Jump to content
Sign in to follow this  
admin

आचार्य कुन्दकुन्द जैन संस्कृति सेन्टर, पौन्नूरमलै, तिरूवन्नमलै (तमिलनाडु)

Recommended Posts

तपोभूमि | पौन्नूरमलै।

नाम एवं पता - आचार्य कुन्दकुन्द जैन संस्कृति सेन्टर, पौन्नूरमलै अतिशय क्षेत्र ग्रा.-कुन्दकुन्दनगर

तह.-वन्दावासी, पो.-वडावणक्कमवाड़ी जिला-तिरूवन्नमलै (तमिलनाडु) पिन - 604 505

टेलीफोन - 04183 - 291136, 094441 38289

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 08, तपोनिलयम में - 10, कमरे (बिना बाथरूम) - 06 हाल - 1 (यात्री क्षमता -25), गेस्ट हाऊस - 2

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 100.

भोजनशाला - नियमित - निःशुल्क

औषधालय - है।

पुस्तकालय - है।

विद्यालय - है

व्रती आश्रम - है।

एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - नहीं

रेल्वे स्टेशन - तिरूवन्नमलै - 60 कि.मी., चेन्नई - 125 कि.मी., कांजीपुरम-50 कि.मी.

बस स्टेण्ड - वन्दावासी-10 कि.मी., चितपेट-15 कि.मी. बस क्र 15बी, 148, 208,422, 130, 104

पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क मार्ग - बस, कार, जीप द्वारा, यहाँ का बस स्टेण्ड पौन्नूर आई.टी.आई. या वन्दावासी होकर तिरुवल्लुवुर इंजीनियर कॉलेज से प्रसिद्ध है।

निकटतम प्रमुख नगर - वन्दावासी - 8 कि.मी., चेन्नई - 125 कि.मी., तिरूवन्नमलय - 60 कि.मी.

प्रबन्ध व्यवस्था

अध्यक्ष - श्री वसंतलाल एम. दोसी (०9820248383)

कार्याध्यक्ष - श्री अनन्तराय सेठ (09867128508)

महामंत्री - श्री सी.एस.पी. जैन (09444053510)

प्रबंधक - श्री राजीवकुमार जैन (04183-291136)

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या - 04

क्षेत्र पर पहाड़ - है। सीढ़ियाँ 333 हैं।

ऐतिहासिकता - आचार्य कुन्दकुन्द स्वामी की यह तपोभूमि है, यहीं से वे विदेह क्षेत्र को गये थे। पहाड़ी पर आचार्यश्री की प्राचीन सातिशय चरण पादुकाएँ हैं। उनकी स्मृति में प्रति रविवार को पहाड़ पर यात्रा होती है। निर्धन छात्रों के लिये आवासीय स्कूल है। यहाँ की जलवायु स्वास्थ्यवर्द्धक है।

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र

तिरूमलयनेमिनाथ पहाड़ी मन्दिर - 50 कि.मी., करन्डाई -50 कि.मी., चित्तमूर पार्श्वनाथ मंदिर-50 कि.मी.,कांचीपुरम-50 कि.मी., मेलसीतामुर-50 कि.मी.

आपका सहयोग :

जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें| 

Share this post


Link to post
Share on other sites
Sign in to follow this  

×
×
  • Create New...