Jump to content
JainSamaj.World

Mrs Amita jain

Members
  • Content Count

    18
  • Joined

  • Last visited

Everything posted by Mrs Amita jain

  1. अनंतवीर्य

  2. केवलज्ञान जिन्होंने पाया, भरत क्षेत्र में प्रथम कहाया। प्रथम प्रभु का नाम बताओ, केवलज्ञानी तुम बन जाओ॥ अनंतवीर्य जी
  3. 1. स्वप्न : स्वप्न में एक अति विशाल श्वेत हाथी दिखाई दिया। 2. दूसरा स्वप्न : श्वेत वृषभ। 3. तीसरा स्वप्न : श्वेत वर्ण और लाल अयालों वाला सिंह 4. चौथा स्वप्न : कमलासन लक्ष्मी का अभिषेक करते हुए दो हाथी। 5. पांचवां स्वप्न : दो सुगंधित पुष्पमालाएं। 6. छठा स्वप्न : पूर्ण चंद्रमा। 7. सातवां स्वप्न : उदय होता सूर्य। 8.आठवां स्वप्न : कमल पत्रों से ढंके हुए दो स्वर्ण कलश। 9. नौवां स्वप्न : कमल सरोवर में क्रीड़ा करती दो मछलियां। 10. दसवां स्वप्न : कमलों से भरा जलाशय। 11. ग्यारहवां स्वप्न : लहरें उछालता समुद्र। 12. बारहवां स्वप्न : हीरे-मोती और रत्नजडि़त स्वर्ण सिंहासन। 13. तेरहवां स्वप
  4. कामनाएँ मोक्ष की और भावनाएँ भोग की , जिंदगी जंजाल है बस इसी संजोग की , चाहती हूँ सब सही हो किन्तु हो पाता नही, कब अवज्ञा हो गई कुछ भी समझ आता नही, इस विकट संग्राम को किस शस्त्र के बल पर लड़ू , आपसे *उत्तम छमा* मिल जाये तो आगे बढू । मन, वचन,काय से क्षमा चाहती हूं। 🙏 🙏 🙏 आमोद, अमिता एवम समस्त परिवार कानपुर।
  5. कामनाएँ मोक्ष की और भावनाएँ भोग की ,
    जिंदगी जंजाल है बस इसी संजोग की ,
    चाहती हूँ सब सही हो किन्तु हो पाता नही,
    कब अवज्ञा हो गई कुछ भी समझ आता नही,
    इस विकट संग्राम को किस शस्त्र के बल पर लड़ू ,
    आपसे *उत्तम छमा* मिल जाये तो आगे बढू ।
    मन, वचन,काय से क्षमा चाहती हूं।
              🙏 🙏 🙏
    आमोद, अमिता एवम समस्त परिवार कानपुर।

×
×
  • Create New...