Jump to content
JainSamaj.World

admin

Administrators
  • Content Count

    2,279
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    194

admin last won the day on May 6

admin had the most liked content!

Community Reputation

486 Excellent

About admin

  • Rank
    Advanced Member

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. Panchadrya jeev

    1. Pratyasha Jain

      Pratyasha Jain

      Khatta , meetha , chapara ,kasayala and kadwa

  2. विषयों को जो चखकर जाने, रसना इन्द्रिय वो पहचाने । पाँच विषय हैं उसके होते, नाम बताओ अब क्यों सोते॥ उत्तर एक ही बार लिखें आप सभी के उत्तर कल दिखेंगे
  3. दिव्यध्वनि के हैं जो कारण, पाप ताप का करते वारण । कितने गणधर सभी बताएं, समवसरण में शोभा पाएँ ॥ आज रत्रि 10 बजे तक दे सकते हैं उत्तर आपके उत्तर रात्रि 10 बजे तक किसी को भी नहीं दिखेंगे
  4. पहेली हल करने के लिएअनिवार्य नियमावली प्रेषित करें।

    पहेलियाँ किस प्रकार की होंगी।

    शब्द व अंक के अलावा प्रश्नात्मक

     

    1. Rani Devi

      Rani Devi

      गणध

      1456

       

       

  5. 2ज्ञान, मतिज्ञान श्रुतज्ञान 

  6. ज्ञान ही भव का कूल कहाता, राग सहित जग में भटकाता । हम हैं कितने ज्ञान के धारी, सोच बताओ सब नर-नारी ॥ आज रत्रि 10 बजे तक दे सकते हैं उत्तर आपके उत्तर रात्रि 10 बजे तक किसी को भी नहीं दिखेंगे
  7. आप सभी को www.Vidyasagar.guru वेबसाइट की तरफ से दिवाली एवं नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं | इस त्योहारी माहोल में आपके मन में उत्साह और उमंग देखते ही बनता हैं | आशा करते हैं, यह नव वर्ष आपके जीवन पथ के संकल्पों को शक्ति प्रदान करेगा , लक्ष्यों की पूर्ती कराएगा अथवा करने में प्रोत्साहन देगा | इस वेबसाइट के प्रति आपके विश्वास के लिए आप सभी को ह्रदय से साभार (धन्यवाद) | एक निवेदन - दीपावली हमारा त्यौहार है इस त्यौहार को हैप्पी दीपावली ना बोलकर महोत्सव के नाम से मनाएं या कहें भगवान के निर्वाण कल्याण महोत्सव की सभी को बहुत-बहुत बधाई हो क्योंकि हम जैन है और इस दिन हमारे अंतिम
  8. दोषों को है दूर भगाता, निर्मल निज आतम को बनाता। आवश्यक वह क्या कहलाता, मोक्षमार्ग से जोड़े नाता॥
  9. सकल कर्म से मुक्त है होना, पाप ताप को जड़ से खोना । तत्त्व कौन सा मुनिवर कहते,नाम बताओ दुःख क्यों सहते ॥ आज सभी के छिपे रहेंगे उत्तर कल दिखेंगे
  10. चालीसा : श्री सम्भवनाथ जी https://jainsamaj.vidyasagar.guru/jinvani.html/chalisa/chalisa-shri-sambhavnath-ji/ श्री संभवनाथ जी जिन पूजा - Shree Sambhavnaath ji pooja https://jainsamaj.vidyasagar.guru/jinvani.html/puja/shree-sambhavnaath-ji-pooja/ श्री संभवनाथ- भगवान् मूलनायक प्रतिमा दर्शन https://jainsamaj.vidyasagar.guru/gallery/category/18-1 आपके मंदिर में अगर सम्भवनाथ भगवान् की मूलनायक प्रतिमा हो तो जरूर अपलोड करें
  11. 🎊🎊 संभवनाथ भगवान के केवलज्ञान कल्याणक महोत्सव की बधाई 🎊🎊 आज देवाधिदेव 1008 श्री संभवनाथ भगवान का केवलज्ञान कल्याणक है, आज अत्यंत भक्ति-भाव से देवादिदेव श्री १००८ संभवनाथ भगवान की घर पर ही पूजन कर केवलज्ञान कल्याणक पर्व मनाएँ। तीर्थंकरों के जीवन की ऐसी घटना जो अन्य जीवों के कल्याण का आधार बनती हैं कल्याणक कहलाते हैं। वर्तमान में साक्षात में तो भगवान के कल्याणक देख पाना संभव नहीं अतः कल्याण पर्वों के शुभ अवसर पर भगवान की भक्ति, पूजन आदि द्वारा पुण्योपार्जन करना चाहिए। 🙏🏻 संभवनाथ भगवान की जय🙏🏻 🙏🏻 केवलज्ञान कल्याणक पर्व की जय🙏🏻 सभी को बहुत बहुत बधाई व शुभकामनाये
  12. एक अत्यंत विनम्र निवेदन... मित्रों, कोरोना पीड़ितों को सब से अधिक परेशानी सांस फूलने की होती है। ये फेंफड़े से संबंधित है और जो लोग कोरोना से ठीक हो जाते हैं उन्हें भी बहुत समय लगता है पूरी तरह सामान्य होने में। अब हर जगह कोरोना पीड़ितों की संख्या बहुत हो चुकी है, अतः हमें शपथ लेना चाहिए कि ...इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए दीपावली पर हम ओर हमारा पूरा परिवार पटाखे नहीं छोड़ेंगे। कोशिश रहेगी कि अपने मोहल्ले में भी सबको समझाकर इस बार पटाखों से दूरी रखने का निवेदन करेंगे। इस महामारी में किसी भी जगह होम क्वांरटीन रह रहे मरीजों को ये जहरीली गैस बहुत घातक होगी। आप सब भी कोशिश कीजिये कि
  13. ⛳ मोक्ष कल्याणक पर्व ⛳ आज शीतलनाथ भगवान का मोक्ष कल्याणक है 23 अक्टूबर दिन शुक्रवार तीर्थंकर शीतलनाथ जी का है मोक्ष कल्याणक , शिखरजी में विद्दुत वर कूट ( टोंक न.-12 ) हुआ था | आज के ही दिन पूर्वाषाढ़ नक्षत्र में संध्या के समय 1000 मुनिराजों के साथ सिद्ध पद को प्राप्त किया था | इस कूट से 18 कोड़ा कोड़ी 42 करोड़ 32 लाख 42 हजार 905 मुनि मोक्ष गये | दर्शन करें--- शीतलनाथ जी भगवान की जय🙏 आप सभी 👨‍👩‍👦‍👦जन को 1008 तीर्थंकर श्री शीतलनाथ जी भगवान के मोक्ष कल्याणक की हार्दिक बधाईयां.ओर शुभकामनाएं.... सभी जिन मन्दिरो 🎪में विराजित 1008 श्री शीतलनाथ जी भगवान के पावन चरणों मे त्रिकाल त
  14. Approve next day hota hien warna sab answer dekh lenge -sab ek jaisa answer likh denge
  15. केवलज्ञान जिन्होंने पाया, भरत क्षेत्र में प्रथम कहाया। प्रथम प्रभु का नाम बताओ, केवलज्ञानी तुम बन जाओ॥
×
×
  • Create New...