Jump to content
JainSamaj.World

Varsha Walali

Members
  • Content Count

    5
  • Joined

  • Last visited

Everything posted by Varsha Walali

  1. MAI Varsha Prashant Walali sankalp let hu mera pura parivar kabhibhi patakhe nahi jalyeng Mai Varsha Prashant Walali sankalp leti hu mai apne parivar k sath kabhi bhi patakhe nahi jalaungi
  2. तीन मंकार (मधु मांस,मदिरा)त्याग और पंच उदंबर त्याग
  3. निक्षेप का अर्थ है- प्रस्तुत अर्थ का बोध देने वाली शब्द संरचना ।
  4. मतिज्ञान के विषयभूत पदार्थ से भिन्न पदार्थ का ज्ञान श्रुतज्ञान है। मतिज्ञान—इंद्रिय और मन के द्वारा होने वाला ज्ञान मतिज्ञान है
×
×
  • Create New...