Jump to content
JainSamaj.World

माँ जिनवाणी ममता न्यारी


माँ जिनवाणी ममता न्यारी, प्यारी प्यारी गोद हैं थारी।

आँचल में मुझको तू रख ले, तू तीर्थंकर राज दुलारी ॥

 

वीर प्रभो पर्वत निर्झरनी, गौतम के मुख कंठ झरी हो ।

अनेकांत और स्यादवाद की, अमृत मय माता तुम्ही हो ।

भव्य जानो की कर्ण पिपिसा, तुमसे शमन हुई जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

सप्त्भंगमय लहरों से माँ, तू ही सप्त तत्व प्रगटाये ।

द्रव्य गुणों अरु पर्यायों का, ज्ञान आत्मा में करवाये ।

हेय ज्ञेय अरु उपादेय का, बहन हुआ तुमसे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

तुमको जानू तुमको समझू, तुमसे आतम बोध में पाऊ ।

तेरे आँचल में छिप छिप कर, दुग्धपान अनुयोग का पाऊ ।

माँ बालक की रक्षा करना, मिथ्यातम को हर जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

धीर बनू में वीर बनू माँ, कर्मबली को दल दल जाऊ ।

ध्यान करू स्वाध्याय करू बस, तेरे गुण को निशदिन गाऊ ।

अष्ट करम की हान करे यह, अष्टम क्षिति को दे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०

 

ऋषि यति मुनि सब ध्यान धरे माँ, शरण प्राप्त कर कर्म हरे ।

सदा मात की गोद रहू में, ऐसा सिर आशीष फले ।

नमन करे स्यादवाद मति नित, आत्म सुधारस दे जिनवाणी ॥

आँचल में मुझको तू रख ले ०

माँ जिनवाणी ०



×
×
  • Create New...