Jump to content
Sign in to follow this  

सिद्ध चक्र स्तुति


admin

श्री सिद्ध चक्र का पाठ, करो दिन आठ ।

ठाठ से प्रानी, फल पायो मैना रानी ।।

 

मैना सुंदरी एक नारी थी, कौड़ी पति लाख दुखियारी थी ।

नहीं पड़े चैन दिन रैन व्यथित अकुलानी।। फल पायो००

 

जो पति का कुष्ठ मिटाउंगी, तो उभयलोक सुख पाउंगी ।

नहीं अजा गल स्तन वत्त, निष्फल जिंदगानी । फल पायो ००

 

एक दिन गयी जिं मंदिर में, दर्शन कर अति हरषी उर में ।

फिर लाखे साधू निर्ग्रन्थ दिगंबर ज्ञानी ।। फल००

 

बैठी कर मुनि को नमस्कार, निज निंदा करती बार बार ,

भर अश्रु नयन कही मुनि सों, दुखद कहानी ।। फल ००

 

बोले मुनि पुत्री! धैर्य धरो, श्री सिद्धचक्र का पाठ करो ।

नहीं रहे कुष्ठ की तन में नाम निशानी ।। फल००

 

सुन साधू वचन हरषी मैना, नहीं होय झूठ मुनि की बैना ।

करके श्रद्धा श्री सिद्धचक्र की ठानी।। फल००

 

जब पर्व अढाई आया था, उत्सव युक्त पाठ कराया था ।

सब के तन छिड़का यन्त्र न्वहन का पानी ।। फल००

 

गंधोदक छिड़क वसु दिन में, नहीं रहा कुष्ठ किंचित तन में ।

भई सात शतक की काय स्वर्ण समानी ।। फल००

भाव भोग भोगी योगीश भये, श्रीपाल कर्म हनी मोक्ष गए ।

दूजे भव मैना पावें शिव रजधानी ।। फल००

 

जो पाठ करे मन वच तन से, वे छुट जाए भव बंधन से।

मक्खन मत करो विकल्प कहे जिनवाणी । फल पायो००

श्री सिद्ध चक्र का पाठ, करो दिन आठ ।

ठाठ से प्रानी, फल पायो मैना रानी ।।

Sign in to follow this  



×