Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज टोंक

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Rajasthan
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र मेहन्दवास-टोंक राजस्थान नाम एवं पता - श्री चन्दप्रभु दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, मेहन्दवास-टोंक, ग्राम - मेहन्दवास, जिला - टोंक (राजस्थान) टेलीफोन - 01432 - 247489, 288606, 09950978740, 07568412109 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X कमरे (बिना बाथरूम) - 20 हाल - 2, गेस्ट हाऊस - X यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 15 भोजनशाला - नहीं अन्य : धर्मशाला सर्व सुविधा युक्त है। औषधालय - नहीं पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - बस स्टेण्ड - टोंक नगर - 11 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 12 पर टोंक से मेहन्दवास बस सुविधा 24 घंटे उपलब्ध निकटतम प्रमुख नगर - टोंक -11 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री चन्द्रप्रभु दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, प्रबंध समिति(द.) मेहन्दवास अध्यक्ष - श्री रतनलाल जैन कंसल बनेठा (01436 - 268423, (नि.) 268041) मंत्री - श्री बाबूलाल जैन (देवली वाले), टोंक - (01432 - 247489) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं। ऐतिहासिकता : दिनांक 19.9.1981 को आसोज बदी षष्ठी के दिन जिला टोंक से 11 कि.मी. कोटा मार्ग पर ग्राम में एक खेत में मेढ़ बनाते समय एक युवक दुर्गानाथ के हाथों देवाधिदेव भगवान चन्द्रप्रभु की सफेद पाषाण की प्रतिमा प्रकट हुईं जो कि 11 इंच की है। यह प्रतिमा मनोज्ञ एवं चमत्कारी है। संभवत: यह प्रतिमा सं. 135 की है। मूर्ति की प्राचीनता एवं मूर्ति के अतिशय से दि. 18.10.1981 को भूमि का पट्टा ग्राम पंचायत द्वारा जारी होने पर एवं अतिरिक्त भूमि अर्द्ध मूल्य में क्रय करने पर मन्दिर निर्माण हुआ। वार्षिकोत्सव प्रतिमा प्रकट होने की तिथि से मनाया जाने लगा है। दिनांक 20.4.1983 को मंदिर की आधारशिला ब्रह्मचारी बाबा सूरजमल के निर्देशन में रखी गई। भव्य प्रतिष्ठा 22.2.1985 को परमपूज्य आचार्य (तत्कालीन बालाचार्य) 108 श्री योगीन्द्रसागरजी महाराज के सान्निध्य में सम्पन्न हुई। वार्षिक मेला : प्रतिवर्ष आसोज कृष्णा 6 को भरता है। जिसमें भगवान की रथयात्रा, कलशयात्रा, कलशाभिषेक आदि कार्यक्रम भक्तिभाव से होते हैं। आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  3. अतिशय क्षेत्र मालपुरा - टोंक राजस्थान नाम एवं पता - श्री आदिनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर (तीन देवरियाँ), मालपुरा - टोंक, ग्राम एवं तह.-मालपुरा, जिला - टोंक (राजस्थान) पिन-304502 टेलीफोन - 01437 - 225252, 09460074354 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X, (बिना बाथरूम)-7, हाल - 2 (यात्री क्षमता- 50+60), गेस्ट हाऊस - X, यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200 भोजनशाला - नहीं। औषधालय - है, होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक एवं ऐलोपैथिक पुस्तकालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। विद्यालय - नहीं आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - जयपुर - 90 कि.मी. बस स्टेण्ड - मालपुरा राजस्थान की परिवहन निगम की बसें पहुँचने का सरलतम मार्ग - जयपुर - केकड़ी - भीलवाड़ा मार्ग, अजमेर - मालपुरा मार्ग, पर संचालित हैं। निकटतम प्रमुख नगर - मालपुरा प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - पंचायत,आदिनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर, मालपुरा अध्यक्ष - श्री प्रेमचन्द जैन, अधिवक्ता, (01437 - 225252) मंत्री - श्री महेन्द्र कुमार जैन, सेवारियावाले, (01437-224034, 09460074354) प्रबन्धक - X क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 08 मन्दिर एवं 4 चैत्यालय क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : क्षेत्र पर लगभग साढ़े तीन फुट ऊँची भगवान आदिनाथजी की चतुर्थकालीन श्याम वर्णीय प्रतिमा पद्मासन रूप में विराजमान है। विभिन्न बाधाओं से पीड़ित रोगियों द्वारा क्षेत्रपाल जी के सम्मुख दीप जलाकर दर्शन हेतु बैठने पर व्याधियों से मुक्ति प्राप्त होती है। मन्दिर में रहस्यमय नक्शा बना है जो अनेक रहस्यों को समेटे है। समीपवर्तीतीर्थक्षेत्र - श्री शांतिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र - बधेरा -55 कि.मी., बीसलपुर - बांध - 55 कि.मी., श्री कल्याणजी मन्दिर - 15 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  4. अतिशय क्षेत्र सांखना - टोंक नाम एवं पता - श्री 1008 शांतिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, सांखना-टोंक ग्राम - सांखना, तहसील एवं जिला - टोंक (राजस्थान) पिन - 303 503 टेलीफोन - मो.: 097847-57158 Email : soniprakash76@yahoo.in क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 17, कमरे (बिना बाथरूम) - 9 हाल - 2, (यात्री क्षमता - 100), गेस्ट हाऊस - 1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500. अन्य - एक धर्मशाला बाजार में है। भोजनशाला - नहीं औषधालय - है, एलोपेथिक पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - निवाई एवं वनस्थली - 57 कि.मी. बस स्टेण्ड - टोंक - 28 कि.मी., टोंक से छान - 20 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - टोंक होते हुए सांखना पहुँचने का मार्ग, छान से सांखना-7 कि.मी. छान में सभी बसें रुकती है। निकटतम प्रमुख नगर - छान -7 कि.मी. टोंक - 28 कि.मी., देवली - 49 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 शांतिनाथ दि. जैन अतिशय क्षेत्र प्रबंध कमेटी, सांखना अध्यक्ष - श्री प्रकाशचन्द जैन (सोनी), टोंक (08003201008, 094145-58485) मंत्री - श्री प्यारचन्द्र जैन, छान, टोंक (085030 53548, 09829108025) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 01 क्षेत्र पर पहाड़ - है। ऐतिहासिकता - श्री शांतिनाथ दि. जैन मंदिर 431 वर्ष पुराना है। पद्मासन प्रतिमा 41 की है। दो शिलालेख उत्कीर्ण हैं। मंदिर का निर्माण संवत् 1631 में शाह गोत्रिय श्रेष्ठी श्रावक द्वारा कराया गया। भट्टारक श्री ललित कीर्तिजी चन्द्रकीर्तिजी तत शिष्य आचार्य हेमचन्द्रेण ने मंदिर प्रतिष्ठा करवाई। सोलंकी राजपूत गुजरात में परास्त होकर भगवान शांतिनाथ के दरबार में आये एवं इष्ट मानकर पूजा की। मुगल शासकों के भय से अन्यत्र प्रतिमा ले जाने का भय होने से मूर्ति टस से मंस नहीं हुई। प्रयास करने पर जनेउ के आकार में फट गयी (आज भी दरार दिखाई देती है)। रात्रि में किसी भक्त को स्वप्न में दर्शन दिये एवं दिव्य ध्वनि सुनाई दी कि उपसर्ग निवारण हेतु शुद्ध आटे का गर्म सीरा बनाकर, प्रतिमा के चारों ओर लगाकर बांध देने से, प्रतिमा जुड़ जायेगी। प्रतिमा जुड़ गई जो एक चमत्कार है।वह चमत्कारिक प्रतिमा आज भी विराजमान है। वार्षिक मेले - कार्तिक वदी एकम को वार्षिक उत्सव एवं मिती ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी भगवान शांतिनाथकात्रय कल्याणक महोत्सव। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र श्री चन्द्रप्रभु दि. जैन अतिशय क्षेत्र, मेहन्दवास-टोंक - 14 कि.मी. दिगम्बर जैन मंदिर, निवाई -58 कि.मी., नसिया टोंक-27 कि.मी., निमोला - 10 कि.मी., अतिशय क्षेत्र आँवा - 37 कि.मी.,पदमपुरा-75 कि.मी. चमत्कारजी-सवाई माधोपुर-80 कि.मी., अतिशय क्षेत्र निमोला -10 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  5. श्री चन्द्रप्रभु दि. जैन तेरापंथी कोठी बड़ा बाजार, पुरानी टोंक, टोंक (राज.) फोन : 094145-58485 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  6. श्री आदिनाथ दि. जैन नसियाजी भगवान महावीर मार्ग, टोंक (राज.) फोन : 092520-92540 आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस धर्मशाला के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस धर्मशाला में रुके है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  7.  
×