Jump to content
admin

श्री दि. जैन प्राचीन अतिशय क्षेत्र, चन्द्रवाड़, फिरोजाबाद, उ. प्र.

Recommended Posts

अतिशय क्षेत्र चन्दवाड (फिरोजाबाद)

नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन प्राचीन अतिशय क्षेत्र, चन्द्रवाड़, ग्राम-चन्द्रवाड़, तह. एवं जिला - फिरोजाबाद (उत्तरप्रदेश) पिन - 283 203

टेलीफोन - 09219396072

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - X कमरे (बिना बाथरूम)-5, हाल - 02(यात्री क्षमता-100) निर्माणाधीन

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 110

भोजनशाला - नहीं

विद्यालय - है ।

एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- 1 कि.मी. गढीतिवारी पर

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन -  फिरोजाबाद - 6 कि.मी.

बस स्टेण्ड - फिरोजाबाद - 6 कि.मी.(फिरोजाबाद से आसाबाद गढ़ी तिवारीचौराहा)

पहुँचने का सरलतम मार्ग - फतिहाबाद - 12 कि.मी. आगरा से फतिहाबाद होकर एवं शौरीपुर से जलालपुर होकर

निकटतम प्रमुख नगर - फिरोजाबाद - सड़क मार्ग - 6 कि.मी.

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - श्री दि. जैन अतिशय क्षेत्र चन्द्रवाड़ समिति (रजि.)

निर्देशक - प्राचार्य श्री नरेन्द्र प्रकाश जैन (09358581008)

अध्यक्ष - श्री पुष्पेन्द्र कुमार जैन (094122 67608)

उपाध्यक्ष - श्री नितेश अग्रवाल जैन (09410008856)

प्रबन्धक - श्री योगेन्द्र प्रकाश जैन (098376 10371)

मैनेजर - श्री पंकज जैन (094582 80335, 092193 96072)

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 02 (प्राचीन मंदिर एवं चरण मंदिर, ऐतिहासिक वट वृक्ष)

क्षेत्र पर पहाड़ - नहीं (किले पर मंदिर)

ऐतिहासिकता - प्राचीन दि.जैन तीर्थक्षेत्र, जो कि 22 वें तीर्थंकर 1008 भगवान नेमिनाथ की जन्मस्थली शौरीपुर- बटेश्वर की 108 वर्ग योजन की परिधि में फिरोजाबाद से 6 कि.मी. दक्षिण दिशा में स्थित है। विद्वान, कवियों, सिद्धों की तपस्थली, भगवान नेमिनाथ की क्रीड़ा स्थली, 5। पंचकल्याणक प्रतिष्ठाओं की भूमि। वर्तमान में जैन मंदिर जीर्ण-शीर्ण हालत में। जब भी खुदाई होती है कुछ न कुछ मूल्यवान वस्तु निकलती है। क्षेत्र पर अनेक प्रसिद्ध कवियों यथा रइधू तथा श्रीधर द्वारा महत्वपूर्ण ग्रंथों का सृजन, फिरोजाबाद के अनेक मन्दिरों विशेषत: बड़े मंदिर एवं अटावाला मन्दिर में विराजित मूर्तियाँ चन्द्रवाड़ से प्राप्त । चन्द्रप्रभु दि. जैन मन्दिर में विराजित स्फटिक मणि की विशाल मूर्ति चन्द्रवाड़ के समीप यमुना से प्राप्त । जैन मुनियों का आवागमन निरंतर होता रहता है।

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र

शौरीपर बटेश्वर - 22 कि.मी. बाहुबली - 06 कि.मी., राजमल - 20 कि.मी., फरिहा - मरसलगंज - 18 कि.मी., आगरा-35 कि.मी. 225

आपका सहयोग :

जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 

  • Thanks 1

Share this post


Link to post
Share on other sites

  • अपना अकाउंट बनाएं

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...