Jump to content
JainSamaj.World

श्री दि. जैन अतिशय क्षेत्र, नवागढ़, ललितपुर (उ.प्र.)


Recommended Posts

अतिशय क्षेत्र नवागढ़ (नन्दपुर)

नाम एवं पता - श्री दि. जैन अतिशय क्षेत्र, नवागढ़, ग्राम - नावई, पो. सोजना, तहसील - महरौनी, जिला-ललितपुर (उ.प्र.)-284405

टेलीफोन - कार्यालय - 097943 19739, 097943 19739

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 6, कमरे (बिना बाथरूम) - 13 हाल - 1 (यात्री क्षमता-50)

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 200

भोजनशाला - है, अनुरोध पर निःशुल्क

वृती आश्रम, संत निवास - है।

औषधालय - प्रस्तावित

पुस्तकालय - है।

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन - झांसी 130 कि.मी., ललितपुर 60 कि.मी.,टीकमगढ़ से व्हाया डूडा 30 कि.मी.,

बस स्टेण्ड - सोजना मैनवार 4 कि.मी.,

पहुँचने का सरलतम मार्ग - ललितपुर, व्हाया, महरौनी, सोजना होकर नवागढ़। झांसी से टीकमगढ़ अजनौर डूंडा होकर नवागढ़। टीकमगढ़, से वाहन सेवा उपलब्ध

निकटतम प्रमुख नगर - ललितपुर (उ.प्र.)-60 कि.मी., टीकमगढ़ (म.प्र.)-30 कि.मी.

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - श्री दि. जैन अतिशय क्षेत्र कमेटी, नवागढ़

क्षेत्र संरक्षक - श्री गजराज गंगवाल, दिल्ली ।

निर्देशक - ब्र. जयकुमार ‘निशांत' (09425141697)

अध्यक्ष - श्री सिंघई हीरालाल जैन (089599 38651)

मंत्री - श्री सनत कुमार जैन, अधिवक्ता (094500 32409)

कोषाध्यक्ष - श्री सेठ दयाचन्द जैन (094251 45675)

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 03, वेदी संख्या 5, मानस्तंभ 1, चरण - 26

क्षेत्र पर पहाड़ - लघु पहाड़ी

ऐतिहासिकता - भगवान अरहनाथ की 12वीं सदी की प्राचीन खड्गासन 4 फुट -6 इंच उंचाई की भौंहरे में महिचंद्र पुत्र देल्हण द्वारा स्थापित अतिशयकारी मूर्ति विराजमान है। विशाल संग्रहालय में पुरातत्त्व विभाग में रजिस्टर्ड शताधिक प्राचीन संस्कृति को सुरक्षित किया गया है, जिसमें संवत् 1203 के मानस्तम्भ एवं प्रतिमाएं भी है। बहुत सी प्राचीन प्रतिमायें एवं अनेक कलात्मक सामग्री उपलब्ध है।

वार्षिक मेला - प्रति वर्ष चैत्रकृष्ण अमावस्या भगवान अरहनाथ के मोक्ष कल्याणक को 3 दिन का मेला लगता है।

विशेष - क्षेत्र से 3 कि.मी. दूरी पर प्राचीन गुफाएँ जो संतों की प्राचीन साधना स्थली हैं। शैलाश्रम एवं प्रागैतिहासिक शैल चित्र विशेष दर्शनीय हैं।

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र 

अहारजी-50 कि.मी., पपौराजी-25 कि.मी., द्रोणागिरि-45 कि.मी., बंधाजी - 65 कि.मी., बानपुर - 35 कि.मी., बड़ागांव-10 कि.मी., देवगढ़-100 कि.मी., नैनागिरि -70 कि.मी. 24

आपका सहयोग :

जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 

 

Link to post
Share on other sites
  • अपना अकाउंट बनाएं

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...