Jump to content
Sign in to follow this  
  • entries
    2
  • comments
    0
  • views
    48

Entries in this blog

 

दसलक्षण पर्व को दसलक्षण पर्व ही बोलें

दसलक्षण पर्व को दसलक्षण पर्व ही बोलें* आज मैं आप सभी का ध्यान एक बात की ओर आकर्षित करना चाहता हूं।        हम सब लोग हमारे *दसलक्षण पर्व* को *पर्युषण* बोलते हैं, और *पर्यूषण* के नाम से ही जानते हैं। इतना ही नहीं हमारे *दिगंबर जैन समाज के अधिकांश लोग इसे पर्यूषण ही कहते हैं,* जबकि वास्तविकता यह है कि *पर्यूषण श्वेतांबर परम्परा में कहा जाता है, जो 8 दिन के होते हैं। जबकि दिगम्बर परम्परा में दसलक्षण पर्व 10 दिन के होते हैं।* और खास बात यह होती है, कि *जिस दिन हमारे दसलक्षण पर्व प्रारम्भ होते
 

जिन प्रतिमाओं के मंजन करने की विधि

*प्रतिमाओं का मंजन*        *विधि एवं आवश्यक सावधानियां*     _*कुछ ही दिनों में हमारे दसलक्षण पर्व प्रारंभ हो जाएंगे, और उसके पूर्व मंदिर जी में प्रतिमाओं का मंजन प्रारंभ हो जाएगा।*_       प्रतिमाओं के मंजन के संबंध में लोगों को भ्रांति रहती है,  अतः मार्गदर्शन स्वरूप यह पोस्ट दी जा रही है। *मंजन पूर्व की तैयारी-* 1- *खजूर की छोटी-छोटी डंडी लेकर उसका सिरा पत्थर से कूटकर उसे ब्रश जैसा बना लेना चाहिए, जिससे प्रतिमा पर जमे हुए दागों को साफ किया जा सके।* *2- लोंग का चूरा ब
Sign in to follow this  
×
×
  • Create New...