Jump to content
admin

श्री दिगम्बर जैन रेवातट सिद्धोदय सिद्धक्षेत्र, नेमावर देवास (मध्यप्रदेश)

Recommended Posts

सिद्ध क्षेत्र नेमावर (सिद्धोदय) मध्यप्रदेश

नाम एवं पता - श्री दिगम्बर जैन रेवातट सिद्धोदय सिद्धक्षेत्र, नेमावर ग्राम-नेमावर, तहसील-खातेगांव, जिला-देवास (मध्यप्रदेश) पिन-455 339

टेलीफोन - 07274 - 277818, 277993, मो: 094253 45132

 

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास - फ्लेट (अटैच बाथरूम) - 18, कॉटेज (बिना बाथरूम) - 36 हाल - 4(यात्री क्षमता - 20०), गेस्ट हाउस -निर्माणाधीन

यात्री ठहराने की कुल क्षमता - 500.

भोजनशाला - सशुल्क

औषधालय - नहीं

पुस्तकालय - है।

विद्यालय - X

एस.टी.डी./पी.सी.ओ. - है (नेमावर में)

 

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन - हरदा - 22 कि.मी.

बस स्टेण्ड - नेमावर - 1 कि.मी., खातेगाँव - 14 कि.मी.

पहुँचने का सरलतम मार्ग - सड़क मार्ग - नेमावर से आटो रिक्शा / टैक्सी 

निकटतम प्रमुख नगर - खातेगांव - 14 कि.मी.हरदा - 22 कि.मी., इन्दौर - 130 कि.मी., भोपाल - 150 कि.मी., खण्डवा - 135 कि.मी.

 

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - श्री दि. जैन रेवातट सिद्धोदय सिद्धक्षेत्र ट्रस्ट, नेमावर

अध्यक्ष - श्री सुन्दरलाल जैन (बीड़ीवाले),इन्दौर (0731-2530645,2536765)

कार्याध्यक्ष - श्री संजय जैन-मैक्स,इन्दौर (09425053521)

महामंत्री - श्री बी.एल. जैन, हरदा (07577 - 223203)

मंत्री - श्री निर्मलकुमार पाटोदी, इंदौर (078699 17070)

प्रचार मंत्री - श्री सतीष कासलीवाल,खातेगांव (09827800788)

कोषाध्यक्ष - श्री महेन्द्रकुमार अजमेरा, हरदा (09993679938)

 

क्षेत्र का महत्व

क्षेत्र पर मन्दिरों की संख्या : 2, त्रिकाल चौबीसी तथा पंच बालयति मंदिर निर्माणाधीन

क्षेत्र पर पहाड़ : नहीं

ऐतिहासिकता : रावण के पुत्र सहित साढे पाँच करोड़ मुनिराज इस स्थली से मोक्ष पधारें हैं। वर्तमान में पूज्य श्री सिद्धसागरजी महाराज ने सल्लेखना पूर्वक समाधि प्राप्त की। लाल पत्थरों से विशाल पंचबालयति मन्दिर एवं त्रिकाल चौबीसी जिनालयों का निर्माण कार्य चल रहा है। इनमें अष्टधातु की खड्गासन भूत - वर्तमान -भविष्य की चौबीसी एवं पंच बालयति की प्रतिमाएँ विराजमान होना है। यहाँ गौशाला भी है। आचार्य श्री विद्यासागरजी की प्रेरणा से क्षेत्र का विकास व जनकल्याणकारी योजनाएँ चल रही हैं।

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र - सिद्धवरकूट - 160 कि.मी., गोम्मटगिरि - 140 कि.मी., भोजपुर - 165 कि.मी., मक्सी - 160 कि.मी., पुष्पगिरि - 100 कि.मी.

पका सहयोग : जय जिनेन्द्र बन्धुओं, यदि आपके पास इस क्षेत्र के सम्बन्ध में ऊपर दी हुई जानकारी के अतिरिक्त अन्य जानकारी है जैसे गूगल नक्षा एवं फोटो इत्यादि तो कृपया आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें| यदि आप इस क्षेत्र पर गए है तो अपने अनुभव भी लिखें| ताकि सभी लाभ प्राप्त कर सकें|

Share this post


Link to post
Share on other sites

×
×
  • Create New...