Jump to content
JainSamaj.World

श्री 1008 चन्द्रप्रभु दि. जैन अतिशय क्षेत्र, देहरा, अलवर (राजस्थान)


Recommended Posts

अतिशय क्षेत्र देहरा - तिजारा

नाम एवं पता - श्री 1008 चन्द्रप्रभु दि. जैन अतिशय क्षेत्र, देहरा - तिजारा, ग्राम-देहरा,तहसील-तिजारा,जिला-अलवर (राजस्थान) पिन-301411

टेलीफोन - 01469 - 262119, 262407, 094140 14222

 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- 114, कमरे (बिना बाथरूम)-200, हाल - 6 (यात्री क्षमता - 350)

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 2000.

अन्य - आधुनिक सुविधा युक्त यात्री निवास जहाँ जल, विद्युत की आपूर्ति बनी रहती है।

भोजनशाला - नियमित, सशुल्क

औषधालय - है (आयुर्वेदिक)

पुस्तकालय - है।

विद्यालय - 1. सीनियर हायर सेकेन्डरी स्कूल 

2. कन्या महाविद्यालय

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन - अलवर - 55 कि.मी.

बस स्टेण्ड - तिजारा - सड़क पक्की है।

पहुंचने का सरलतम मार्ग - अलवर - भिवाड़ी - दिल्ली बस मार्ग पर है। तिजारा से अलवर, श्री महावीरजी, भरतपुर, मथुरा, रेवाड़ी, दिल्ली आदि।

निकटतम प्रमुख नगर - अलवर - 55 कि.मी. (अलवर नगर के उत्तर पूर्व में 55 कि.मी. तिजारा है)

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र तिजारा प्रबन्धकारिणी कमेटी

अध्यक्ष - श्री ज्ञानचन्द जैन (01469 - 262150,09414427720)

महामंत्री - श्री नरेन्द्रकुमार जैन (01469 - 262240)

प्रबन्धक - श्री गोपाल अरोड़ा (०1469 - 262310), श्री पंकज जैन (01469 - 263212)

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 03

क्षेत्र पर पहाड़ - नहीं

ऐतिहासिकता - भगवान चन्द्रप्रभु की पद्मासन प्रतिमा का दिनांक 16 अगस्त, 1956 में सड़क खुदाई के चौड़ीकरण के समय तलघर से प्रादुर्भाव हुआ। प्रतिमा चन्द्रमा के चिन्ह से चिन्हित है। प्रतिमा की चौड़ाई 12 इंच व ऊँचाई 15 इंच है। प्रतिमा वि.सं. 1554 में प्रतिष्ठित की गई है। देहरा नाम प्राचीन काल से है। इसका इतिहास में महाभारत से संबंध है। अनवरत आक्रमण होने से प्रतिमाएँ भूमिगत होती गयी। मंदिर श्वेत संगमरमर से शोभायमान है हॉल में की गई काँचकी पच्चीकारी, चित्रकारी दर्शनीय है। नगर में अन्य जिनालय भी दर्शनीय हैं।

तिथि एवं उत्सव : मिति फाल्गुन सुदी सप्तमी (निर्वाण दिवस) एवं सावन सुदी दशमी

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र

श्रीमहावीरजी-200 कि.मी., कासन-60 कि.मी., बड़ागांव-125 कि.मी., हस्तिनापुर 220 कि.मी., पद्मपुरा-234 कि.मी., शिकोहपुर (सिद्धांत क्षेत्र)-65 कि.मी. 

आपका सहयोग : 

जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|

 

Link to post
Share on other sites
  • अपना अकाउंट बनाएं

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...