Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज मेरठ

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Uttar Pradesh
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र महलका-जिला-मेरठ नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र, चंद्राचल, महलका (मेरठ) ग्राम-महलका, तह. सरघना, जिला-मेरठ (उ.प्र.) पिन-250 222 टेलीफोन - 01237 - 285550, 099276 78904 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 2, कमरे (बिना बाथरूम) -7 हाल - 01 (यात्री क्षमता-50), गेस्ट हाऊस - ४ यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200, मंदिर के नीचे एक धर्मशाला है। यात्रियों के लिए नाश्ते/भोजन आदि की व्यवस्था है। क्षेत्र में बिजली के लिए जनरेटर भी है। भोजनशाला - नियमित, निःशुल्क औषधालय - है। पुस्तकालय - है। विद्यालय - है, जैन इन्टर कॉलेज एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सकोती टांडा - 9 कि.मी. बस स्टेण्ड - मेरठ के मवाना बस स्टेण्ड से महलका के लिए प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक बस उपलब्ध है। पहुँचने का सरलतम मार्ग - मेरठ-दौराला-महलका-25 कि.मी. निकटतम प्रमुख नगर - मेरठ-25 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन मंदिर प्रबंध समिति, महलका-मेरठ अध्यक्ष - श्री सुखदीश प्रसाद जैन मंत्री - श्री अशोक कुमार जैन (099276 03975) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 2 मंदिर एवं मानस्तंभ क्षेत्र पर पहाड़ - नहीं ऐतिहासिकता - उत्तरप्रदेश के जिला मेरठ की तहसील सरधना में महलका अतिशय क्षेत्र है। 95 फुट की ऊंचाई पर श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का एक भव्य शिखरवाला अलौकिक मंदिर है। ब्रिटिश शासन में 180 वर्ष पूर्व सरधना में बेगम सुमरू का राज्य था। गंगा नहर की खुदाई में चतुर्थ कालीन पद्मासन चन्द्रप्रभु भगवान की श्वेतवर्ण प्रतिमा प्राप्त हुई। एक ज्ञानी ने कहा था की जहां यह प्रतिमा रहेगी वहाँ पर जैन धर्म का राज्य होगा। बेगम ने जैनियों को बुलाकर राज्य के बाहर प्रतिमा ले जाने को कहा। बैलगाड़ी द्वारा प्रतिमा ले जाने पर, रास्ते में महलका पड़ने पर, बैलगाड़ी टस से मस नहीं हो पायी। वहीं पर चैत्यालय भगवान पार्श्वनाथ का होने से भगवान चन्द्रप्रभु की प्रतिमा को उसी चैत्यालय में विराजमान करने को उठाया, प्रतिमा का भार कम होकर फूल की तरह हो गया। तत्पश्चात् अगले दिन प्रतिमा को चैत्यालय में विराजमान किया। यहां पर जैनियों की वंशबेल गोद लिए बच्चों से चलती थी। यह स्थिति मूर्ति के आने के बाद बदल गई। महलका सीमा में यदि सर्प दंश हो जाता है, तो वह व्यक्ति मरता नहीं है। वार्षिक मेला - अप्रैल माह में वार्षिक रथयात्रा महोत्सव समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र हस्तिनापुर - 32 कि.मी., वहलना-40कि.मी., बरनावा-30 कि.मी., बड़ागांव - 42 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  3. कल्याणक क्षेत्र हस्तिनापुर-जम्बूद्वीप नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, जम्बूद्वीप पोस्ट-जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर, तह.- मवाना, जिला -मेरठ (उत्तरप्रदेश) पिन - 250404 टेलीफोन - 01233-280184, 280236, 292943, 280994, मो. - 094127 08203 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच लेट/बाथरूम)- 200 गेस्ट हाऊस - 15, हाल - 2 (यात्री क्षमता - 325) यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 1000. अन्य - धार्मिक एवं मनोरंजन स्थल : ऐरावत हाथी पर जम्बूद्वीप की परिक्रमा, लवण समुद्र में नौका विहार, हीरक जयंती एक्सप्रेस,बच्चों के लिए रेल-गाड़ी, झूले, हँसी के गोल-गप्पे, प्राचीन इतिहास, तीर्थ से संबंधितझांकियाँ, लॉन, फुलवाड़ी, बगीचा इत्यादि देखने योग्य। भोजनशाला - है - नियमित, सशुल्क - 500 यात्रियों को एक साथ भोजन करने की व्यवस्था राजा श्रेयांस भोजनालय में है। औषधालय - है पुस्तकालय - है जम्बूद्वीप पुस्तकालय विद्यालय - गणिनी ज्ञानमती शोधपीठ एस.टी.डी./ पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - मेरठ-40 कि.मी. दिल्ली-110 कि.मी. मजफ्फरनगर-55 कि.मी. बस स्टेण्ड - जम्बूद्वीप क्षेत्र के गेट पर। पहुँचने का सरलतम मार्ग - दिल्ली, मेरठ एवं मुजफ्फरनगर से सीधी बस सेवा उपलब्ध निकटतम प्रमुख नगर - मेरठ -40 कि.मी., दिल्ली - 110 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन त्रिलोक शोध संस्थान, हस्तिनापुर अध्यक्ष - स्वस्तिश्री पीठाधीश रवीन्द्रकीर्ति स्वामीजी (09412708203 महामंत्री - श्री कैलाशचन्द्र जैन, करोल बाग, दिल्ली (09968078230) प्रबन्धक - श्री अनिल जैन, हस्तिनापुर (01233 - 280184) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 14 एवं भ. शांतिनाथ, कुन्थुनाथ, अरहनाथ की विशाल खड्गासन प्रतिमायें है। क्षेत्र पर पहाड़ - कृत्रिम सुमेरू पर्वत 101 फुट ऊँचा एवं कैलाश पर्वत पर तीनों तीर्थंकरों की जन्मभूमियां हैं। ऐतिहासिकता - इस भूमि पर गणिनीप्रमुखश्री ज्ञानमतीजी की प्रेरणा से सन् 1974-1985 में जैन भूगोल की अद्वितीय रचना का निर्माण कार्य हुआ, जो कि विश्वविख्यात है। इसके अतिरिक्त दर्शनीय एवं धार्मिक स्थल है- कमल मंदिर, तीन मूर्ति मंदिर, ध्यान मंदिर, (ही मंदिर) कैलाश पर्वत- ऊँ मंदिर, सहस्रकूट मंदिर, विद्यमान बीस तीर्थंकर,कीर्तिस्तंभ, 31-31 फुट उतुंग भगवान शांति-कुंथु- अरनाथ प्रतिमा एवं तीन लोकरचना आदि अभूतपूर्व स्वर्णिम तेरह द्वीप की रचना एवं नवग्रह शांति जिन मंदिर है। जम्बूद्वीप पुस्तकालय में 15,000 ग्रंथ एवं 400 पाण्डुलिपियाँ हैं। विशेष मेले - कार्तिकपूर्णिमा, अक्षयतृतीया, होली, भगवान शांतिनाथ जन्मकल्याणक निर्वाण मेला-ज्येष्ठ वदी चतुर्दशी, शरदपूर्णिमा, रक्षाबंधन, माघ कृ. 14, पंचवर्षीय जम्बूद्वीपमहोत्सव। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र वहलना -60 कि.मी., महलका -32 कि.मी., बरनावा -70 कि.मी., बड़ागाँव - 100 कि.मी., एवं दर्शनीय स्थल बहसूमा - 6 कि.मी., ऋषिकेश - 150 कि.मी., हरिद्वार - 130 कि.मी., देहरादून -200 कि.मी., मसूरी -230 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  4. कल्याणक क्षेत्र हस्तिनापुर नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन प्राचीन बड़ा मंदिर, तीर्थक्षेत्र कमेटी, हस्तिनापुर, ग्राम-हस्तिनापुर, तहसील-मवाना, जिला-मेरठ (उत्तरप्रदेश) पिन-250 404 टेलीफोन - 01233 - 280133, फैक्स - 280188 (कैलाश पर्वत रचना - 280999) Email - info@jainbaramandirhtr.com, Website - www.jainbaramandirhtr.com क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- 185 , कमरे (बिना बाथरूम) - 125, हाल - 3 (यात्री क्षमता - लगभग 75 प्रत्येक), गेस्ट हाऊस - 1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 2500 भोजनशाला - सशुल्क, नियमित औषधालय - है पुस्तकालय - पुस्तकें लगभग -1000, शास्त्र-100 विद्यालय - है - 1. श्री दि. जैन उत्तर-प्रांतीय गुरूकुल, एस.टी.डी./पी.सी.ओ-है। 2.श्री दि. जैन उदासीन आश्रम,हस्तिनापुर आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - मेरठ - 38 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - मुजफ्फपुर नगर एवं मेरठ से सड़क मार्ग द्वारा हस्तिनापुर पहुँचा जा सकता है। निकटतम प्रमुख नगर - मेरठ - 38 कि.मी., दिल्ली - 110 कि.मी.मुजफ्फरनगर - 55 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र प्रबन्धकारिणी समिति, हस्तिनापुर अध्यक्ष - श्री त्रिलोकचन्द जैन, दिल्ली (०11 - 56002000, मो.: 092120 02000) महामंत्री - श्री मुकेश जैन सर्राफ, मेरठ (0121-2515602, 98371 28899) प्रबन्धक - श्री मुकेशकुमार जैन, हस्तिनापुर (०1233 - 280133, 09412551909) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - बड़ा मंदिर परिसर - 15, कैलाश पर्वत रचना - 75 क्षेत्र पर पहाड़ - हैं, 131 फुट उत्तुंग कृत्रिम कैलाश पर्वत रचना 2100 सीढ़ियाँ ऐतिहासिकता - गुरुदत्त नामक नरेश,जो द्रोणमति पर्वत पर ध्यानारूढ़ थे, उन पर एक भील ने अग्नि उपसर्ग किया। उन्हें केवलज्ञान हुआ। प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ को राजा श्रेयांस द्वारा इक्षुरस से यहाँ प्रथम बार आहार दिया गया था, जिससे अक्षय तृतीया पर्व का प्रादुर्भाव हुआ। विष्णुकुमार मुनि द्वारा अकम्पनाचार्यादि. 700 महामुनिराजों का उपसर्ग निवारण यहीं पर हुआ, जिससे रक्षाबंधन पर्व प्रारंभ हुआ।भगवान श्री शान्तिनाथ, कुन्थुनाथ, अरहनाथ केगर्भ, जन्म, तप एवं ज्ञान कल्याणकों की यह पवित्र धरा है। कल्याणक स्थलों पर नसियाँजी में तीनों तीर्थंकरों के चरणचिन्ह निर्मित हैं। यहाँ पर भगवान मल्लिनाथजी का समवशरण आया था। विशेष जानकारियाँ - प्राचीनकाल में यहाँ स्तूपों के अतिरिक्त अनेक जैन मंदिरों एवं नसियाँजी का निर्माण हुआ था। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र दिल्ली 110 कि.मी., आगरा 250 कि.मी., मथुरा 200 कि.मी., महलका - 32 कि.मी., बहसूमा-8 कि.मी., बहलना -55 कि.मी., बरनावा - 60 कि.मी., बड़ागाँव - 85 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  5. अतिशय क्षेत्र बहसूमा नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, बहसूमा, कस्बा-बहसूमा, तहसील-मवाना, जिला-मेरठ (उत्तरप्रदेश)पिन-250 404 टेलीफोन - 01233 - 289176, मो : 098970 92499 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- ४, कमरे (बिना बाथरूम) - 6, हाल - 1 (यात्री क्षमता - 250), गेस्ट हाऊस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 250. भोजनशाला - नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - मेरठ - 40 कि.मी. बस स्टेण्ड - बहसूमा - 100 मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - रोडवेज़ एवं निजी बस से । मेरठ - बिजनौर मार्ग पर स्थित है। दिल्ली - पौड़ी हाइवे निकटतम प्रमुख नगर - मेरठ - 40 कि.मी., हस्तिनापुर - 12 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र बहसूमा कमेटी अध्यक्ष - श्री वकीलचन्द जैन मंत्री - श्री विजेन्द्र जैन प्रबन्धक - श्री अनिल जैन क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 01 क्षेत्र पर पहाड़ - नहीं ऐतिहासिकता - क्षेत्र पर चतुर्थ काल की चन्द्रप्रभु भगवान की भव्य प्रतिमा विराजमान है। यहाँ प्राचीन मन्दिरजी है, जिसके शिखर की ऊँचाई 200 फीट है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र हस्तिनापुर - 10 कि.मी., महलका - 30 कि.मी., हरिद्वार - 130 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  6. जैन धर्मशाला (40 कमरे) तीर्थंकर महावीर मार्ग रेलवे रोड़, मेरठ शहर (उ.प्र.) फोन : 0121-2400930 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  7.  

×
×
  • Create New...