Jump to content
फॉलो करें Whatsapp चैनल : बैल आईकॉन भी दबाएँ ×
JainSamaj.World

आज की पहेली 5 - 10- 21


Recommended Posts

ज्ञान से मिलता भव का किनारा, ज्ञान बिना न कोई सहारा ।

मतिज्ञान के भेद बताओ, केवलज्ञानी तुम बन जाओ ॥

 

  • आपके द्वारा दिया गया उत्तर किसी को भी नहीं दिखेगा 
  • सभी उत्तर एक साथ खोले जाएंगे 
  • आपकी रचनात्मकता शैली इस प्रयोग को  सफल बनाएगी
  • आपका स्वाध्याय - आज आपका उपहार 
  • Like 5
Link to comment
Share on other sites

सम्यक् दर्शन ज्ञान चारित्र ही है मोक्ष के द्वार।

समीचीन तप से होता है आत्मा का उद्धार ।।

ज्ञान पाँच प्रकार के होते है।

1. मतिज्ञान 2. श्रुतज्ञान 3. अवधिज्ञान 

4. मनःपर्यय ज्ञान 5. केवलज्ञान

मतिज्ञान के चार भेद होते है

1. अवग्रह 2. ईहा 3. अवाय 4. धारणा

अहिंसा परमो धर्म की जय हो...

दिनेश कुमार जैन "आदि"

मुम्बई- अम्बाह

Link to comment
Share on other sites

इंद्रिय और मन के निमित्त से शब्द रस स्पर्श रूप और गंधादि विषयों मे अवग्रह, ईहा, अवाय और धारणारूप जो ज्ञान होता है, वह मतिज्ञान है। ( द्रव्यसंग्रह टीका/44/188/1 )

मूल रुप से मतिज्ञान के ये 4 भेद है - अवग्रह, ईहा, अवाय और धारणा

उपरोक्त भेदों के प्रभेद या भंग–अवग्रहादि  की अपेक्षा = 4; पूर्वोक्त 4×6 इंद्रियाँ = 24; पूर्वोक्त 24+ व्यंजनावग्रह के 4 = 28; पूर्वोक्त 28+अवग्रहादि 4 = 32–में इस प्रकार 24, 28, 32 ये तीन मूल भंग हैं। इन तीनों की क्रम से बहु बहुविध आदि 6 विकल्पों से गुणा करने पर 144, 168 व 192 ये तीन भंग होते हैं। उन तीनों को ही बहु बहुविध आदि 12 विकल्पों से गुणा करने पर 288, 336 व 384 ये तीन भंग होते हैं। इस प्रकार मतिज्ञान के 4, 24, 28, 32, 144, 168, 192, 288, 336 व 384 भेद भी होते हैं। ( षटखंडागम 13/5,5/ सूत्र 22-35/216-234); ( तत्त्वार्थसूत्र/1/15-19 ); ( पंचसंग्रह / प्राकृत/1/121 ); ( धवला 1/1,1,115/ गा.182/359); ( राजवार्तिक/1/19/9/70/7 ); ( हरिवंशपुराण/10/145-150 ); ( धवला 1/1,1,2/93/3 ); ( धवला 6/1,9,1,14/16,19,21 ); ( धवला 9/4,1,45/144,149,155 ); ( धवला 13/5,5,35/239-241 ); ( कषायपाहुड़ 1/1,1/10/14/1 ); ( जंबूद्वीपपण्णत्तिसंगहो/13/55-56 ); ( गोम्मटसार जीवकांड/306-314/658-672 ); ( तत्त्वसार/1/20-23 )।

Link to comment
Share on other sites

Guest
This topic is now closed to further replies.
  • Who's Online   0 Members, 0 Anonymous, 23 Guests (See full list)

    • There are no registered users currently online
  • अपना अकाउंट बनाएं : लॉग इन करें

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...