Jump to content
JainSamaj.World

Dr. RAVI KANT JAIN

Members
  • Content Count

    1
  • Joined

  • Last visited

Community Reputation

0 Neutral

About Dr. RAVI KANT JAIN

  • Rank
    Newbie
  1. आज सुबह जब मेरे पति ने 17 तारीख को जैन समाज के भावी पदाधिकारियों द्वारा भोजन आमंत्रण की सूचना दी तो मैं अनायास ही चुनाव की तारीख के बारे मे पूछ बैठी। लेकिन यह जानकर हैरत मे पड़ गयी की हम महिलाओ को तो समाज मे वोट देने का अधिकार ही नही हे। क्या हमारी सबसे संपन्न और सभ्य कही जाने वाली समाज की मानसिकता इतनी संकीर्ण हे की यहा महिलाओ को पुरूषों के समानधीकार प्राप्त नही हौ सकते। क्या ये नियम मुसलमानों के तीन तलाक से बदतर नही हे ? हमारे लोकतांत्रिक देश मे एसे नियमों को कैसे स्वीकार किया जा सकता हे ? मै जानना चाहती हूँ कि समाज के किन ठेकेदारों ने यह निर्णय लिया और किस भाव से सभी वरिष्ठ जनों ने
×
×
  • Create New...