Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज सागर

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Madhya Pradesh
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र तिगोडाजी मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री 1008 आदिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र तिगोड़ाजी मु. पो. तिगोड़ाजी ता. शाहगढ़, जिला - सागर (म.प्र.) टेलीफोन - 09329546212, 09893811365 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- 3 (बिना बाथरूम) - 2 हाल -1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 50 भोजनशाला - नहीं औषधालय - नहीं पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - शा.मा.शाला तिगोडाजी एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - X आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सागर -51 कि.मी. बस स्टेण्ड - बस स्टेशन - सागर, हिरापुर, तिगोड़ाजी पहुँचने का सरलतम मार्ग - सागर से शाहगढ़ से हीरापुर से तिगोड़ाजी (पक्की सड़क हीरापुर-तिगोड़ाजी - 4 कि.मी.) निकटतम प्रमुख नगर - शाहगढ़ 11 कि.मी, सागर 51 कि.मी., छतरपुर 70 कि.मी., टीकमगढ़ 70 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री भगवानजी ज्ञान शिक्षा समिति तिगोड़ाजी अध्यक्ष - श्री अशोक कुमारजी जैन, सागर (09893404038) महामंत्री - श्री मुकेश कुमारजी जैन, सागर (09329546212) का. मंत्री - श्री सचेन्द्रकुमारजी जैन, तिगोडाजी (09893811365) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 3 प्राचीन क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : 150 से 200 वर्ष प्राचीन जिन मंदिरजी है, व मूल नायक भगवान आदिनाथजी का आपने आप जलाभिषेक होना सबसे बड़ा अतिशय है। वार्षिक मेला : रंग पंचमी समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - सिद्धक्षेत्र नैनागिर-51 कि.मी., द्रोणगिरी-40 कि.मी., पपोराजी-60 कि.मी., नेमगिरी (बण्डा)-50 कि.मी., अहारजी-60 कि.मी., नवागढ़-50 कि.मी., बड़ागाँव फलाहोड़ी-30 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें | यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें | ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  3. अतिशय क्षेत्र पिंडवा मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री देव पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर अतिशय क्षेत्र, पिड़रूवा ग्राम-पिड़रूवा, तहसील-बण्डा, जिला-सागर (मध्यप्रदेश) पिन - 470442 टेलीफोन - 07582 - 246975, मो. : 097524-72274 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) -3, कमरे (बिना बाथरूम) - 4 हाल - 2, (यात्री क्षमता - 20) गेस्ट हाऊस - ४ यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 50 भोजनशाला - है अनुरोध पर समयानुसार औषधालय - है। पुस्तकालय - है - 200 पाडुलिपियाँ + 3500 पुस्तकें विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./ पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सागर - 35 कि.मी. बस स्टेण्ड - सागर - 35 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सागर से सड़क मार्ग द्वारा झाँसी रोड़ NH-26 पर पाली - 35 कि.मी. पाली से पिड़रूवा या सागर से धामोनी मार्ग बहरोल से पिड़रूवा निकटतम प्रमुख नगर - सागर - 35 कि.मी., बण्डा - 28 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री देव पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर ट्रस्ट, पिड़रूवा अध्यक्ष - श्री फूलचन्द सिंघई (सिंघई हार्डवेअर, भगवानगंज, सागर) फोन (07582 - 246975) प्रबन्धक - श्री सचिन कुमार सेठ, पिड़वा (096303-13808) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : सागर से उत्तर की ओर 35 कि.मी., दूर सघन वन में स्थित अति प्राचीन क्षेत्र है। आदिनाथ स्वामी की 5 फीट पदमासन प्रतिमा, पाषाण की 41 प्रतिमाएँ एवं पीतल की 71 प्रतिमाएँ विराजित हैं। मंदिरजी में 31 बड़े यंत्र, 81 हस्तलिखित ग्रन्थ एवं छपे शास्त्र हैं। क्षेत्ररक्षक पद्मावती देवी की प्रतिमा अद्भुत एवं अतिशयकारी है एवं अमावस्या पर कष्ट दूर करती है। मन्दिर में सात वेदियाँ, 2 चौक व 4 शिखर हैं। अनेक मुनि, माताजी, आचार्य यहाँ ध्यानार्थ पधारते रहते हैं। मंदिर में संवत् 1400 की अत्यन्त प्राचीन मूर्तियाँ हैं। हस्तलिखित ग्रंथराज हैं। मंदिर में ग्राम नैतना,बम्होरी सागोनी, धामोनी के मंदिर समाहित हैं। शनि अरिष्ट निवारक देव श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान की अद्वितीय तीन फुट श्यामवर्ण, पाषाण की प्रतिमा है। प्रत्येक शनिवार - अमावस्या को मेला लगता है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र : नैनागिरि - 58 कि.मी., बीना (बारहा) - 60 कि.मी., कुंडलपुर - 125 कि.मी., द्रोणगिरि - 120 कि.मी., पजनारी बण्डाजी - 15 कि.मी., खजुराहो - 170 कि.मी. 123 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  4. अतिशय क्षेत्र पटनागंज (रहली) मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, पटनागंज मु. पो. -रहली वार्ड क्र. 14, जिला - सागर (मध्यप्रदेश) पिन-470227 टेलीफोन - 09630355361, 09301020449, 09926979547 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X, कमरे (बिना बाथरूम) - 40 हाल - 3, (यात्री क्षमता - ) गेस्ट हॉऊस - शासकीय यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 3000 भोजनशाला - सशुल्क, अनुरोध पर औषधालय है। पुस्तकालय - है। विद्यालय - है (प्राथमिक शाला) एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सागर - 42 कि.मी., दमोह, जबलपुर, नरसिंहपुर बस स्टेण्ड रहली - 2 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सागर, दमोह, जबलपुर, पटेरिया, खुरई, बीना, गौरझामर इत्यादि स्थानों से बस सुविधा उपलब्ध है। निकटतम प्रमुख नगर - सागर से रहली - 42 कि.मी. (पश्चिम दिशा) प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री देव पार्श्वनाथ अतिशय क्षेत्र, पटनागंज ट्रस्ट - रहली अध्यक्ष - श्री सुशीलकुमार जैन 'पत्रकार' (09425691224) महामंत्री - श्री मुन्नालाल जैन (09300156784) कोषाध्यक्ष - श्री सि. गुलाबचन्द्र जैन (07585-256265, 09329883110) प्रबन्धक - श्री ऋषभ जैन (096303 55361) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 30 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : यह क्षेत्र लगभग 1200 वर्ष प्राचीन है। मूल मन्दिर भगवान मुनिसुव्रतनाथ का है । इसके अलावा नंदीश्वर जिनालय, महावीर मन्दिर, चिंतामणि पार्श्वनाथ मन्दिर, सहस्रकूट चैत्यालय व समवशरण की रचना इत्यादि क्षेत्र के आकर्षण हैं। क्षेत्र विस्तार की अनेक योजनाएँ चल रही हैं, अद्वितीय जिनालय। मंदिर क्रमांक 22 में लगभग 14 फीट की उंची भगवान महावीर की अद्भुत प्रतिमा है। वार्षिक मेले : महावीर जयंती, दीपावली, मुकट सप्तमी समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र पटेरिया (गढ़ाकोटा) - 22 कि.मी., बीना बारहा - 35 कि.मी., मढ़ियाजी, कुण्डलपुर - 80 कि.मी., नैनागिर, मंगलगिरि (सागर) - 50 कि.मी., ईशुरवारा - 75 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  5. अतिशय क्षेत्र पटेरिया (गढ़ाकोटा) मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, पटेरिया तहसील एवं ग्राम - गढ़ाकोटा, जिला- सागर (मध्यप्रदेश) पिन - 470229 टेलीफोन - 09300581108, email : pateriaji@gmail.com क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 8, कमरे (बिना बाथरूम) - 22, हाल - 1, (यात्री क्षमता - 75) गेस्ट हाऊस - X, यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500 भोजनशाला - अनुरोध पर औषधालय - नहीं पुस्तकालय - है । विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - दमोह - 30, सागर - 45, पथरिया - 15 कि.मी. बस स्टेण्ड - गढ़कोटा - 1 कि.मी.। पहुँचने का सरलतम मार्ग - क्षेत्र सागर - दमोह मुख्य सड़क मार्ग पर स्थित है। अत: दोनों स्थानों से पहुँचना सुविधाजनक है। निकटतम प्रमुख नगर - दमोह - 30 कि.मी., सागर - 45 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन 1008 पार्श्वनाथ पटेरिया ट्रस्ट कमेटी अध्यक्ष - श्री जिनेश सिंघई, गढ़ाकोटा (07582-258282, 09179182656) मंत्री - श्री रजनीश सिंघई (09753151342) प्रबन्धक श्री विनोद जैन (09302276765) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : 232 वर्ष प्राचीन जिनालय जिसकी ऊँचाई लगभग 90 फुट और भगवान पार्श्वनाथ की तीन प्रतिमाओं की ऊँचाई साढे सात फुट है। यहाँ अनेक चमत्कार एवं अतिशय हुए हैं। 20 अगस्त 1992 को रात्रि में 8 से 1 बजे तक अनवरत जल का प्रवाहन, मंदिर में रात्रि में वाद्य यंत्रों, घुघरूओं की सुमधुर ध्वनि सुनाई देना, गजरथ के वक्त भोजन में घी की कमी होने पर भट्टारक महेन्द्रकीर्तिजी के आदेश पर जलकुण्ड का पानी कढ़ाई में डालकर घी की कमी पूरी की गई आदि। ऐतिहासिक किला 1 कि.मी. की दूरी पर है। विशेष जानकारी : इन्टरनेट पर है Website www.jainteerth.com.pateriyaji समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - पटनागंज रहली -20 कि.मी., बीना बारहा-50 कि.मी., कुण्डलपुर-64 कि.मी., नैनागिरि - 60 कि.मी., आरक्षित वन रमजा - 10 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  6. अतिशय क्षेत्र पजनारी मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री 1008 दिगम्बर जैन अतिशय तीर्थक्षेत्र, पजनारी ग्राम-पजनारी, तहसील-बण्डा, जिला-सागर (मध्यप्रदेश) पिन-470335 टेलीफोन - मो.: 098938 37845, 098938 60247 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X, कमरे (बिना बाथरूम) - 3 हाल - 1, गेस्ट हाउस -1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 30. भोजनशाला - है औषधालय - है पुस्तकालय - X विद्यालय - है एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सागर - 25 कि.मी. बस स्टेण्ड - बण्डा - 10 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क मार्ग - बण्डा से पजनारी निकटतम प्रमुख नगर - बण्डा - 10 कि.मी., सागर - 25 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 दि. जैन अतिशय क्षेत्र, पजनारी अध्यक्ष - श्री महेन्द्रकुमार जैन, भूसावाले (09893753270, 07583 - 252232) महामंत्री - श्री पदमचन्द जैन (07583-252005) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : पहाड़ी है, आस-पास कमरे एवं दहलान है। 150 फीट उंचाई है, वाहन जाते है। ऐतिहासिकता : पर्वत पर विशाल मन्दिर है। मन्दिर में सवा मीटर ऊँची भगवान शांतिनाथ की पद्मासन प्रतिमा है। दोनों पार्श्व में पौने दो-दो मीटर ऊँची खड्गासन प्रतिमाएँ भगवान अरहनाथजी व भगवान कुंथुनाथजी की हैं । यह क्षेत्र नदी किनारे अवस्थित है। यह मन्दिर श्रेष्टिवर पाणाशाह द्वारा निर्मित है । पहाड़ के किनारे गुफाएं हैं । बण्डा में ऐतिहासिक 6 मंदिर हैं। विशेष जानकारी : सड़क मार्ग, जल की व्यवस्था, विद्युत व्यवस्था, धर्मशाला भी है 16.50 एकड़ रकबा विशाल बाउन्ड्रीवाल से सुरक्षित है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र : नैनागिरि 34 कि.मी., द्रोणगिरि 110 कि.मी., गिरारगिरि , पिड़वा 17 कि.मी., पाटन - 15 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  7. अतिशय क्षेत्रमंगलगिरि (सागर) मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, मंगलगिरि धर्मश्री अम्बेडकर वार्ड, सागर (मध्यप्रदेश) पिन - 470001 टेलीफोन - 09302377716, 09179734669 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 9, (बिना बाथरूम) - 12 हाल - 2, गेस्ट हाउस - 1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200. भोजनशाला - नहीं औषधालय - नहीं पुस्तकालय - नहीं विद्यालय नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सागर - 2 कि.मी. बस स्टेण्ड - सागर - 2 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क व रेलमार्ग द्वारा निकटतम प्रमुख नगर - सागर - 2 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री स्याद्वाद शिक्षण परिषद ट्रस्ट (रजि.), सागर अध्यक्ष - श्री चौधरी जयकुमार जैन (09993253759, 07582 - 223718,) मंत्री - श्री नेमचन्द जैन (09302377716, 08305918215) प्रबन्धक - श्री मन्नूलाल (091797-34669) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 02 क्षेत्र पर पहाड़ : है (वाहन पहाड़ पर जाते हैं) सीढ़ियाँ नहीं सड़क है। ऐतिहासिकता : इस क्षेत्र पर भगवान महावीर की 11'/, फीट ऊँची खड्गासन 9 टन पीतल की विश्व की प्रथम मूर्ति है। यह मूर्ति मनोहारी एवं चमत्कारिक है। मन्दिर के शिखर की ऊँचाई भूतल से 111 फीट है। क्षेत्र पर भगवान पार्श्वनाथ का अद्वितीय कांच का मंदिर स्थित है। क्षेत्र की 36 एकड़ भूमि पर स्कूल, औषधालय, वृद्धाश्रम, चौबीसी मन्दिर, मानस्तम्भ, धर्मशाला आदि निर्माणाधीन हैं। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - रहली पटनागंज - 42 कि.मी., नैनागिरि - 55 कि.मी., बीना बारहा (देवरी) - 70 कि.मी., कुण्डलपुर (दमोह) - 118 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  8. अतिशय क्षेत्र ईशुरवारा मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री 1008 शांतिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, ईशुरवारा ग्राम - ईशुरवारा (जरूवाखेडा), तहसील एवं जिला-सागर (म.प्र.) पिन - 470 115 टेलीफोन - 09754571273,07582-269186, 09977541326 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 11, कमरे (बिना बाथरूम) -7 हाल - 2 (यात्री क्षमता - 100), गेस्ट हाउस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200. भोजनशाला - नहीं पुस्तकालय - है। (1 पहाड़ पर एवं 1 नीचे) औषधालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - ईशुरवारा - 3.5 कि.मी. बस स्टेण्ड - ईशुरवारा - 0.5 एवं किशनपुरा - 3.5 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सागर - खुरई रोड़ के मध्य में ईशुरवारा तथा है। सड़क मार्ग सागर किशनपुरा - ईशुरवारा, खुरई - किशनपुरा - ईशुरवारा। निकटतम प्रमुख नगर - सागर - 25 कि.मी., खुरई - 25 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 शांतिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, ईशुरवारा अध्यक्ष - श्री देवेन्द्रकमार जैन (07584-283331,09926948940) महामंत्री - श्री मुन्नालाल जैन (O7582-233598,093008-07598) प्रबन्धक - श्री संतोषकुमार जैन (097545 71273) कार्यकारी एवं निर्माणकारी अध्यक्ष श्री उत्तमचन्द जैन, सागर (07582 - 244960) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 02 क्षेत्र पर पहाड़ : है। 800 मीटर पक्की सड़क है। वाहन जाते है। ऐतिहासिकता : सन् 1600 ई. में श्री पाणाशाह द्वारा पहाड़ी पर निर्मित जिन मन्दिर है। इसमें शांतिनाथ, कुंथुनाथ, अरहनाथ, चन्द्रप्रभु व नेमिनाथ भगवान की खड्गासन प्रतिमाएँ हैं। धर्मशाला व पहाड़ी का विकास कार्य प्रगति पर है। मुनि पुंगव श्री 108 सुधासागरजी की जन्मस्थली है। मुख्य मंदिर का द्वार 12 फीट ऊँचा कर दिया है। वार्षिक मेले : वसंत-पंचमी पर विमान उत्सव जेठवदी चतुर्दशी को निर्वाण महोत्सव समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - सागर - 30 कि.मी., नैनागिरि - 57 कि.मी., द्रोणगिरि - 100 कि.मी., अहारजी, पपौराजी, पजनारी - 30 कि.मी., रहली पटनागंज - 65 कि.मी., भाग्योदय तीर्थ - 25 कि.मी., बीना बारा - 105 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  9. अतिशय क्षेत्र बीनाजी (बारहा), मध्यप्रदेश नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, बीनाजी (बारहा) पोस्ट- बीना (बारहा), देवरीकलाँ, जिला - सागर (मध्यप्रदेश) पिन - 470 226 टेलीफोन - 07586 - 250457, 09425451153, 09425838178 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 12, कमरे (बिना बाथरूम) - 85 हाल - 4 (यात्री क्षमता - 100), गेस्ट हाउस - 12 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500. भोजनशाला - स:शुल्क नियमित औषधालय - नहीं पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - नरसिंहपुर - 85 कि.मी., करेली - 55 कि.मी.,सागर-73 कि.मी. बस स्टेण्ड - देवरीकलाँ - 8 कि.मी. बायपास रोड़ पर पहुँचने का सरलतम मार्ग - नरसिंहपुर - देवरीकलाँ - बीनाजी (बारहा) सड़क मार्ग, सागर - देवरीकलाँ - बीनाजी (बारहा) सड़क मार्ग निकटतम प्रमुख नगर - देवरी कलाँ - 8 कि.मी., सागर-60 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दि. जैन अतिशय क्षेत्र बीनाजी (बारहा) अध्यक्ष - श्री संतोष चौधरी, अनन्तपुर (99269 79547) कार्याध्यक्ष - दिनेश सोंधिया मंत्री - श्री अलकेश जैन, देवरी (9425182108) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 04 (संतशिरोमणी आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज के आशीर्वाद से बंशी पहाड़पुर पत्थर से जीर्णोद्धार का कार्य तीव्र गति से चल रहा है) क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : विश्व के जैन इतिहास में अन्यत्र कहीं न मिलने वाली चूना- गारा से निर्मित 16 फीट पद्मासन अवगाहना में महावीर स्वामी की प्रतिमा विराजमान है। इसी के निकट भगवान चन्द्रप्रभु की पाषाण की रक्ताभ रंग की सवा छ: फीट अवगाहना की प्रतिमा विराजमान है। भगवान शांतिनाथ की 18 फीट ऊँची कत्थई पाषाण प्रतिमा मनोज्ञ एवं अतिशययुक्त है। गंधकुटी स्तूप जिनालय 40-40 सीढ़ियों वाला लाल पत्थर से निर्मित अलौकिक छटा वाला है। भोंहरे में भी अनेक प्राचीन प्रतिमाएँ हैं। खण्डित पाषाण की अनेक मूर्तियाँ संग्रहालय में रखी हैं। समीपवर्तीतीर्थक्षेत्र - पटनागंज - 35 कि.मी., कुंडलपुर-140 कि.मी., पटेरिया-45 कि.मी., कोनीजी-155 कि.मी., मढ़ियाजी (जबलपुर)-120 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  10. भाग्योदय चेरिटेबल ट्रस्ट खुरई रोड़, सागर (10 कमरे) 07582-266271 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  11. वी.एस.जैन धर्मशाला बड़ा बाजार, सागर, (16 कमरे एवं तीन बड़े हॉल) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  12. श्री वर्णी वाचनालय भवन सब्जी मंडी कटरा बाजार सागर-470002 (म.प्र.) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  13. श्री वर्णी भवन मोराजी लक्ष्मीपुरा बड़ा बाजार-सागर-470002 (म.प्र.) | (500 यात्रियों की व्यवस्था) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  14.  

×
×
  • Create New...