Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज बेलगाँव

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Karnataka
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र स्तवनिधी (तवंदी)) कर्नाटक नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, स्तवनिधी (तवंदी) ता. चिक्कोड़ी, जिला - बेलगाँव (कर्नाटक) पिन - 591237 टेलीफोन - 08338 - 220308, 223776, 097390 39559 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - ४, कमरे (बिना बाथरूम) - 36 हाल - 4, गेस्ट हाऊस - 3 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 600. भोजनशाला - निशुल्क, नियमित विद्यालय - नहीं औषधालय - नहीं पुस्तकालय - X आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - कोल्हापुर - 47 कि.मी., बेलगाँव - 70 कि.मी, बसस्टेण्ड पहुँचने का सरलतम मार्ग - निपाणी -7 कि.मी. सड़क मार्ग, कोल्हापुर से 47 कि.मी. राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 4 निकटतम प्रमुख नगर - कोल्हापुर - 47 कि.मी., इचलकरंजी - 48 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - दक्षिण भारत जैन सभा की श्री क्षेत्र कमेटी, स्तवनिधि अध्यक्ष - श्री राजू रा. पाटील (08338-264450) मंत्री - प्रा. विलास आ. उपाध्ये (08338-221964, 09739039559) प्रबंधक - श्री सुधाकर भा. नाडगे (08338-220308) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 05 क्षेत्र पर पहाड़ - है। 90 सीढ़ियाँ है। ऐतिहासिकता - पायशेट्टि और जायशेट्टि श्रावकों के उपचार से बीजापुर बादशाह की बीमार बेगम के ठीक होने से बादशाह ने जिनमन्दिर निर्माण की अनुमति दी। दोनों श्रावकों को स्वप्न में वल्मीक से ध्वनि सुनाई दी। खोदने पर मूर्ति खंडित अवस्था में मिली। पुन: स्वप्न पाकर मूर्ति निकाली तो अखंडित मूर्ति प्राप्त हुई। वही मूर्ति (श्री नवखंड पाश्र्वनाथ भगवान) दर्शन के लिये उपलब्ध है। यहाँ क्षेत्रपाल ब्रह्मदेव भी श्रद्धा के स्रोत हैं। हाई-वे के नजदीक ही पार्श्वनाथ जैन गुरुकुल है एवं इसमें ठहरने की व्यवस्था भी है। वार्षिक मेला - पोष कृष्ण अमावस्या समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - कुम्भोज बाहुबली - 60 कि.मी., कोथली - 26 कि.मी., कसमलगी - 140 कि.मी. आपका सहयोग :जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  3. अन्य क्षेत्र कोथली कर्नाटक नाम एवं पता - श्री देशभूषण दिगम्बर जैन शान्तिगिरि ट्रस्ट, कोथली कुप्पनवाड़ी, त.- चिकोडी, जिला - बेलगाम (कर्नाटक) पिन - 591287 टेलीफोन - 08338 - 295250, 09741619776, 09480039599 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 4, कमरे (बिना बाथरूम) - 15 हाल - 01, गेस्ट हाऊस - 01 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500. अन्य - गुरूकुल एवं देशभूषण हाई स्कूल कोथली, कुप्पनवाड़ी भोजनशाला - विद्यालय - है। औषधालय - नहीं पुस्तकालय - है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - कोल्हापुर - मिरज से 60 कि.मी., बेलगाम - 80 कि.मी.बस स्टेण्ड - कोथली, चिक्कोड़ी - 8 कि.मी., निप्पाणी - 15 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क मार्ग द्वारा निकटतम प्रमुख नगर - चिक्कोडी - 8 कि.मी., निप्पाणी - 15 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 108 आचार्य रत्न देशभूषण दिगम्बर जैन शांतिगिरि ट्रस्ट कोथली, कुप्पनवाड़ी अध्यक्ष - श्री. पी. आर. पाटिल, अधिवक्ता (0231 - 2653423) महामंत्री - श्री. पी. बी. पाटिल (08338 - 262027, 097397 34408) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 14 क्षेत्र पर पहाड़ - है। 1.5 कि.मी. आश्रम से चलकर वाहन ऊपर जाते हैं। ऐतिहासिकता - महाराष्ट्र व कर्नाटक राज्य की सीमा पर स्थित साधारण सा गाँव कोथली आचार्यरत्न श्री देशभूषणजी महाराज की प्रेरणा से बहुत ही प्रसिद्ध हो गया है। उन्होंने यहाँ विशाल जैन मन्दिर का निर्माण करवाया वहीं पर समाधिमरण किया। उनकी जन्म-तिथि तथा जन्मजयन्ति कार्यक्रम एवं त्रिमूर्तियों का महामस्तकाभिषेक भी किया जाता है। 85 रत्नों के बिम्ब है तथा दो चंदन एवं चार चांदी की इस प्रकार कुल 91 रत्नमयी जिनबिम्ब है। समीपवर्ती अन्य दर्शनीय स्थल स्तवनिधि - 16 कि.मी., कुम्भोज बाहुबली - 76 कि.मी. आ. शांतिसागर महाराजजी का जन्म स्थल - भोज - 20 कि.मी. आ. विद्यासागर महाराजजी का जन्मस्थल - सदलगा - 20 कि.मी. आ. विद्यानन्दजी महाराज का जन्म स्थल - शेडबाल - 80 कि.मी. निशीधी का बोरगाँव - प्राचीन मंदिर - अम्मणगी - 35 कि.मी. आपका सहयोग :जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  4.  

×
×
  • Create New...