Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज उदयपुर

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Rajasthan
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र सालेड़ा राजस्थान नाम एवं पता - श्री 1008 नेमिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, सालेड़ा पो. सालेड़ा, (भीण्डर),त. वल्लभनगर, जिला-उदयपुर (राजस्थान)313608 टेलीफोन - 081074 28195 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)-2, कमरे (बिना बाथरूम) -7 हाल -1(यात्री क्षमता -30), गेस्ट हाऊस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 50,भोजनशाला - निर्माणाधीन अन्य - क्षेत्र से 8 कि.मी. दूर स्थित भीण्डर कस्बा है, जहां पर ध्यान डूंगरी अतिशय क्षेत्र पर एक विशाल धर्मशाला एवं 16 कमरे (अटैच बाथरूम) है, जहाँ पर 500 यात्री ठहर सकते है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - भीण्डर (मावली-बड़ीसादड़ी लाइन पर) बस स्टेण्ड - भीण्डर (सालेड़ा से 8 कि.मी.) पहुँचने का सरलतम मार्ग - उदयपुर से भीण्डर-70 कि.मी., भीण्डर से सालेड़ा-8 कि.मी., भीण्डर से सालेड़ा दिन में तीन बार प्राईवेट बसें जाती हैं एवं वापस आती है। भीण्डर से टैक्सी लेकर भी आया जा सकता है। निकटतम प्रमुख नगर - भीण्डर -8 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 नेमिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, प्रबंध कमेटी, सालेड़ा अध्यक्ष - श्री अम्बालाल कंठालिया (02957-250309,09950975855) मंत्री - श्री रोशनलाल आवोत (0294-2410813, 09414352746) कोषाध्यक्ष - श्री सूरजमल बोहरा (02957-250457, 09887690901) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : इस क्षेत्र पर लगभग 800 वर्ष प्राचीन पद्मासन प्रतिमाएं विराजमान है, जिनके वि.सं. 2055 में भूगर्भ से प्रकट होने पर भव्य जिनालय का निर्माण कराया गया, जिनालय पंचकल्याणक प्रतिष्ठा 25 फरवरी 2007 को सम्पन्न हुई। क्षेत्र पर देवकृत अतिशय होने से श्रद्धालुजनों की मनोकामनाएं पूर्ण होती है एवं ऊपरी बाधाएं भी दूर होती है। क्षेत्र पर पुराने नागराज रहते है, जो कई बार नजर आते है। जिस जिनालय की यह प्रतिमाएं है वह जिनालय जीर्णशीर्ण अवस्था में प्रतिमा रहित होने से ग्रामवासियों ने उनके आराध्य देव को सन् 1971 में विराजमान कर जीर्णोद्धार करा दिया। शिलालेखों के आधार पर अभी भी इस ग्राम में 19 प्रतिमाएं भूगर्भ में है, जो उचित समय आने पर प्रकट हो सकती है। समीपवर्तीतीर्थक्षेत्र - ध्यान डूगरी अतिशय क्षेत्र भीण्डर-8 कि.मी., अड़िन्दा पाश्र्वनाथ-35 कि.मी. किर्ती स्तम्भ चित्तौड़गढ़-60 कि.मी., शांतीनाथ (बमोतर) प्रतापगढ़-100 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  3. अतिशय क्षेत्र ऋषभदेव (केशरियाजी) राजस्थान नाम एवं पता - श्री ऋषभदेव दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, ऋषभदेव (श्री केशरियाजी), तहसील-ऋषभदेव, जिला - उदयपुर (राजस्थान) पिन - 313802 टेलीफोन - 09602343641 (पेढ़ीऑ.),09785037808, 02907-230141 (गुरुकुल) क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- 200, कमरे (बिना बाथरूम)-150 हाल - 7, गेस्ट हाऊस - 4 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 5000 भोजनशाला - नियमित, सशुल्क गुरुकुल - 20 कमरे औषधालय - पुस्तकालय - है, विशाल शास्त्र भंडार विद्यालय गुरूकुल एवं अन्य एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - ऋषभदेव रोड़ (कल्याणपुर) - 12 कि.मी. बस स्टेण्ड - ऋषभदेव पहुँचने का सरलतम मार्ग - बस द्वारा उदयपुर, डूंगरपुर, सलुम्बर, प्रतापगढ़, अहमदाबाद से पहुँचा जा सकता है। एन.एच. 8 (मुम्बई, दिल्ली हाईवे) निकटतम प्रमुख नगर - उदयपुर - 65 किमी., डूंगरपुर - 40 कि.मी., सलुम्बर - 56 कि.मी., अहमदाबाद - 195 कि.मी., खेरवाड़ा - 15 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री ऋषभदेव दिगम्बर जैन तीर्थ रक्षा कमेटी, ऋषभदेव अध्यक्ष - श्री केशवलाल वाणावत (02907-230286, 09782793600) मंत्री - श्री बसंतीलाल मेहता (09461513105) प्रबन्धक - श्री जयकुमार जैन (08003269716) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 05 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : यहाँ भगवान ऋषभदेव (बड़े बाबा) की अति प्राचीन व चमत्कारी प्रतिमा है। विशेष जानकारी : श्री 105 भट्टारक यशकीर्ति गुरूकुल मन्दिर व धर्मशाला है। स्थानीय दर्शनीय स्थल : 1. भट्टारक यशकीर्ति भवन, 2. काँच का मंदिर, 3. भट्टारक यशकीर्ति धर्मार्थ ट्रस्ट गुरूकुल, 4. श्री महावीर जिनालय, 5. चन्द्रगिरि पहाड़ी निर्माणाधीन, 6. पगल्याजी चरण-छत्री एवं विश्राम स्थल तथा सुन्दर पार्कदेखने लायक स्थान है। वार्षिक मेला : प्रतिवर्ष जन्मोत्सव - चैत्रवदी 8 व 9 को लगता है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - खेरवाड़ा-16 कि.मी., नागफणी पार्श्वनाथ - 50 कि.मी., दिगम्बर जैन अति, क्षेत्र मंदिर - शांतिनाथ भगवान, पिपली-बी-8 कि.मी., अतिशय क्षेत्र अजिंदा-100 कि.मी., खुणादरी-34 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  4. अतिशय क्षेत्र खूणादरी राजस्थान नाम एवं पता - श्री 1008 श्री आदिनाथ दि. जैन अतिशय क्षेत्र, खूणादरी पो.-बावलवाड़ा,तहसील-खेरवाड़ा, जिला-उदयपुर (राजस्थान) पिन-313803 टेलीफोन - 02907-251348, 08890978282, 09828231727, 08290313366 पत्राचार - दिग. जैन मंदिर, खूणादरी, C/o श्री चन्दूलाल दाड़मचन्द्रजी फड़िया मु.पो. बावलवाड़ा, तह.-खेरवाड़ा, जिला-उदयपुर, 313806 (राज.) 09468576775 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)-4 पक्के, लेट-बाथरुम-2 हाल - 1, गेस्ट हाऊस - 4 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 50. भोजनशाला - नहीं औषधालय - नहीं पुस्तकालय - है। विद्यालय - है - शासकीय एस.टी.डी./ पी.सी.ओ. - X आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - डूंगरपूर - 41 कि.मी., उदयपुर 102 कि.मी., अहमदाबाद 181 कि.मी. बस स्टेण्ड - खेरवाड़ा - 17 कि.मी., बावलवाड़ा - 7 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - खेरवाड़ा से बस, टेक्सी द्वारा, बस रोड़ से 1 कि.मी. डामर रोड़ मंदिर तक निकटतम प्रमुख नगर - खेरवाड़ा - 17 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री सकल दि. जैन दशा हुमड़ समाज, बावलवाड़ा अध्यक्ष - श्री बाबूलाल दाड़मचन्द फडिया (02907-251255, 09929088004) मंत्री - श्री विनोदकुमार माणकलाल शाह (09414253127) प्रबन्धक - श्री बाबूलाल मणीलाल फडिया (02907-251270, 09462624145) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : किंवदन्ती है कि मूलनायक भगवान आदिनाथ की प्रतिमाजी चोरों द्वारा चोरी की जाने व नष्ट करने के प्रयास में मूर्ति से दूध की धारा बही व वापस प्रतिस्थापित हुई। खूणादरी (कोणाद्री पौराणिक नाम) गाँव अतीत में कई विपत्तियों के कारण बिखर गया, अब बावलवाड़ा समाज की व्यवस्था में है। विशेष आयोजन : आदिनाथ भगवान एवं महावीर भगवान की जयंती पर विशेष तिथि के अनुसार कार्यक्रम होते हैं। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र : सुरपुरजी (डूंगरपुर)-42 कि.मी., महावीर स्वामी (छाणी)-19 कि.मी., केशरियाजी -34 कि.मी., नागफणी पार्श्वनाथ मोदर-51 कि.मी., उदयपुर -102 कि.मी. 189 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  5. अतिशय क्षेत्र खेरवाड़ा राजस्थान नाम एवं पता - श्री शान्तिनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर संस्थान, खेरवाड़ा, जिला - उदयपुर (राजस्थान) पिन - 313803 टेलीफोन - 02907 - 220009, 220199 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- ४, कमरे (बिना बाथरूम)-10 हाल - X, गेस्ट हाऊस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 100. भोजनशाला - X औषधालय - X पुस्तकालय - X विद्यालय - X एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - ऋषभदेव - 16 कि.मी., डूंगरपूर - 25 कि.मी. उदयपुर - 80 कि.मी. बस स्टेण्ड - खेरवाड़ा पहुँचने का सरलतम मार्ग - खेरवाड़ा - उदयपुर - अहमदाबाद, राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 8 पर स्थित है। निकटतम प्रमुख नगर - ऋषभदेव, डूंगरपूर, उदयपुर प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री शान्तिनाथ दि. जैन संस्थान, खेरवाड़ा अध्यक्ष - श्री बंसीलाल मेहता (02907 - 220009) मंत्री - श्री सतीशचन्द्र वाणावत (02907 - 220304) प्रबन्धक - श्री नरेन्द्र कोठारी (02907 - 220543) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : खेरवाड़ा ऐतिहासिक सैनिक छावनी क्षेत्र है। क्षेत्र पर कैलाश पर्वत की रचना की गई है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - केशरियाजी - 16 कि.मी., नागफणी पार्श्वनाथ - 22 कि.मी., श्री शांतिसागरजी महाराज (छाणी) की जन्मभूमि-छाणी - 10 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  6. अतिशय क्षेत्र देबारी राजस्थान नाम एवं पता - श्री देबारी पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर अतिशय क्षेत्र, देबारी, ग्राम - देबारी, तहसील / जिला - उदयपुर (राजस्थान) पिन - 313001 टेलीफोन - 09828727802 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)- 10, कमरे (बिना बाथरूम)-4, हाल - 3 (यात्री क्षमता - 200), गेस्ट हाऊस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500. भोजनशाला - नहीं औषधालय - आँख का है। पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - नहीं । एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - उदयपुर - 10 कि.मी., एयरपोर्ट -10 कि.मी. बस स्टेण्ड - उदयपुर - 10 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क मार्ग उदयपुर से निकटतम प्रमुख नगर - उदयपुर - 10 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री देबारी पाश्र्वनाथ जिन मन्दिर ट्रस्ट अध्यक्ष - श्री झमकलाल टाया (0294 - 2410857) मंत्री - श्री महेन्द्रकुमार टाया (0294 - 2413682) प्रबन्धक -श्री प्रकाशचन्द जैन (0294 - 2412594) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : भगवान पार्श्वनाथ की अतिशय युक्त 13.5 फीट ऊँची प्रतिमा श्याम वर्ण की अति मनोहारी है। क्षेत्र पर आधुनिक अतिथि गृह है। यहाँ पर 40 बिस्तरों का आँख का दवाखाना अत्याधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - अडिन्दा पार्श्वनाथ - 30 कि.मी., श्री केशरियाजी - 80 कि.मी., नागफणी पार्श्वनाथ - 120 कि.मी., अन्देश्वर पार्श्वनाथ - 230 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  7. अतिशय क्षेत्र अडिन्दा पार्श्वनाथ राजस्थान नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र अड़िन्दा पार्श्वनाथ, ग्राम-अड़िन्दा, तहसील-वल्लभनगर, जिला-उदयपुर (राजस्थान) पिन - 313602 टेलीफोन - 02957-237611, 237682, 09950738047, 09414832519 www.adindaparshwanath.com क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 40, कमरे (बिना बाथरूम) - 50, हाल - 3 (यात्री क्षमता - 400), गेस्ट हाऊस - X, यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 1000. भोजनशाला - सशुल्क, नियमित सन्त निवास - है। औषधालय - शासकीय पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - शासकीय एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - उदयपुर - 42 कि.मी. बस स्टेण्ड - उदियापोल बस स्टेण्ड, उदयपुर - 41 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - उदयपुर से डबोक - भमरासिया गेट, (क्षेत्र का प्रवेश द्वार), मोड़ी - बाठेड़ाकला - अडिन्दा चित्तौड़ से मंगलवाड़ चौराहा, भटेवर, बांठेड़ा खुर्द, अडिन्दा निकटतम प्रमुख नगर - उदयपुर - 40 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन बीसपंथ आम्नाय पार्श्वनाथ अतिशय क्षेत्र (धर्मार्थ एवं सेवार्थ) प्रन्यास, अड़िन्दा अध्यक्ष - श्री पूरणमल लोलावत, उदयपुर (0294-2460881, 2490081) उपाध्यक्ष - श्री इन्दरमल कुर्डिया, अहमदाबाद (0795893556, 09426339503) कोषाध्यक्ष - श्री शांतिलाल गोधा, उदयपुर (0294-2416129) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 05 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : क्षेत्र पर करीब 1500 वर्ष प्राचीन पार्श्वनाथ भगवान की अतिशय युक्त चमत्कारी प्रतिमा है। यहां पर मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। सन् 1960 के पश्चात् विकास का कार्य प्रारंभ हुआ। यह मन्दिर दक्षिणाभिमुखी है। पूज्य मुनि श्री कुंथुसागरजी महाराज के आशीर्वाद से भगवान आदिनाथजी की भूत, वर्तमान, भविष्यत् काल की 24-24 तीर्थकरों की जिनबिम्ब देवरिया बनवाकर प्रतिष्ठा करवाई, पद्म सरोवर पर 21 फुट की पार्श्वनाथ प्रतिमा, मानस्तंभ, देवी पद्मावती माता एवं यंत्रों का भव्य निर्माण हुआ। सन् 1996 में सुमेरु पर्वत का निर्माण कर भगवान महावीर स्वामी की 9 फुट की पद्मासन प्रतिमा और चारों खण्डों की चार दिशाओं की देवरिया बनवाई। कई साधुओं की समाधि हैं। समीपवर्तीतीर्थक्षेत्र - श्री केशरियाजी - 100 कि.मी., देबारी पार्श्वनाथ - 30 कि.मी., ध्यान डूंगरी भीण्डर - 28 कि.मी., नागफणी पार्श्वनाथ - 145 कि.मी., चवलेश्वर पार्श्वनाथ - 200 कि.मी., रणकपुर- 130 कि.मी., विजोलिया पार्श्वनाथ 200 कि.मी., चाँदखेड़ी - 250 कि.मी., माउन्ट आबू-225 कि.मी आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  8. श्री संभवनाथ धर्मशाला, लखारा चौक, उदयपुर फोन : 0294-2421885 (26 कमरे) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  9. श्री पार्श्वनाथ दि. जैन बोर्डिंग, धानमण्डी,उदयपुर फोन : 0294-2422085 (40 कमरे,3 हाल) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  10. महावीर भवन, सर्वऋतुविलास, उदयपुर फोन : 0294-2483663 (16 कमरे) आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  11.  
×