Jump to content
Sign in to follow this  

माँ जिनवाणी ममता न्यारी


admin

माँ जिनवाणी ममता न्यारी, प्यारी प्यारी गोद हैं थारी।

आँचल में मुझको तू रख ले, तू तीर्थंकर राज दुलारी ॥

 

वीर प्रभो पर्वत निर्झरनी, गौतम के मुख कंठ झरी हो ।

अनेकांत और स्यादवाद की, अमृत मय माता तुम्ही हो ।

भव्य जानो की कर्ण पिपिसा, तुमसे शमन हुई जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

सप्त्भंगमय लहरों से माँ, तू ही सप्त तत्व प्रगटाये ।

द्रव्य गुणों अरु पर्यायों का, ज्ञान आत्मा में करवाये ।

हेय ज्ञेय अरु उपादेय का, बहन हुआ तुमसे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

तुमको जानू तुमको समझू, तुमसे आतम बोध में पाऊ ।

तेरे आँचल में छिप छिप कर, दुग्धपान अनुयोग का पाऊ ।

माँ बालक की रक्षा करना, मिथ्यातम को हर जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

धीर बनू में वीर बनू माँ, कर्मबली को दल दल जाऊ ।

ध्यान करू स्वाध्याय करू बस, तेरे गुण को निशदिन गाऊ ।

अष्ट करम की हान करे यह, अष्टम क्षिति को दे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

ऋषि यति मुनि सब ध्यान धरे माँ, शरण प्राप्त कर कर्म हरे ।

सदा मात की गोद रहू में, ऐसा सिर आशीष फले ।

नमन करे स्यादवाद मति नित, आत्म सुधारस दे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

Sign in to follow this  



×
×
  • Create New...