
         पूज्य वर्णीजी की प्रारम्भ से ही ज्ञानार्जन की प्रबल भावना थी तभी तो वह अभावजन्य विषय परिस्थियों में भी आगे आकर ज्ञानार्जन हेतु संलग्न हो पाये। भरी गर्मी में दोपहर में एक मील ज्ञानार्जन हेतु पैदल जाना भी उनकी ज्ञानपिपासा का ही परिचय है।       बहुत ही सरल ह्रदय थे गणेशप्रसाद। उनके जीवन का सम्पूर्ण वर्णन बहुत ही ह्रदयस्पर्शी हैं। ? संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
      *"पं. गोपालदास वरैया के संपर्क में"*                      *क्रमांक -६३*
             पं. बलदेवदासजी महराज को मध्यन्होंपरांत ही अध्ययन कराने का अवसर मिलता था। गर्मी के दिन थे पण्डितजी के घर जाने में प्रायः पत्थरों से पटी हुई सड़क मिलती थी।        मोतीकटरा से पंडितजी का मकान एक मील अधिक दूर था, अतः मैं जूता पहने ही हस्तलिखित पुस्तक लेकर पण्डितजी के घर पर जाता था।        यद्यपि इसमें अविनय थी और ह्रदय से ऐसा करना नहीं चाहता था, परंतु निरुपाय था। दुपहरी में यदि पत्थरों पर चलूँ तो पैरों को कष्ट हो, न जाऊँ तो अध्ययन से वंछित रहूँ-मैं दुविधा में पड़ गया।        लाचार अंतरात्मा ने यही उत्तर दिया कि अभी तुम्हारी छात्रावस्था है, अध्ययन की मुख्यता रक्खो। अध्ययन के बाद कदापि ऐसी अविनय नहीं करना......इत्यादि तर्क-वितर्क के बाद मैं पढ़ने के लिए चला जाता था।       यहाँ पर श्रीमान पंडित नंदराम जी रहते थे जो कि अद्वितीय हकीम थे। हकीमजी जैनधर्म के विद्वान ही न थे, सदाचारी भी थे। भोजनादि की भी उनके घर में पूर्ण शुद्धता थी। आप इतने दयालु थे कि आगरे में रहकर भी नाली आदि में मूत्र क्षेपण नहीं करते थे।       एक दिन पंडितजी के पास पढ़ने जा रहा था, देवयोग से आप मिल गये। कहने लगे- कहाँ जाते हो? मैंने कहा- 'महराज ! पंडितजी के पास पढ़ने जा रहा हूँ।' 'बगल में क्या है!' मैंने कहा- पाठ्य पुस्तक सर्वार्थसिद्धि है।' आपने मेरा वाक्य श्रवण कर कहा - 'पंचम काल है ऐसा ही होगा, तुमसे धर्मोंनति की क्या आशा हो सकती है और पण्डितजी से क्या कहें? '       मैंने कहा- 'महराज निरुपाय हूँ।' उन्होंने कहा- 'इससे तो निरुक्षर रहना अच्छा।' मैंने कहा- महराज ! अभी गर्मी का प्रकोप है पश्चात यह अविनय न होगी।'        उन्होंने एक न सुनी और कहा- 'अज्ञानी को उपदेश देने से क्या लाभ?' मैंने कहा- महराज ! जबकि भगवान पतितपावन हैं और आप उनके सिद्धांतों के अनुगामी हैं तब मुझ जैसे अज्ञानियों का उद्धार कीजिए। हम आपके बालक हैं, अतः आप ही बतलाइये कि ऐसी परिस्थिति में मैं क्या करूँ?'       उन्होंने कहा- 'बातों के बनाने में तो अज्ञानी नहीं, पर आचार के पालने में अज्ञान बनते हो!'        ऐसी ही एक गलती और भी हो गई। वह यह कि मथुरा विद्यालय में पढ़ाने के लिए श्रीमान पंडित ठाकुर प्रसाद जी शर्मा उन्हीं दिनों यहाँ पर आये थे, और मोतीकटरा की धर्मशाला में ठहरे थे। आप व्याकरण और वेदांत के आचार्य थे, साथ ही साहित्य और न्याय के प्रखर विद्वान थे। आपके पांडित्य के समक्ष अच्छे-अच्छे विद्वान नतमस्तक हो जाते थे। हमारे श्रीमान स्वर्गीय पंडित बलदेवदास जी ने भी आपसे भाष्यान्त व्याकरण का अभ्यास किया था। ? *मेरीजीवन गाथा- आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथि- श्रावण कृष्ण ४?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

पं गोपालदास जी बरैया के संपर्क में - ६२


जय जिनेन्द्र बंधुओं,        यहाँ से गणेशप्रसाद का जैनधर्म के बड़े विद्वान पं. गोपालदासजी वरैयाजी से संपर्क का वर्णन प्रारम्भ हुआ। वर्णीजी ने यहाँ उस समय उनके गुरु पं. पन्नालालजी बाकलीवाल का भी उनके जीवन में बहुत महत्व बताया है।         वर्णीजी के अध्यन के समय तक सिर्फ हस्तलिखित ग्रंथ ही प्रचलन में थे। यह महत्वपूर्ण बात यहाँ से ज्ञात होती है। जिनवाणी की कितनी विनय थी उस समय के श्रावकों में कि ग्रंथों का मुद्रण भी योग्य नहीं समझते थे। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
*पं.गोपालदास वरैया के संपर्क में*
   
                    *क्रमांक - ६२*
                बम्बई परीक्षा फल निकला। श्रीजी के चरणों के प्रसाद से मैं परीक्षा उत्तीर्ण हो गया। महती प्रसन्नता हुई।          श्रीमान स्वर्गीय पंडित गोपालदासजी का पत्र आया कि मथुरा में दिगम्बर जैन विद्यालय खुलने वाला है, यदि तुम्हे आना हो तो आ सकते हो। मुझे बहुत प्रसन्नता हुई।         मैं श्री पंडितजी की आज्ञा पाते ही आगरा चला गया और मोतीकटरा की धर्मशाला में ठहर गया। वहीं श्री गुरु पन्नालाल जी बाकलीवाल भी आ गये। आप बहुत ही उत्तम लेखक तथा संस्कृत के ज्ञाता थे।           आपकी प्रकृति अत्यंत सरल और परोपकाररत थी। मेरे तो प्राण ही थे-इनके द्वारा मेरा जो उपकार हुआ उसे इस जन्म में नहीं भूल सकता। आप श्रीमान स्वर्गीय पं. बलदेवदास जी से सर्वार्थसिद्धि का अभ्यास करने लगे। मैं आपके साथ जाने लगा।       उन दिनों छापे का प्रचार जैनियों में न था। मुद्रित पुस्तक का लेना महान अनर्थ का कारण माना जाता था, अतः हाथ से लिखे हुए ग्रंथों का पठन पाठन होता था। हम भी हाथ की लिखी सर्वार्थसिद्धि पर अभ्यास करते थे। ? *मेरीजीवन गाथा- आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथि - श्रावण कृष्ण ३?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

महान मेला - ६१


जय जिनेन्द्र बंधुओं,        यहाँ वर्णीजी द्वारा जयपुर मेले का वर्णन चल रहा है। इस मेले में जैनधर्म की बहुत ही प्रभावना हुई।       जयपुर नरेश द्वारा व्यक्त की जिनबिम्ब की महिमा बहुत सुंदर वर्णन है।      श्रीमान स्वर्गीय सेठ मूलचंदजी सोनी द्वारा मेले के आयोजन के कारण ही धर्म की अधिक प्रभावना हुई। यहाँ वर्णीजी ने बहुत ही महत्वपूर्ण बात कही- द्रव्य का होना पूर्वोपार्जित पुण्योदय है लेकिन उसका सदुपयोग बहुत ही कम पुण्यात्मा कर पाते हैं। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
                  *"महान मेला"*                      *क्रमांक-६२*
            मेला में श्री महाराजाधिराज जयपुर नरेश भी पधारे थे। आपने मेले की सुंदरता देख बहुत ही प्रसन्नता व्यक्त की थी। तथा जिनबिम्बों को देखकर स्पष्ट शब्दों में कहा था कि - 'शुभ ध्यान की मुद्रा तो इससे उत्तम संसार में नहीं हो सकती।          जिसे आत्मकल्याण करना हो वह इस प्रकार की मुद्रा बनाने का प्रयत्न करे। इस मुद्रा में बाह्यडम्बर छू भी नहीं गया है। साथ ही इनकी सौम्यता भी इतनी अधिक है कि इसे देखकर निश्चय हो जाता है कि जिनकी यह मुद्रा है उनके अंतरंग में कोई कलुषता नहीं थी।         मैं यही भावना भाता हूँ कि मैं भी इसी पद को प्राप्त होऊँ। इस मुद्रा के देखने से जब इतनी शांति होती है तब जिनके ह्रदय में कलुषता नहीं उनकी शांति का अनुमान होना ही दुर्लभ है।'        इस प्रकार मेला में जो जैनधर्म की अपूर्व प्रभावना हुई उसका श्रेय श्रीमान स्वर्गीय सेठ मूलचंद जी सोनी अजमेर वालों के भाग्य में था। द्रव्य का होना पूर्वोपार्जित पुण्योदय से होता है परंतु उसका सदुपयोग विरले ही पुण्यात्माओं के भाग्य में होता है।       जो वर्तमान में पुण्यात्मा हैं वही मोक्षमार्ग के अधिकारी हैं। संपत्ति पाकर मोक्षमार्ग का लाभ जिसने लिया उसी रत्न ने मनुष्य जन्म का लाभ लिया। अस्तु, यह मेला का वर्णन हुआ। ? *मेरीजीवन गाथा- आत्मकथा*?
 ?आजकि तिथि- श्रावण कृष्ण २?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

महान मेला - ६०


जय जिनेन्द्र बंधुओं,        यहाँ वर्णीजी ने जयपुर के मेले का उल्लेख किया है। मेले से तात्पर्य धार्मिक आयोजन से रहता है।        यहाँ पर वर्णी जी ने स्व. श्री मूलचंद जी सोनी अजमेर वालों का विशेष उल्लेख किया। उनकी विद्वानों के प्रति आदर की प्रवृत्ति से अपष्ट होता है कि जो जितना गुणवान होता है वह उतना विनम्र होता है। ऐसे गुणी लोगों के संस्मरण हम श्रावकों को भी दिशादर्शन करते हैं। ?संस्कृति संवर्धक गणेश प्रसाद वर्णी?
                   *"महान मेला"*
            
                     *क्रमांक - ६०*
              उन दिनों जयपुर में एक महान मेला हुआ था, जिसमें भारत वर्ष के सभी विद्वान और धनिक वर्ग तथा सामान्य जनता का बृहत्समारोह हुआ। गायक भी अच्छे आये थे।       मेला को भराने वाले श्री स्वर्गीय मूलचंद जी सोनी अजमेर वाले थे। यह बहुत ही धनाढ्य और सद्गृहस्थ थे। आपके द्वारा ही तेरापंथ का विशेष उत्थान हुआ- शिखरजी में तेरहपंथी कोठी का विशेष उत्थान आपके ही सत्प्रयत्न से हुआ। अजमेर में आपके मंदिर और नसियाँजी देखकर आपके वैभव का अनुमान होता है।              आप केवल मंदिरों के ही उपासक ही न थे, पंडितों के भी बड़े प्रेमी थे। श्रीमान स्वर्गीय बलदेवदासजी आपही के मुख्य पंडित थे। जब पंडित जी अजमेर जाते और आपकी दुकान पर पहुँचते तब आप आदर पूर्वक उन्हें आपने स्थान पर बैठाते थे। पंडितजी महराज जब यह कहते कि आप हमारे मालिक हैं अतः दुकान पर यह व्यवहार योग्य नहीं, तब सेठजी साहब उत्तर देते कि महराज ! यह तो पुण्योदय की देन है  परंतु आपके द्वारा वह लक्ष्मी मिल सकती है जिसका कभी नाश नहीं।       आपकी सौम्य मुद्रा और सदाचार को देखकर बिना ही उपदेश के जीवों का कल्याण हो जाता है। हम तो आपके द्वारा उस मार्ग पर हैं जो आज तक नहीं पाया।'       इस प्रकार सेठजी और पंडितजी का परस्पर सद्व्यवहार था। कहाँ तक उनका शिष्टाचार लिखा जावे? पंडितजी की सम्मति के बिना कोई भी धार्मिक कार्य सेठजी नहीं करते थे। जो जयपुर में मेला था वह पंडितजी की सम्मति से ही हुआ था।
? *मेरीजीवन गाथा- आत्मकथा*?
?आजकी तिथि - आषाढ़ शु. पूर्णिमा?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

यह है जयपुर - ५९


जय जिनेन्द्र बंधुओं,         यहाँ पूज्यवर्णी जी ने जयपुर में उस समय श्रावकों की धर्म परायणता को व्यक्त किया है। साथ ही वहाँ से पाठशालाओं आदि से निकले विद्वानों का भी उल्लेख किया है।        आप सोच सकते हैं कि इन सभी विद्वानों का तो मैंने नाम भी नहीं सुना, अतः उनसे मुझे क्या प्रयोजन।          मेरा मानना है कि पूज्य वर्णी जी द्वारा उल्लखित विद्वानों का वर्णन आज हम लोगों के लिए इतिहास की भाँति ही है। यह एक सौभाग्य ही है जो हमको गुणीजनों तथा उनके गुणों को जानने का अवसर मिल रहा है। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
               *"यह है जयपुर"*
            
                  *क्रमांक - ५९*
          जयपुर में इन दिनों विद्वानों का ही समागम न था, किन्तु बड़े-बड़े गृहस्थों का भी समागम था, जो अष्टमी चतुर्दशी को व्यापार छोड़कर मंदिर में धर्मध्यान द्वारा समय का सदुपयोग करते हैं।         पठन-पाठन का जितना सुअवसर यहाँ था उतना अन्यत्र न था। एक जैन पाठशाला मनिहारों के रास्ते में थी। श्रीमान पं. नाथूलाल जी शास्त्री, श्रीमान पं. कस्तूरचंद जी शास्त्री, श्रीमान पं. जवाहरलाल जी शास्त्री तथा श्रीमान पं. इंद्रलालजी शास्त्री आदि इसी पाठशाला द्वारा गणनीय विद्वानों में हुए। कहाँ तक लिखूँ? बहुत से छात्र अभ्यास कर यहाँ से पंडित बन प्रखर विद्वान हो जैनधर्म का उपकार कर रहे हैं।       यहाँ पर उन दिनों जब कि मैं पढ़ता था, श्रीमान स्वर्गीय अर्जुनदासजी भी एंट्रेंस में पढ़ते थे। आपकी अत्यंत प्रखर बुद्धि थी। साथ ही आपको जाति के उत्थान की भी प्रबल भावना थी।      आपका व्याख्यान इतना प्रबल होता था कि जनता तत्काल ही आपने अनुकूल हो जाती थी। आपके द्वारा पाठशाला भी स्थापित हुई थी। उसमें पठन-पाठन बहुत सुचारू रूप से होता था। उसकी आगे चलकर अच्छी ख्याति हुई। कुछ दिनों बाद उसको राज्य से भी सहायता मिलने लगी। अच्छे-अच्छे छात्र उसमें आने लगे।       आपका ध्येय देशोद्वार का विशेष था, अतः आपका कांग्रेस संस्था से अधिक प्रेम हो गया। आपका सिद्धांत जैनधर्म के अनुकूल ही राजनैतिक क्षेत्र में कार्य करने का था। आप अहिंसा का यथार्थ स्वरूप समझते थे। बहुधा बहुत से पुरुष दया को हो अहिंसा मान बैठते हैं, पर आपको अहिंसा और दया के मार्मिक भेद का अनुगम था। ? *मेरी जीवनगाथा - आत्मकथा*?
?आजकी तिथि- आषाढ़ शु.पूर्णिमा?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

चिरकांक्षित जयपुर - ५८


जय जिनेन्द्र बंधुओं,       आजकी प्रस्तुती में गणेश प्रसाद के जयपुर में अध्ययन का उल्लेख तथा उनकी पत्नी की मृत्यु के समाचार मिलने आदि का उल्लेख है। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
             *"चिरकांक्षित जयपुर"*                     *"क्रमांक - ५८"*
          यहाँ जयपुर में मैंने १२ मास रहकर श्री वीरेश्वरजी शास्त्री से कातन्त्र व्याकरण का अभ्यास किया और श्री चन्द्रप्रभचरित्र भी पाँच सर्ग पढ़ा।        श्री तत्वार्थसूत्रजी का अभ्यास किया और एक अध्याय श्री सर्वार्थसिद्धि का भी अध्ययन किया। इतना पढ़ बम्बई की परीक्षा में बैठ गया।         जब कातन्त्र व्याकरण प्रश्नपत्र लिख रहा था, तब एक पत्र मेरे पास ग्राम से आया। उसमें लिखा था कि तुम्हारी स्त्री का देहावसान हो गया। मैंने मन ही मन कहा- 'हे प्रभो ! आज मैं बंधन से मुक्त हुआ।' यद्यपि अनेकों बंधनों का पात्र था, वह बंधन ऐसा था, जिससे मनुष्य की सर्व सुध-बुध भूल जाती है।'        पत्र को पढ़ते देखकर श्री जमुनालालजी मंत्री ने कहा- 'प्रश्नपत्र छोड़कर पत्र क्यों पढ़ने लगे?'      मैंने उत्तर दिया कि 'पत्र पर लिखा था कि जरूरी पत्र है।' उन्होंने पत्र को मांगा। मैंने दे दिया।       पढ़कर उन्होंने समवेदना प्रगट की और कहा कि- 'चिंता मत करना, प्रश्नपत्र सावधानी से लिखना, हम तुम्हारी फिर से शादी करा देवेंगे।'        मैंने कहा- 'अभी तो प्रश्नपत्र लिख रहा हूँ, बाद में सर्व व्यवस्था आपको श्रवण कराऊँगा।'       अंत में सब व्यवस्था उन्हें सुना दी और उसी दिन बाईजी को पत्र सिमरा दिया एवं सब व्यवस्था लिख दी। यह भी लिख दिया कि 'अब मैं निशल्य होकर अध्ययन करूँगा।' इतने दिन से पत्र नहीं दिया सो क्षमा करना।' ? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल १३?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

चिरकांक्षित जयपुर - ५७


जय जिनेन्द्र बंधुओं,
        गणेश प्रसाद के अंदर लंबे समय से जयपुर जाकर अध्ययन करने की भावना चल रही थी। विभिन्न परिस्थितियों का सामना करते हुए वह जयपुर पहुँचे।        वर्णीजी बहुत ही सरल प्रवृत्ति के थे। आर्जव गुण अर्थात मन, वचन व काय की एकरूपता उनके जीवन से सीखी जा सकती है।         आज की प्रस्तुती में कलाकंद का प्रसंग आया, आत्मकथा में उनके द्वारा इसका वर्णन उनके ह्रदय की स्वच्छता का परिचय देता है। उस समय वह एक विद्यार्थी से व्रती नहीं थे।       अगली प्रस्तुती में उनके अध्ययन के विषय तथा पत्नी की मृत्यु आदि बातों को जानेंगे। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
            *"चिरकांक्षित जयपुर"*                      *क्रमांक - ५८*
                जयपुर की ठोलिया की धर्मशाला में ठहर गया। यहाँ जमनाप्रसादजी काला से मेरी मैत्री हो गई। उन्होंने श्रीवीरेश्वर शास्त्री के पास, जोकि राज्य के मुख्य विद्वान थे, मेरा पढ़ने का प्रबंध कर दिया। मैं आनंद से जयपुर में रहने लगा। यहाँ पर सब प्रकार की आपत्तियों से मुक्त हो गया।         एक दिन श्री जैनमंदिर के दर्शन करने के लिए गया। मंदिर के पास श्री नेकरजी की दुकान थी।  उनका कलाकंद भारत में प्रसिद्ध था। मैंने एक पाव कलाकंद लेकर खाया। अत्यंत स्वाद आया। फिर दूसरे दिन भी एक पाव खाया। कहने का तात्पर्य यह है कि मैं बारह मास जयपुर में रहा, परंतु एक दिन भी उसका त्याग न कर सका। अतः मनुष्यों को उचित है कि ऐसी प्रकृति न बनावें जो कष्ट उठाने पर उसे त्याग न सके। जयपुर छोड़ने के बाद ही वह आदत छूट सकी। ? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल १२?

पूज्य वर्णीजी के जीवन चरित्र को जानने के लिए अनेकों लोगों की जिज्ञासा देखने मिल रही है। मेरा प्रयास है कि मैं पूरी आत्मकथा को नियमित रूप से आप सभी के सम्मुख प्रस्तुत करता रहूँ, लेकिन कभी-२ संभव नहीं हो पाता।       वर्णीजी की आत्मकथा के प्रति आप लोगों की जिज्ञासा को जानकर मुझे प्रस्तुती के लिए उत्साह वर्धन होता रहता है।

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

विद्याध्ययन का सुयोग - ५६


जय जिनेन्द्र बंधुओं,
        बम्बई में गणेश प्रसाद का अध्ययन प्रारम्भ हो गया लेकिन जलवायु उनके स्वास्थ्य के अनुकूल न थी अस्वस्थ्य हो गये। यहाँ से पूना गए।          स्वास्थ्य ठीक होने पर बम्बई आए, वहाँ कुछ दिन बार पुनः ज्वर आने लगा। वहाँ से अजमेर का पास केकड़ी गया। कुछ दिन ठहरा वहाँ से गणेशप्रसाद चिरकाल से प्रतीक्षित स्थान जयपुर गए। कल से उसका वर्णन रहेगा। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
            *"विद्याध्ययन का सुयोग"*                      *क्रमांक - ५६*
    मेरा परीक्षाफल देखकर देहली के एक जवेरी लक्ष्मीचंद्रजी ने कहा कि 'दस रुपया मासिक हम बराबर देंगे, तुम सानंद अध्ययन करो।'         मैं अध्ययन करने लगा किन्तु दुर्भाग्य का उदय इतना प्रबल था कि बम्बई का पानी मुझे अनुकूल न पड़ा। शरीर रोगी हो गया। गुरुजी और स्वर्गीय पं. गोपालदासजी ने बहुत ही समवेदना प्रगट की। तथा यह आदेश दिया कि तुम पूना जाओ, तुम्हारा सब प्रबंध हो जायेगा। एक पत्र भी लिख दिया।        मैं उनका पत्र लेकर  पूना चला गया। धर्मशाला में ठहरा। एक जैनी के यहाँ भोजन करने लगा। वहाँ की जलवायु सेवन करने से मुझे आराम हो गया। पश्चात एक मास बाद मैं बम्बई आ गया। वहाँ कुछ दिन ठहरा फिर ज्वर आने लगा।      श्री गुरुजी ने मुझे अजमेर के पास केकड़ी है, वहाँ भेज दिया। केकड़ी में पं. धन्नालालजी, साहब रहते थे। योग्य पुरुष थे। आप बहुत ही दयालु और सदाचारी थे। आपके सहवास से मुझे बहुत लाभ हुआ। आपका कहना था कि 'जिसे आत्म-कल्याण करना हो वह जगत के प्रपंचों से दूर रहे।' आपके द्वारा यहाँ एक पाठशाला चलती थी।       मैं श्रीमान रानीवालों की दुकान पर ठहर गया। उनके मुनीम बहुत योग्य थे। उन्होंने मेरा सब प्रबंध कर दिया। यहाँ औषधालय में जो वैद्यराज दौलतराम जी थे, वह बहुत ही सुयोग्य थे। मैंने कहा- महराज मैं तिजारी से बहुत दुखी हूँ। कोई ऐसी औषधि दीजिए जिससे मेरी बीमारी चली जावे।        वैद्यराज ने मूँग के बराबर गोली दी और कहा- 'आज इसे खा लो तथा S४ दूध की S चावल डालकर खीर बनाओ तथा जितनी खाई जाए उतनी खाओ। कोई विकल्प न करना।'        मैंने दिनभर खीर खाई। पेट खूब भर गया। पन्द्रह दिन केकड़ी में रहकर जयपुर चला गया।
? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल १०?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

विद्याध्ययन का सुयोग - ५५


जय जिनेन्द्र बंधुओं,
         ज्ञानप्राप्ति की प्रबल भावना रखने वाले गणेश प्रसाद का बम्बई से अध्ययन प्रारम्भ हो पाया। यही पर उनका परिचय जैनधर्म के मूर्धन्य विद्वान पंडित गोपालदासजी वरैया । जैन सिद्धांत प्रवेशिका इन्ही के द्वारा लिखी गई है।          बम्बई से अध्ययन प्रारम्भ होने तथा अवरोध प्रस्तुत होने का उल्लेख प्रस्तुत प्रसंग में है। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
            *"विद्याध्ययन का सुयोग"*                      *क्रमांक - ५५*
      मैं आनंद से अध्ययन करने लगा और भाद्रमास में रत्नकरण्डश्रावकाचार तथा कातन्त्र व्याकरण की पञ्चसंधि में परीक्षा दी। उसी समय बम्बई परीक्षालय खुला था। रिजल्ट निकला। मैं दोनों विषय में उत्तीर्ण हुआ। साथ में पच्चीस रुपये इनाम भी मिला। समाज प्रसन्न हुई।      श्रीमान पंडित गोपालदास वरैया उस समय वहीं पर रहते थे। आप बहुत ही सरल तथा जैनधर्म के मार्मिक पंडित थे, साथ में अत्यंत दयालु भी थे।        वह मुझसे बहुत प्रसन्न हुए और कहने लगे कि- 'तुम आनंद से विद्याध्ययन करो, कोई चिंता मत करो।' वह एक साहब के यहाँ काम करते थे। साहब इनसे  अत्यंत प्रसन्न था।        पंडितजी ने मुझसे कहा- 'तुम शाम को मुझे विद्यालय आफिस से ले आया करो, तुम्हारा जो मासिक खर्च होगा, मैं दूँगा। यह न समझना कि मैं तुम्हे नौकर समझूँगा। मैं उनके समक्ष कुछ नहीं कह सका।'     मेरा परीक्षाफल देखकर देहली के एक जवेरी लक्ष्मीचंद्रजी ने कहा कि 'दस रुपया मासिक हम बराबर देंगे, तुम सानंद अध्ययन करो।'         मैं अध्ययन करने लगा किन्तु दुर्भाग्य का उदय इतना प्रबल था कि बम्बई का पानी मुझे अनुकूल न पड़ा। शरीर रोगी हो गया। गुरुजी और स्वर्गीय पं. गोपालदासजी ने बहुत ही समवेदना प्रगट की। तथा यह आदेश दिया कि तुम पूना जाओ, तुम्हारा सब प्रबंध हो जायेगा। एक पत्र भी लिख दिया। ? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल ७?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

विद्याध्ययन का सुयोग - ५४


जय जिनेन्द्र बंधुओं,
      गणेशप्रसाद के अंदर ज्ञानार्जन के प्रति तीव्र लालसा का पता इसी बात से लगता है कि वह अभावग्रस्त परिस्थितियों में भी अपने अध्ययन के लिए प्रयासरत थे। कुछ राशी जमा कर अध्ययन का ही प्रयास किया।     संस्कृत अध्ययन में परीक्षा उत्तीर्ण करने के कारण उन्हें पच्चीस रुपये का पुरुस्कार मिला। समाज के लोगों को प्रसन्नता हुई। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
            *"विद्याध्ययन का सुयोग"*                      *क्रमांक - ५४"*
      यहाँ पर मंदिर में एक जैन पाठशाला थी। जिसमें श्री जीवाराम शास्त्री गुजराती अध्यापक थे (वे संस्कृत के प्रौढ़ विद्वान थे)। ३०) मासिक पर दो घंटा पढ़ाने आते थे। साथ में श्री गुरुजी पन्नालालजी बकलीवाल सुजानगढ़ वाले ऑनरेरी धर्मशिक्षा देते थे।        मैंने उनसे कहा- 'गुरुजी ! मुझे भी ज्ञानदान दीजिए।' गुरुजी ने मेरा परिचय पूंछा, मैंने आनुपूर्वी अपना परिचय उनको सुना दिया। वह बहुत प्रसन्न हुए और बोले तुम संस्कृत पढ़ो।     उनकी आज्ञा शिरोधार्य कर कातन्त्र व्याकरण श्रीयुत शास्त्री जीवारामजी से पढ़ना प्रारम्भ कर दिया। और रत्नकरण्ड श्रावकाचार जी पंडित पन्नालालजी से पढ़ने लगा। मैं पण्डितजी को गुरुजी कहता था। 
      
       बाबा गुरुदयालजी से मैंने कहा- 'बाबाजी ! मेरे पास ३१।=) कापियों के आ गए। १०) आप दे गए थे। अब मैं भाद्र तक के लिए निश्चिंत हो गया। आपकी आज्ञा हो तो संस्कृत अध्यनन करने लगूँ।'        उन्होंने हर्षपूर्वक कहा- 'बहुत अच्छा विचार है, कोई चिंता मत करो, सब प्रबंध कर दूँगा, जिस किसी पुस्तक की आवश्यकता हो, हमसे कहना।'       मैं आनंद से अध्ययन करने लगा और भाद्रमास में रत्नकरण्डश्रावकाचार तथा कातन्त्र व्याकरण की पञ्चसंधि में परीक्षा दी। उसी समय बम्बई परीक्षालय खुला था। रिजल्ट निकला। मैं दोनों विषय में उत्तीर्ण हुआ। साथ में पच्चीस रुपये इनाम भी मिला। समाज प्रसन्न हुई। ? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल ४?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

 

विद्याध्ययन का सुयोग - ५३


जय जिनेन्द्र बंधुओं,
       आज की प्रस्तुती से हम जानेंगे कि गणेशप्रसाद ने बम्बई में ज्ञानार्जन हेतु कापियों को बेचकर धनार्जन किया। ?संस्कृति संवर्धक गणेशप्रसाद वर्णी?
            *"विद्याध्ययन का सुयोग"*                      *क्रमांक - ५३"*
        बाबा गुरुदयालसिंह ने कहा आप न तो हमारे संबंधी हैं। और न हम तुमको जानते ही हैं तुम्हारे आचारादि से अभिज्ञ नहीं हैं फिर भी हमारे परिणामों में तुम्हारे रक्षा के भाव हो गए।         इससे अब तुम्हे सब प्रकार की चिंता छोड़ देना चाहिए तथा ऊपर भी जिनेन्द्रदेव के प्रतिदिन दर्शननादि कर स्वाध्याय में उपयोग लगाना चाहिए। तुम्हारी जो आवश्यकता होगी हम उसकी पूर्ति करेंगे।' इत्यादि वाक्यों द्वारा मुझे संतोष कराके चले गए।        मैंने आनंद से भोजन किया। कई दिन से चिंता के कारण निंद्रा नहीं आई थी, अतः भोजन करने के अनंतर सो गया। तीन घंटे बाद निंद्रा भंग हुई, मुख मार्जन कर बैठा ही था कि इतने में बाबा गुरुदयालजी आ गए और १०० कापियाँ देकर यह कहने लगे कि इन्हें बाजार में जाकर फेरी में बेज आना।       छह आने से कम में न देना। यह पूर्ण हो जाने पर मैं और ला दूँगा। उन कापियों में रेशम आदि कपड़ो के नमूने विलायत से आते हैं।       मैं शाम को बाजार में गया और एक ही दिन में बीस कापी बेच आया। कहने का तात्पर्य यह है कि  छह दिन में वे सब कापियाँ बिक गई और उनकी बिक्री के मेरे पास ३१।=) हो गए। अब मैं एकदम निश्चिंत हो गया।       यहाँ पर मंदिर में एक जैन पाठशाला थी। जिसमें श्री जीवाराम शास्त्री गुजराती अध्यापक थे (वे संस्कृत के प्रौढ़ विद्वान थे)। ३०) मासिक पर दो घंटा पढ़ाने आते थे। साथ में श्री गुरुजी पन्नालालजी बकलीवाल सुजानगढ़ वाले ऑनरेरी धर्मशिक्षा देते थे।        मैंने उनसे कहा- 'गुरुजी ! मुझे भी ज्ञानदान दीजिए।' गुरुजी ने मेरा परिचय पूंछा, मैंने आनुपूर्वी अपना परिचय उनको सुना दिया। वह बहुत प्रसन्न हुए और बोले तुम संस्कृत पढ़ो।
      
? *मेरी जीवन गाथा - आत्मकथा*?
 ?आजकी तिथी- आषाढ़ शुक्ल २?

Abhishek Jain

Abhishek Jain

×