Jump to content
JainSamaj.World

श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, कुन्थुगिरि, दहेमश्री नगर, कोल्हापुर (महा.)


Recommended Posts

अतिशय क्षेत्र कुन्थुगिरि महाराष्ट्र

नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र, कुन्थुगिरि, दहेमश्री नगर मु. पो.-आलते, हातकणंगले, रामलिंग रोड़,जि.-कोल्हापुर (महा.)

पिन -416123

टेलीफोन - 0230-2487766,2487500 मो.: 09921741008, 09921791008

 

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - कमरे (अटैच बाथरूम) - 35, कमरे (बिना बाथरूम)-20  हाल - 1, (यात्री क्षमता-5000) गेस्ट हाऊस - 1

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 1000. अन्य : 5000 यात्रियों (धर्मानुरागियों) के बैठने की क्षमता वाला प्रवचन हॉल, भव्य बॉटनीकल गार्डन, वृद्ध साधुओं के लिए भारत का एकमात्र विशिष्ट आश्रम

भोजनशाला - है, नियमित, सशुल्क

औषधालय -

पुस्तकालय - है।

विद्यालय -

एस.टी.डी./पी.सी.ओ.- है।

 

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन - मिरज, हातकणंगले - 5 कि.मी.

बस स्टेण्ड - सांगली

पहुँचने का सरलतम मार्ग - ट्रेन से मिरज, मिरज से क्षेत्र निकट है।

निकटतम प्रमुख नगर - इचलकरंजी - 15 कि.मी., सांगली - 22 कि.मी., कोल्हापुर-25 कि.मी.

 

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - श्री गणाधिपति गणधराचार्य कुंथुसागर विद्या शोघ संस्थान

अध्यक्ष - श्री आर.के. जैन (09323003006)

महामंत्री - श्री कैलाशचन्द चांदीवाल

 

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 09

क्षेत्र पर पहाड़ : है। 7 कि.मी. का घुमावदार रास्ता है। वाहन ऊपर तक जाते है, कुल 11 मंदिर है, खड्गासन की 24 प्रतिमाएँ है।

ऐतिहासिकता : यह क्षेत्र सुरम्य पहाड़ी की तलहटी में बना हुआ है। यहाँ की प्रतिमाएं पूर्ण अतिशय युक्त हैं। मंदिर में चिन्तामणि भगवान पार्श्वनाथ की 9 फुट भव्य मनोहारी प्रतिमा है। जो 108 फणावली से उत्तुंग है। गणधराचार्य मुनि श्री कुन्थुसागर जी महाराज की प्रेरणा से नवोदित तीर्थ विकसित हुआ है।     

वार्षिक मेले : प्रति पूर्णिमा दोपहर 2 बजे महामस्तकाभिषेक, वार्षिक मेला लगता है। कुम्भोज बाहुबली-12 कि.मी., साजणी पार्श्वनाथ-10 कि.मी., कोथली-55 कि.मी., धर्मनगर - 15 कि.मी.

आपका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|

Link to post
Share on other sites
  • अपना अकाउंट बनाएं

    • कमेंट करने के लिए लोग इन करें 
    • विद्यासागर.गुरु  वेबसाइट पर अकाउंट हैं तो लॉग इन विथ विद्यासागर.गुरु भी कर सकते हैं 
    • फेसबुक से भी लॉग इन किया जा सकता हैं 

     

×
×
  • Create New...