Jump to content
JainSamaj.World

आज 5 सितम्बर 2020 की पहेली


Recommended Posts

कर्म धूल को हैं चिपकाती, आतम को मैला है बनाती । 

नाम कषायों के भेद सहित  बतलाओ, छुटकारा तुम इनसे पाओ ॥

रात्रि 10 बजे तक उत्तर दे सकते हैं 

सभी के द्वारा दिए गए उत्तर रात्रि 10 बजे तक छुपे रहेंगे 

 

Link to post
Share on other sites

कषाय के 25 भेद है

16 कषाय+9 नोकषाय

क्रोध, मान, माया, लोभ

चारो के चार भेद

अनंतानुबंघी कषाय

अप्रत्याख्यानावरण कषाय

प्रत्याख्यानावरण कषाय

संज्जवलन कषाय

हास्य, रति, आरति, शोक, भय, जुगुप्सा, स्त्रीवेद, पुरुषवेेद, नपुंसाकवेद

Link to post
Share on other sites
7 hours ago, admin said:

कर्म धूल को हैं चिपकाती, आतम को मैला है बनाती । 

नाम कषायों के भेद सहित  बतलाओ, छुटकारा तुम इनसे पाओ ॥

रात्रि 10 बजे तक उत्तर दे सकते हैं 

सभी के द्वारा दिए गए उत्तर रात्रि 10 बजे तक छुपे रहेंगे 

 

कषाय सामान्य से चार प्रकार की होती हैं। क्रोध, मान, माया, लोभ। इनमें अनन्तानुबन्धी क्रोध, मान, माया, लोभ। अप्रत्याख्यानावरण क्रोध, मान, माया, लोभ । प्रत्याख्यानावरण क्रोध, मान, माया, लोभ एवं संज्वलन क्रोध, मान, माया, लोभ।

7 hours ago, admin said:

कर्म धूल को हैं चिपकाती, आतम को मैला है बनाती । 

नाम कषायों के भेद सहित  बतलाओ, छुटकारा तुम इनसे पाओ ॥

रात्रि 10 बजे तक उत्तर दे सकते हैं 

सभी के द्वारा दिए गए उत्तर रात्रि 10 बजे तक छुपे रहेंगे 

 

कषाय सामान्य से चार प्रकार की होती हैं। क्रोध, मान, माया, लोभ। इनमें अनन्तानुबन्धी क्रोध, मान, माया, लोभ। अप्रत्याख्यानावरण क्रोध, मान, माया, लोभ । प्रत्याख्यानावरण क्रोध, मान, माया, लोभ एवं संज्वलन क्रोध, मान, माया, लोभ।

Link to post
Share on other sites

आनंतानुबंधी_ क्रोध, मान, माया व लोभ

अप्रत्याख्यानावरण _क्रोध ,मान ,माया व लोभ

प्रत्याख्यानावरण _क्रोध, मान, माया व लोभ

संज्वलन _क्रोध ,मान ,माया,व लोभ

Link to post
Share on other sites

कषाय के 25 भेद हैै-16 कषाय+9 नोकषाय

क्रोध, मान, माया, लोभ

चारो के चार भेद

अनंतानुबंघी कषाय

अप्रत्याख्यानावरण कषाय

प्रत्याख्यानावरण कषाय

संज्जवलन कषाय

9 नोकाषय हास्य ,रति, आरति, शोक, भय, जुगुप्सा, स्त्रीवेद, पुरुषवेेद, नपुंसाकवेद

Link to post
Share on other sites

कसाय चार होती हैं।

क्रोध मान माया लोभ। चार कषाय के चार चार भेद होते हैं। 1 अनंतानुबंधी क्रोध मान माया लोभ।

2 अप्रत्यख्यान क्रोध मान माया लोभ

3 प्रत्यख्यान क्रोध मान माया लोभ

4 संजुलन क्रोध मान माया लोभ

हास्य, रति, अरति, भय जुगुप्सा, शोक स्त्री भेद, नपुंसक भेद, पुरुष भेद। इस प्रकार कषाय के कुल 25 भेद हुए।

Link to post
Share on other sites
  • admin locked this topic
Guest
This topic is now closed to further replies.
  • अपना अकाउंट बनाएं

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...