Jump to content
Sign in to follow this  

About This Club

जैन समाज उस्मानाबाद

Category

Regional Samaj

Jain Type

Digambar
Shwetambar

Country

Bharat (India)

State

Maharashtra
  1. What's new in this club
  2. अतिशय क्षेत्र तेर महाराष्ट्र नाम एवं पता - श्री 1008 भगवान महावीर दि. जैन अतिशय क्षेत्र, तेर (संस्थान), तहसील - जिला - उस्मानाबाद (महाराष्ट्र) पिन - 413509 टेलीफोन - 02472-233722, 09421360667 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - शौचालय बाथरूम -7, कमरे (बिना बाथरूम) - 15, हाल - 2, (यात्री क्षमता - 50), गेस्ट हाऊस - शासकीय यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200 - 250. भोजनशाला - औषधालय - नहीं पुस्तकालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सोलापुर से तेर लातुर रेल्वे लाइन का कार्य चल रहा है। बस स्टेण्ड - है। (उस्मानाबाद-लातुर रेल्वे मार्ग - उपळा रेल्वे स्टेशन से 14 कि.मी.) पहुँचने का सरलतम मार्ग - उस्मानाबाद - तेर बस सेवा सतत्, ढोकी-तेर बस/जीप सेवा, एस.टी. सेवा सतत् उपलब्ध रहती है। निकटतम प्रमुख नगर - उस्मानाबाद - 24 कि.मी. (पश्चिम दिशा) प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 महावीर दिगम्बर जैन मंदिर, तेर अध्यक्ष - श्री राजन अ. देशमोन, उस्मानाबाद मंत्री - श्री संजय देशमाने (02472-227221,9422465224) कोषाध्यक्ष - श्री बाबूराव गणपति मुरूड़ (02382 - 270151) प्रबन्धक - श्री किशोर रामलिंग बुबणे (02472 - 233722, 9421360667) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 05 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : यहाँ भगवान महावीर का समवशरण आया था। पौराणिक आख्यानों के अनुसार यहाँ नल और नील तथा राजा करकुण्ड का भी आगमन हुआ था। मंदिर की इंटें पानी में तैर जाती हैं। भगवान महावीर एवं पार्श्वनाथ की प्रतिमाएँ अति प्राचीन हैं एवं पुरा वस्तुसंग्रहालय है। विशेष आयोजन : प्रत्येक अमावस्या को मेला लगता है। वार्षिक मेला : माघ शु. पंचमी समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र : सावरगाँव -70 कि.मी., कुंथलगिरि -70 कि.मी., आष्टा (कासार) - 85 कि.मी., उस्मानाबाद - 24 कि.मी., नवागढ़-200 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  3. अतिशय क्षेत्र सावरगाँव (काटी) महाराष्ट्र नाम एवं पता - श्री पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, सावरगाँव (काटी) तहसील - तुलजापुर, जिला - उस्मानाबाद (महाराष्ट्र) पिन - 413624 टेलीफोन - 094235 75 108 Email - atishayakshetrasawargaon@gmail.com क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X, कमरे (बिना बाथरूम) - 14, हाल - 2, (यात्री क्षमता - 100), गेस्ट हाऊस - X, यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500. भोजनशाला - नि:शुल्क, अनुरोध पर औषधालय - है। पुस्तकालय - है। विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./ पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सोलापुर - 35 कि.मी. बस स्टेण्ड - क्षेत्र पर बस की सुविधा है। पहुँचने का सरलतम मार्ग - सोलापुर एवं तुलजापुर से सुरतगांव होकर बस सेवा उपलब्ध निकटतम प्रमुख नगर - सोलापुर - 35 कि.मी., तुलजापुर - 35 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री पार्श्वनाथ दि. जैन मन्दिर ट्रस्ट, सावरगाँव अध्यक्ष - श्री ब.डा. हर्षवर्धन कस्तूरचंद मेहता (09422073448) मंत्री - एवं प्रबन्धक - श्री पद्मकुमार, रमेशचन्द मेहता, सोलापुर (09890695120) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : यह अतिशय क्षेत्र 1100 वर्ष पुराना है। यहां का मंदिर हेमा डंपती अहिंसा का प्रतीक यहाँ आज भी उपलब्ध है। श्रावण सुदी एकम् से पंचमी तक सांप, बिच्छू, छिपकली आदि बैरभाव के जीव साथ-साथ खेलते पाये जाते हैं। उस समय बड़ा जुलूस होता है। यह इस क्षेत्र का महान अतिशय है। क्षेत्र पर भगवान पार्श्वनाथ की मनोज्ञ चतुर्थकालिक प्रतिमा है। 108 आनन्दसागरजी महाराज की सल्लेखना भूमि है। वार्षिक मेला : श्री भगवान पार्श्वनाथ के जन्मकल्याणक पर मार्गशीर्ष 11 (पोष वद - 11) समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र : कुंथलगिरि - 100 कि.मी., आष्टा (कासार) -70 कि.मी., कोंडी - 35 कि.मी. तेरु -65 कि.मी., बिजापुर - 135 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  4. अतिशय क्षेत्र नाईचाकुर महाराष्ट्र नाम एवं पता - श्री 1008 भगवान पार्श्वनाथ व पंचभैरव क्षेत्रपाल दि. जैन अतिशय क्षेत्र, नाईचाकुर ग्राम-नाईचाकुर, तह.-उमरगा, जि.-उस्मानाबाद (महा.) पिन - 413606 टेलीफोन - 09422206711, 07588936801, 09527691666 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम)-४, कमरे (बिना बाथरूम)-4, हाल - 1,(यात्री क्षमता 20) गेस्ट हाऊस - निर्माणाधीन यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200 भोजनशाला - नहीं पुस्तकालय - नहीं औषधालय - नहीं विद्यालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सोलापुर - 100 कि.मी., लातूर-50 कि.मी. बस स्टेण्ड - उमरगा - 20 कि.मी., नारंगवाड़ी - 7 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - उक्त स्थानों में से किसी भी स्थान से सड़क मार्ग द्वारा निकटतम प्रमुख नगर - उमरगा - 20 कि.मी., लातूर - 50 कि.मी., कासार सिरसी - 12 कि.मी., प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री 1008 भगवान पार्श्वनाथ और श्री पंचभैरव क्षेत्रपाल दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र अध्यक्ष - श्री फूलचन्दजी चन्द्रकांत जैन,इंगलवार (9422206711) मंत्री - श्री विजयकुमार नाभिराज, जमालपुरे, नाईचाकुर (07588936801, 09527691666) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 02 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं। ऐतिहासिकता : क्षेत्रपालजी की मनोभाव से पूजा अर्चा करने से भक्तों की इच्छा पूर्ति होती है। ऐसा भक्तजनों का विश्वास है। पुराना अतिशय क्षेत्र है। इच्छा पूर्ति के लिए यात्री भगवान पार्श्वनाथ एवं क्षेत्रपाल जी के दर्शन करने आते हैं। यह मंदिर पुराना है, जागृत देवस्थान है। भूकम्प आने से मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया है। नये भव्य मंदिर का निर्माण हुआ है। वार्षिक मेले या विशेषआयोजन: वार्षिक यात्रा पौष अमावस्या को होती है। समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - आष्टाकांसार, तह.-लोहारा - 40 कि.मी., सांवरगांव-90 कि.मी., तेर 120 कि.मी., कुंथलगिरि 150 कि.मी., हरसुर अतिशय क्षेत्र जिला - गुलबर्गा - 120 कि.मी., श्री पद्मावती देवी अतिशय क्षेत्र हुणसे हडगली जिला- गुलबर्गा -85 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  5. सिद्ध क्षेत्र कुंथलगिरि महाराष्ट्र नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन सिद्धक्षेत्र, कुंथलगिरि तहसील - भूम, जिला - उस्मानाबाद (महाराष्ट्र) पिन-413503 टेलीफोन - 02478 - 276860, 07721053995 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 28, कमरे (बिना बाथरूम) - 45 हाल -1, (यात्री क्षमता - 100), गेस्ट हाऊस -1 यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 2000. अन्य - आधुनिक सुविधा युक्त 3 धर्मशालाएँ हैं। वी.आय.पी सूट भी है। भोजनशाला - नियमित, सशुल्क पुस्तकालय - है, नियमित पाक्षिक मासिक पत्रिकाएँ औषधालय - नहीं एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- हैं विद्यालय - है, 1. श्री देशभूषण कुलभूषण ब्र. आश्रम, 2. श्री देशभूषण कुलभूषण विद्यालय आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - कुर्डवाड़ी - 75 कि.मी., सोलापुर - 120 कि.मी. बस स्टेण्ड - कुंथलगिरि - फाटा - 2 कि.मी., भूम - 12 कि.मी. पहुँचने का सरलतम मार्ग - सोलापुर से 120 कि.मी., औरंगाबाद से 200 कि.मी. बीड़ से 60 कि.मी. निकटतम प्रमुख नगर - बीड़, बार्शी, उस्मानाबाद - 60 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री दिगम्बर जैन सिद्धक्षेत्र, कुंथलगिरि अध्यक्ष - श्री अरविन्द रावजी दोशी मंत्री - श्री बालचन्द नानचन्द संघवी (02112 - 222426) प्रबन्धक - श्री शहा यु. आर. (02478 - 276860) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 11 क्षेत्र पर पहाड़ : है (150 सीढ़ियाँ है।), डोली की व्यवस्था है। ऐतिहासिकता : यह क्षेत्र कुलभूषण एवं देशभूषण मुनिवरों की मोक्ष स्थली है। यहाँ पर शांतिनाथ मंदिर के निकट चारित्र चक्रवर्ती आ. श्री शांतिसागरजी महाराज की समाधि सन् 1955 में हुई थी एवं समाधि स्थल परचरण- चिन्ह निर्मित है।यहाँ छोटा पहाड़ है। पहाड़ पर एवं नीचे भी मंदिर हैं। पहाड़ी पर 7 एवं तलहटी में 4 मन्दिर हैं। पहाड़ी पर - (1) कुलभूषण - देशभूषण का मन्दिर, (2) शांतिनाथ मन्दिर, (3) बाहुबली मन्दिर, (4) आदिनाथ मन्दिर, 5) अजितनाथ मन्दिर, (6) चैत्य, (7) नंदीश्वर जिनालय हैं। तलहटी में (1) नेमिनाथजी, (2) महावीरस्वामी, (3) रत्नत्रय, (4) समवशरण मन्दिर हैं। यहाँ गुरुकुल भी है। वार्षिक मेला : मार्गशीर्ष शु.पूर्णिमा, आ. शांतिसागर महापुण्य तिथि-भाद्र शु.-2 एतिहासिक एवं दर्शनीय : उस्मानाबाद गुफाऐं -60 कि.मी. समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र तेर - 60 कि.मी.,काठी सावरगांव - 115 कि.मी, कचनेर - 165 कि.मी., पैठण -140 कि.मी.,बीजापुर-220 कि.मी.,दहीगाँव-180 कि.मी., कुभोज -275 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|
  6. अतिशय क्षेत्र आष्टा (कासार) महाराष्ट्र नाम एवं पता - श्री विघ्नहर पार्श्वनाथ दि. जैन मन्दिर अतिशय क्षेत्र, आष्टा (कासार) तहसील - लोहारा, जिला - उस्मानाबाद (महाराष्ट्र) पिन - 413604 टेलीफोन - 02475 - 259015 क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ आवास - कमरे - 6, त्यागी निवास - 1 (44' x 12'), हाल - 3 (यात्री क्षमता - 250) प्रवचन हॉल - 1 (60' x40') मंदिर में बिजली, कुँआ एवं बर्तन भी उपलब्ध हैं। भोजनशाला - सशुल्क - अनुरोध पर औषधालय - शासकीय ग्रामीण रुग्णालय है। पुस्तकालय - है। विद्यालय - है संस्था - शासकीय अनुदान प्राप्त है एस.टी.डी./ पी.सी.ओ.- है। आवागमन के साधन रेल्वे स्टेशन - सोलापुर - 65 कि.मी. बस स्टेण्ड - आष्टा (कासार) पहुँचने का सरलतम मार्ग - सोलापुर - हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 9 पर आष्टा मोड़ पर समस्त दिशाओं से आने-जाने वाली बसें रूकती हैं, वहाँ से 5 कि.मी. आष्टा गांव तक पक्की सड़क है। निकटतम प्रमुख नगर - सोलापुर - 65 कि.मी., उस्मानाबाद जिला - 70 कि.मी., लातूर - 100 कि.मी. प्रबन्ध व्यवस्था संस्था - श्री विघ्नहर पार्श्वनाथ दि. जैन मन्दिर अतिशय क्षेत्र,आष्टा (कासार) अध्यक्ष - श्री अरिंजय लीलाचन्द गांधी, अक्कलकोट (02181-220291) मंत्री - श्री बाबूराव रंगनाथराव भस्मे, आष्टा (कासार) (02475-259015) क्षेत्र का महत्व क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 01 क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं ऐतिहासिकता : यह अति प्राचीन अतिशय क्षेत्र है। विघ्न आने पर भक्तिभाव से घी का अभिषेक करने पर विघ्न दूर हो जाता है, ऐसी लोगों की श्रद्धा है। पद्मासन प्रतिमा के सिर पर सर्प लांछन न होकर पाद पीठ पर सर्प लांछन बना हुआ है। यह क्षेत्रकासार आष्टा' के नाम से जाना जाता है। विशेष जानकारी : भगवान पार्श्वनाथ के केवलज्ञान कल्याणक पर प्रतिवर्ष तीर्थ पर चैत्रवदी चौथ का वार्षिक मेला लगता है। कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध-प्रदेश से तीर्थ यात्री आते हैं। बरसात में क्षेत्र दर्शनीय हो जाता है एवं महल के ऊपर से पानी गिरता है। समीपवर्तीतीर्थक्षेत्र - सांवरगांव - 45 कि.मी., नाईचाकूर - 50 कि.मी., तड़कल - 70 कि.मी., तेर - 90 कि.मी. ये सभी अतिशय क्षेत्र हैं। सिद्धक्षेत्र, कुंथलगिरि - 120 कि.मी., नलदुर्गका किला - 15 कि.मी. आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 
  7.  

×
×
  • Create New...